अंग्रेजन भाग रही थी करोड़ों के नोट ले कर पर पहुंच गई कहीं और

Share on facebook
Share on twitter
Share on google
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

लंदन. ये है एक सच्ची कहानी ब्रिटेन में रहने वााली एक महिला की जिसकी पहचान एक चोर के रूप में दुनिया भर में हो गई है. ये महिला ने चलना शुरू किया था ब्रिटेन से और उसकी मंजिल थी दुबई लेकिन वो पहुंची वहां जहां 13 बरस उसे चहरदीवारी के भीतर रहना भीतर रहना पड़ेगा और उसकी जमानत का भी कोई चांस दिखाई नहीं दे रहा है.

क्या पांच-पांच सूटकेस ले कर भागना समझदारी है

इस ब्रिटिश महिला को अकेले भागना चाहिये था तो शायद वो पकड़ में न आती, किन्तु पांच बड़े सूटकेस ले कर फरार होने का मतलब है पकड़ जाने की पूरी तैयारी कर लेना. ये पांचों सूटकेस नोटों से भरे थे और करीब दो मिलियन डॉलर याने साढ़े चौदह करोड़ रुपये थी उनकी कीमत. यह ब्रिटिश महिला थी तारा हैनलॉन जो निकली तो थी दुबई के लिये धर ली गई ऐन मौके पर मनी लॉन्ड्रिंग के आरोप में.

यात्रा हुई टर्मिनेट टर्मिनल टू पर

लंदन के हीथ्रो एयरपोर्ट के टर्मिनल टू पर तारा हैनलान की यात्रा टर्मिनेट हो गई. तारा हैरान रह गई. एयरपोर्ट अधिकारियों के अनुसार ये साल 2020 में एयरपोर्ट पर पकड़ी गई सबसे बड़ी धनराशि है. तीस वर्षीया तारा आराम से हीथ्रो एयरपोर्ट पर गुनगुनाती हुई आगे बढ़ रही थी, अचानक टर्मिनल 2 पर उसे अचरज हुआ जब उसे रोका गया. इस सामय तारा के सामने थी दुबई वाली फ्लाइट लेकिन उसके भी पहले उसके सामने खड़ी थी पुलिस. इतने पास की फ्लाइट तारा की पकड़ से बहुत दूर थी क्योंकि खुद तारा थी पुलिस की पकड़ में. उसे रोक कर एयरपोर्ट के अधिकारियों ने उसके हाथ में पकड़े बड़े सूटकेस की जांच की जिसके भीतर उनको नोटों से भरे पांच बड़े सूटकेस मिले.

तारा की सहेली भी धरा गई

तारा हैनलान अकेली नहीं थी. उसके पीछे कुछ दूरी पर चल रही थी उसकी सहेली. तारा को पुलिस के पंजे में देख कर सहेली से बड़ी गलती हो गई. उसने डर कर पीछे भागना शुरू कर दिया. लेकिन दुनिया जानती है कि चोर पुलिस की रेस में जीत पुलिस की होती है, सो तारा के साथ उसकी सहेली भी पकड़ी गई. तारा की सहेली डॉनकास्टर क्षेत्र की रहने वाली थी और अब दोनो सहेलियों के मामले की जांच राष्ट्रीय अपराध एजेंसी के हाथों में है. लोगों ने दोनो सहेलियों को बताया है कि उनको हो सकती है कम से कम चौदह सालों की जेल. न अंत भला न सब भला.

ट्रेंडिंग

काम की खबरें

देश

विदेश

मनोरंजन

राजनीति