पाकिस्तान का बड़ा भाई चीन

Share on facebook
Share on twitter
Share on google
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

चीन के दम पर पाकिस्तान न्यूक्लिर युद्ध की धमकी दे रहा है -पाकिस्तान ने अपने एटॉमिक सेंटर चीन को सौंप दिए हैं ?

जम्मू कश्मीर से 370 हटने की वजह से तड़पता पाकिस्तान पिछले कुछ दिनों से अचानक रोज रोज अपने एटम बम की बात ज्यादा रहा है –खुद इमरान खान अपने हर भाषण में कहता है ऐसा युद्ध होगा जिसमे कौन जीतेगा पता नहीं मगर पूरी दुनियां पर असर होगा –अन्य मंत्री भी रोज न्यूक्लिर युद्ध की धमकी रोज रोज दे रहे हैं .

इस धमकी का कारण चीन है जिसके दम पर पाकिस्तानी रोज ये धमकी दे रहे हैं –ऐसा लगता है पाकिस्तान ने अपने एटॉमिक सेंटर चीन के वैज्ञानिकों को सौंप दिए हैं और इसका प्रमाण भी 
नज़र आता है.

पाकिस्तान सिंध प्रांत के स्वास्थ मंत्री अज़रा फजल के हवाले से करांची से निकलने वाले दैनिक जंग अखबार ने खबर दी है कि कराची के हाक्स बे क्षेत्र में स्थित एटामिक पावर प्लांट में कार्य करने वाले 200 चीनी नागरिक डेंगू से पीड़ित है.

ऐसी ही खबर कल तारेक फतह ने अपने ट्वीट में भी दी है और सवाल उठाया है कि पाकिस्तान के न्यूक्लिर संस्थानों में चीनियों का क्या मतलब है.

इन ख़बरों से ये माना जा सकता है कि पाकिस्तान ने अपने न्यूक्लिर हथियारों अब संचालन अब चीनी वैज्ञानिकों के हाथों में दे दिया है और वो हो सकता है उन्हें अपग्रेड भी कर रहे हों –पाकिस्तान को उन्हें बस ईशारा करना होगा भारत खिलाफ न्यूक्लिर हथियारों को चलाने का .

भारत को अत्यंत सतर्क रहने की जरूरत है क्यूंकि युद्ध पाकिस्तान का होगा मगर लड़ेगा चीन –चीन को फिर से पूरे जोर शोर से आर्थिक तौर पर तोड़ने की जरूरत है –अमेरिका की कंपनियां तो ट्रेड वार के चलते चीन से भागने के फिराग में हैं –WTO के चलते उससे व्यापर बंद नहीं किया जा सकता मगर पाबन्दी लग सकती हैं.

प्रधान मंत्री मोदी ने अपने 15 अगस्त के भाषण में अपने ही लोगों के उत्पादों को खरीदने पर जोर दिया था –वो ईशारा इसी तरफ था.

अभी कनफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (सीएआईटी) संगठन ने 1 सितम्बर से चीन से सामान आयात नहीं करने का फैसला किया है। भारत के सात करोड़ व्यापारी तथा 40 हजार संगठन सीएआईटी के सदस्य हैं जिसके चलते भारतीय बाजार में चीन को बड़ा झटका लगने की संभावना प्रबल हो गयी है.

चीन की हालत ऐसी हो जानी चाहिए कि वो पाकिस्तान को शह देने के बारे में सोचना ही बंद कर दे –काम कठिन है मगर असंभव नहीं है .

(सुभाष चन्द्र)

ट्रेंडिंग

काम की खबरें

देश

विदेश

मनोरंजन

राजनीति