करोड़ों की तिजोरियां और काले पैसे के गुलाबी नोट

Share on facebook
Share on twitter
Share on google
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की रेड से निकल कर यह खबर बाहर आई है. दिल्ली के सबसे बड़े कारोबारी इलाके चांदनी चौक में डाली गई है ये रेड. ऊपरी तौर पर साबुन-मेवे टाइप की इस परचून की दुकान से पच्चीस करोड़ का कैश बरामद हुआ है.

आयकर विभाग ने दुकान के तहखाने तक तलाशी ली और उनको भरपूर कामयाबी मिली. खोजबीन करती पुलिस दुकान के नीचे बेसमेंट में चली गई तो वहां उसे 200 से ज्यादा सीक्रेट लॉकर मिले. उन लॉकरों को खोलने पर उनसे 25 करोड़ का काला धन बरामद हुआ है.

आयकर विभाग ने तो यहां तक खुलासा किया कि यह हवाला कारोबार से जुड़ा बड़ा रैकेट का मामला है. अंदर से जो खबर आ रही है उसके मुताबिक़ पकडे गए लॉकर्स की संख्या तीन सौ के आसपास है.

जो समाचार प्राप्त हुआ है उसके अनुसार चांदनी चौक के नया बाजार इलाके की एक साबुन-मेवे की दुकान पर इनकम टैक्स की यह कार्रवाई हुई है. बताया जा रहा है कि ये लाकर दुकान वाले के भी हैं और उसके अतिरिक्त एनसीआर के तंबाकू, केमिकल और मेवों के कारोबार से जुड़े हाई प्रोफाइल लोगों के भी हैं.

दूसरे शब्दों में ये दुकान और ये लॉकर्स काले धन के हिफाज़त की सेवायें प्रस्तुत कर रहे थे याने कि ये लाकर्स मूल रूप से हवाला कारोबारी अपने काले पैसे को सुरक्षित रखने के लिए इस्तेमाल कर रहे थे. वैसे इस काले कैश का सम्बन्ध दुबई के हवाला कारोबारी पंकज कपूर से जुड़ रहा है.

लॉकर्स की संख्या इससे भी कहीं अधिक हो सकती है. बताया गया है कि इन लॉकरों से बरामद कैश की को गिनने के लिए इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के अफसरों कई रातों से यहीं डेरा डाले हुए थे. इन अधिकारियों को दुकान में ही रहना सोना खाना-पीना करना पड़ रहा था. कहा तो ये भी जा रहा है कि काले पैसों के गुलाबी नोट अभी भी गिने जा रहे हैं. बारी-बारी से लाकर खोले जा रहे हैं और उससे निकाल कर कैश गिना जा रहा है.

इस रेड की तैयारी दिवाली की रात से ही शुरू हो गई थी जब आयकर विभाग को इसकी छुपी सूचना मिली थी. इस टिप ने दुकान के बेसमेंट में करोड़ों के नोटों वाले छुपे हुए लाकर्स की सूचना दी थी. विभाग ने भी देर नहीं की और आनन-फानन में इन लॉकरों को सील कर दिया था.

उस दौरान वहां विभाग के अधिकारियों को स्थानीय कारोबारियों का विरोध भी झेलना पड़ा था. कारोबारी कह रहे थे कि जिन लॉकरों पर शक हो, उनको ही ऐक्शन की परिधि में लिया जाए.

यह बताना भी इतना ही दिलचस्प होगा कि ये ऐक्शन आयकर विभाग का एक साथ दिल्ली के आठ ठिकानों पर हुआ है.

(अर्चना शैरी)

ट्रेंडिंग

काम की खबरें

देश

विदेश

मनोरंजन

राजनीति