कमलनाथ ने क्यों चुनी दिग्विजय सिंह के लिए मुश्किल सीट?

Share on facebook
Share on twitter
Share on google
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

मध्यप्रदेश के पूर्व सीएम और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह लोकसभा चुनाव लड़ने का मूड बना रहे हैं. लेकिन उनके मूड को भांपने में शायद मध्यप्रदेश के सीएम कमलनाथ कुछ भूल कर बैठे या फिर दिग्विजय सिंह को राजनीति की फिरकी में फंसा गए. दरअसल, कमलनाथ ने कहा कि उन्होंने दिग्विजय सिंह से आग्रह किया है कि यदि वह लोकसभा चुनाव लड़ना चाहते हैं तो एमपी की किसी मुश्किल सीट से चुनाव लड़ें. कमलनाथ ने कहा कि मध्यप्रदेश में लोकसभा की दो से तीन सीटें ऐसी हैं जहां से कांग्रेस कभी जीती ही नहीं.

कमलनाथ ने कहा कि दिग्विजय सिंह खुद ही ये फैसला कर लें कि वो कहां से चुनाव लड़ना चाहते हैं.  सूत्रों के मुताबिक  कमलनाथ चाहते हैं कि दिग्वियज सिंह भोपाल लोकसभा सीट से चुनाव लड़ें. भोपाल से कांग्रेस वर्ष 1989 के बाद से चुनाव नहीं जीती है. कमलनाथ खुद छिंदवाड़ा सीट से सांसद हैं और मोदी लहर के बावजूद ये सीट जीते हैं.

मध्यप्रदेश में लोकसभा की 29 सीटें हैं. साल 2014 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस मध्यप्रदेश से केवल दो ही सीटें जीत सकी थी. ऐसे में बड़ा सवाल ये है कि आखिर ऐसी मुश्किल सीटों का प्रस्ताव देकर कमलनाथ दोस्ती निभा रहे हैं या कोई पुरानी दुश्मनी? दिग्विजय सिंह राज्यसभा सांसद है. दिग्गी राजा को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का राजनीतिक गुरू भी माना जाता है. लेकिन कमलनाथ बिना भोपाल सीट का नाम लिए दिग्विजय सिंह को कठिन सीट से इम्तिहान देने को कह रहे हैं.

मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को बीजेपी से कुछ ही सीटें ज्यादा मिली हैं. एसपी-बीएसपी के गतठबंधन के दम पर ही कांग्रेस सरकार बनाने में कामयाब हो सकी है. ऐसे में साफ है कि मतदाताओं का रुझान पढ़ने में अभी कोई भी राजनीतिक दल न तो जल्दबाजी करना चाहेगा और न ही लोकसभा चुनाव को लेकर अति आत्मविश्वास का परिचय देगा. लेकिन कमलनाथ को दिग्विजय सिंह पर इस कदर भरोसा है कि वो ये सोचते हैं कि दिग्गी राजा मध्यप्रदेश की मुश्किल सीट से भी चुनाव जीत कर दिल्ली जा सकते हैं.

ट्रेंडिंग

काम की खबरें

देश

विदेश

मनोरंजन

राजनीति