तीसरे नवरात्र पर मां दुर्गा के चंद्रघंटा रूप की कैसे करें पूजा?

Share on facebook
Share on twitter
Share on google
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

11 अक्टूबर को तीसरा नवरात्र है. तीसरे दिन मां दुर्गा के शेरावाली माता यानी चंद्रघंटा रूप की आराधना की जाती है. मां शेरावाली को मां दुर्गा का लोकप्रिय अवतार माना जाता है और इसकी पूजा वैष्णो देवी में की जाती है. मां चंद्रघंटा देवी की पूजा से जीवन के तमाम कष्टों का निवारण होता है. मां के आशीर्वाद से आर्थिक कष्ट दूर होते हैं. घर-परिवार में सुख-समृद्धि आती है. मन में शांति रहती है. गुरूवार के दिन मां चंद्रघंटा के रूप की पूजा की वजह से राज योग बन रहा है क्योंकि चन्द्रमा स्वाति नक्षत्र और तुला राशि में है. तुला राशि से गुरु भी मित्र राशि वृश्चिक में जा रहे हैं. चंद्र और गुरु दोनों मिलकर राज योग बना रहे हैं. मां दुर्गा के आशीर्वाद से बने इस राज-योग में नौकरी ,व्यापार और धन-वर्षा का वरदान मिलेगा. माता को प्रसन्न करने के लिए सफेद फूल ,चंदन सफेद चुन्नी चढ़ाकर पूजा-अर्चना करें. पूजा में ॐ चंद्रघंटा देव्यै नमः का जाप करें. पूजा में चावल और मेवे की खीर का भोग लगाएं.

ट्रेंडिंग

काम की खबरें

देश

विदेश

मनोरंजन

राजनीति