एक नास्त्रेदमस ने कहा है कि ये साल अच्छा नहीं है ज़रा !

Share on facebook
Share on twitter
Share on google
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

ज़रा बचके  2019 से.. थोड़ा परेशान कर सकता है नया साल..हालात हो सकते हैं थोड़े चिन्ताजनक

नास्त्रेदमस से कौन अपरिचित है! दुनिया के भविष्यवक्ताओं के इतिहास में अमर है नाम नास्त्रेदमस का. और यदि यह कहें कि भविष्यवक्ताओं की ऐतिहासिक सूची में उनका नाम सर्वोपरि है तो यह भी अतिशयोक्ति नहीं होगी. प्रोफेसर हरारे, जीन डिक्सन आदि ऐतिहासिक भविष्यवक्ता भी उनके बाद के ही हैं.

फ्रांसीसी भविष्यवक्ता नास्त्रेदमस की कई भविष्यवाणियां सत्य सिद्ध हुई हैं. उनकी कुछ अत्यंत महत्वपूर्ण भविष्यवाणियां जो सच बन कर सामने आई हैं, उनमें हैं दो विश्वयुद्ध, नेपोलियन की विश्व मंच पर धमक, हिटलर का उदय, आदि. उनकी हालिया सच हुई भविष्यवाणी थी 2001 में वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर हुआ हमला.

नास्त्रेदमस की भविष्यवाणियों की परिधि में सारी दुनिया रही है. उन्होंने न केवल अमेरिका और यूरोप के बारे में पूर्वानुमान किया है बल्कि भारत को लेकर भी काफी कुछ कहा है. उनकी एक भविष्यवाणी में इक्कीसवीं सदी की शुरुआत में एक महान भारतीय नेता के आविर्भाव की बात कही गई है जो पूरे विश्व में भारत का डंका बजायेगा और विश्व स्तर पर सम्मानित होगा. यह बात भारत के वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर शत-प्रतिशत लागू होती है.

खैर, ये तो थीं अब तक की बातें. आने वाली बातों की बात करें तो नया साल थोड़ा चिन्ताजनक है, जैसा कि बताया है नास्त्रेदमस ने. उन्होंने कहा कि 2019 का मंज़र कुछ कंपकपी पैदा कर सकता है!

आने वाले साल याने कि 2019 को नास्त्रेदमस ने मानवता के लिए खतरे की घंटी बताया है. उनके अनुसार तीसरे विश्व युद्ध की शुरुआत हो सकती है और कुछ पश्चिमी देशों का पराभव भी देखने को मिल सकता है. जिस तरह उनकी भविष्यवाणी को समझा गया है उस के अनुसार उनकी एक चार पंक्तियों वाली संकेतात्मक भविश्यव्यवाणी अमेरिका और उत्तर कोरिया, रूस और अमेरिका के बीच तृतीय विश्व युद्ध का संकेत देती है.

अगर नास्त्रेदमस की चार पंक्तियों वाली भविष्यवाणी के संकेत माने तो तृतीय विश्व युद्ध के बाद पश्चिमी देशों पर आर्थिक संकट आने की आशंका है क्योंकि यह युद्ध करीब तीन दशक तक चल सकता है.

उनके अनुसार मध्य पूर्व में बेहद अशांति का वातावरण आ सकता है. धार्मिक कट्टरता के कारण दंगे छिड़ सकते हैं और परिमाण ये होगा कि कई लोग देश छोड़ कर जाने के लिए विवश होंगे.

अपनी सांकेतिक मुहावरेदार भाषा में नास्त्रेदमस ने लिखा है कि एक सूर्य ग्रहण के दिन धरती पर आकाशीय पिंड गिरेगा और उस दिन धरती पर सबसे अंधेरी रात होगी. इस पंक्ति की व्याख्या के अनुसार आकाशीय पिंड गिरने से विनाश के हालात पैदा हो जाएंगे.

उनकी भविष्यवाणी में इस साल के बाद अर्थात 2018 के बाद कुछ यूरोपियन देशों जैसे हंगरी, इटली, चेक गणराज्य और ब्रिटेन में आने वाली बाढ़ विकराल हो सख्त हैं. यही नहीं, ये देश आंतकी हमलों का शिकार भी हो सकते हैं.

(अर्चना शैरी)

ट्रेंडिंग

काम की खबरें

देश

विदेश

मनोरंजन

राजनीति