कांग्रेस ने की अपने ‘वचन पत्र’ की घोषणा

Share on facebook
Share on twitter
Share on google
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

काफी वक्त लगा लेकिन तैयारी पूरी की कांग्रेस ने. काफी समय से विपक्ष के साथ ही पक्ष के लोग भी इस प्रतीक्षा में थे कि प्रदेश विधानसभा के लिए कांग्रेस का घोषणा पत्र कब जारी होगा और उसमे क्या खास होगा.

काफी अटकलों के बीच अब मध्यप्रदेश चुनाव के लिए कांग्रेस ने अपना चुनावी घोषणा पत्र प्रस्तुत कर दिया है. वैसे तो तमाम बातें इस घोषणा पत्र को मजबूती देती हैं किन्तु बेटियों के विवाह के लिए 51 हजार रुपए की मदद देने का वादा इनमें सर्वाधिक अहम् है.

बेटी परिवार की लक्ष्मी होती है और उसका विवाह ही भारत में हर मातापिता के लिए सबसे बड़ी चिंता होती है. यदि आप बेटे के विवाह में किसी की मदद करते हैं तो वह उतना प्रभावित नहीं करता जितना कि बेटी के विवाह में की गई मदद होती है. बिटिया की शादी में छोटे से छोटा योगदान भी याद रह जाता है क्योंकि वह हर प्रयास जो पुत्री के विवाह में सहयोग करता है उसके माता पिता के ह्रदय को स्पर्श करता है.

इस मनोविज्ञान को पढ़ कर कांग्रेस ने किया है प्रयास मध्यप्रदेश के वोटरों का दिल जीतने का. सिंधिया, कमल और दिग्गी की तिकड़ी ने राजधानी भोपाल में कांग्रेस के मंच से अपने वचन पत्र की घोषणा की.

कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में हर वर्ग के लोगों को प्रसन्न करने कर प्रयास किया है. मंच से कमलनाथ ने घोषणा की कि कांग्रेस प्रदेश में बेघरों को 2.50 लाख रुपए का अनुदान देगी. यही नहीं घर की रसोई गैस सस्ती करने, किसानों का कर्ज माफ करने का वादा भी कांग्रेसी नेताओं द्वारा किया गया.

इस तरह मूल रूप से बेटियों, गृहणियों, बेघरों और किसानों को कांग्रेस ने अपने घोषणापत्र का लक्ष्य बनाया है. कांग्रेस मंच से नेताओं ने विश्वास दिलाया कि हम सिर्फ वादे नहीं करेंगे, बल्कि उन्हें पूरा करेंगे

जैसा कि सर्वविदित है, प्रदेश विधानसभा की 230 सीटों पर 28 नवंबर को मतदान होना है जिसका परिणाम 11 दिसंबर को घोषित होगा.

अपने सम्बोधन में वरष्ठ कांग्रेसी नेता कमलनाथ ने जानकारी दी कि हमने अपने घोषणा पत्र में 973 बिंदुओं को शामिल किया गया है. इन बिंदुओं में सर्वप्रमुख है भ्रष्टाचार. भ्र्ष्टाचार से मुक्ति के लिए हम जनआयोग गठित करेंगे. इसके सदस्यों में पत्रकार, वकील और सम्मानित नागरिक सम्मिलित होंगे. यह किसी प्रकार का राजनीतिक मंच नहीं होगा. वर्तमान भाजपा सरकार गाँवों से लेकर भोपाल तक भ्रष्टाचार में लिप्त रही है. हमारा यह आयोग भ्रष्टाचार के सभी मामलों की पड़ताल करने का वादा करता है.

(पारिजात त्रिपाठी)

ट्रेंडिंग

काम की खबरें

देश

विदेश

मनोरंजन

राजनीति