आम जनता को बहुत सस्ता मिलेगा पुराना सामान

Share on facebook
Share on twitter
Share on google
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

पुराना सामान दुकानों पर मिलेगा सत्तर प्रतिशत कम कीमत पर..

अभी तक ऐसा हो रहा था कि पुराने सामान ऑनलाइन बिक रहे थे. पर चूंकि अभी भारत के हर गली कूचे में ऑनलाइन सामान की खरीदारी का चलन नहीं पहुंचा है इसलिए अब कंपनियां बाज़ार में बाकायदा दूकान खोल कर उतरने वाली हैं.

घरेलू सामान जैसे कि पुराने टीवी, फ्रिज आदि यहां पर बिकेंगे और इनके रेट बहुत कम होंगे. इन सामानों की यही विशेषता होगी कि होने ये पुराने लेकिन होंगे बहुत सस्ते और सत्तर प्रतिशत कम कीमत पर भी आप इन्हें खरीद सकेंगे. रोजमर्रा की कुछ चुनिंदा उपभोक्ता वस्तुओं के साथ ही घरेलू उपयोग की वस्तुयें भी इन स्टोर्स के माध्यम से बेचीं जाएंगी.

वैसे भारत से बाहर इस तरह के प्रोडक्ट्स का अच्छा खासा बड़ा कारोबार चलता है, खासतौर पर यूरोप में. वहां पुराने अर्थात इस्तेमाल किये सामानों की बाकायदा एक अलग हाट लगती है जो रोज़ाना नहीं होती पर हफ्ते में अलग-अलग दिन अलग-अलग स्थानों पर देखी जा सकती है. और इन सामानों को खरीदने वालों की कोई कमीं नहीं होती. इस किस्म के मार्किट को फ्ली मार्किट के नाम से वहां जानता जाता है.

बहुत जल्दी भारत में भी ऐसे स्टोर खुलने जा रहे हैं. अभी फिलहाल शुरुआत सिर्फ 200 स्टोर्स से हो रही है. इस बात की घोषणा सेकंड हैंड सामानों की ऑनलाइन बिक्री वाली सबसे बड़ी कम्पनी रोकिंग डील्स ने की है. कंपनी के संस्थापक युवराज अमन सिंह ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के माध्यम से यह जानकारी दी. उनके अनुसार भारत में कुछ चुनिंदा उत्पादों को ही फिलहाल रिफरबिश प्रोडक्ट्स के रूप में देखा गया है किन्तु उनकी कंपनी 18 तरह की ऐसे प्रोडक्ट्स को बाजार में उतार रही है.

इस तरह के स्टोर्स की खासियत ये होगी की ये ज़्यादातर टियर 2 सिटीज़ में खोले जाएंगे साथ ही फ्रैंचाईजी मॉडल पर इन स्टोर्स की शुरुआत होने जा रही है. रॉकिंग डील्स अभी इसमें 200 करोड़ रुपये का निवेश कर रही है जो कि रिटेल स्टोर शुरू किये जाने के बाद और भी बढ़ जाएगा. कम्पनी की योजना के अनुसार अगले तीन साल में देश में ऐसे 500 स्टोर शुरू हो जाएंगे जिनमें लगभग 500 करोड़ रुपये का राजस्व अर्जित करने की संभावना देखी जा रही है.

(इन्दिरा राय)

ट्रेंडिंग

काम की खबरें

देश

विदेश

मनोरंजन

राजनीति