#अजीनोमोटो…दिमाग निष्क्रिय करने का मसाला

Share on facebook
Share on twitter
Share on google
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

आजकल व्यंजनों में, खासकर चायनीज फूड में, एक सफेद पाउडर या क्रिस्टल के रूप में मोनोसोडियम ग्लुटामेट (M.S.G) नामक रसायन… जिसे दुनिया ‘अजीनोमोटो’ के नाम से जानती है, का प्रयोग बहुत बढ़ गया है… बिना जाने कि यह क्या है?

वास्तव में अजीनोमोटो एक ऐसा रसायन है, जिसके जीभ पर स्पर्श के बाद जीभ भ्रमित हो जाती है।
जिससे सड़ा-गला या बेस्वाद खाना भी खराब नहीं लगता बल्कि अच्छा ही लगता है। इस रसायन के प्रयोग से शरीर के अंगों-उपांगों और मस्तिष्क के बीच न्यूरोंस का नेटवर्क बाधित हो जाता है, जिसके दूरगामी दुष्परिणाम होते हैं।

चिकित्सकों के अनुसार अजीनोमोटो के प्रयोग से एलर्जी, पेट में अफारा, सिरदर्द, सीने में जलन, बाॅडीे टिश्यूज में सूजन, माइग्रेन आदि हो सकते हैं।

अजीनोमोटो से होने वाले रोग इतने व्यापक हो गये हैं कि अब इन्हें ‘चाइनीज रेस्टोरेंट सिंड्रोम’ कहा जाता है। अमेरिका आदि बहुत से देशों में अजीनोमोटो पर प्रतिबंध है। 
सुरक्षित खाद्य अभियान संगठन का कहना है कि दावतों में हलवाई द्वारा मंगाये जाने पर भी अजीनोमोटो लाकर ना देवें। हलवाई कहेगा कि चाट में मजा नहीं आयेगा.. फिर भी इसका पूर्ण बहिष्कार करें। 

जब आपने बाकी सारा बढ़िया सामान लाकर दिया है तो लोगों को अजीनोमोटो के बिना भी चाट, भोजन में पूरा मजा आयेगा।

अजीनोमोटो तो हलवाई की अयोग्यता को छिपाने व होटलों, ढाबों, कैटरर्स, स्ट्रीट फूड वैंडर्स द्वारा सड़े-गले सामान को… आपके दिमाग को निष्क्रय कर… स्वादिष्ट महसूस कराने के लिए डाला जाता है।

कुछ भी हो दावत खाने वाले आपके प्रियजन हैं, आपके यहां दावत खाकर वे बीमार नही पड़ने चाहिए ! 

शादी-ब्याह, दावतों में क्या हलवाई की अयोग्यता का दंड अपने प्रियजनों को देंगे… फैसला आपको ही करना है..!!

(सीमा शर्मा)

ट्रेंडिंग

काम की खबरें

देश

विदेश

मनोरंजन

राजनीति