पुलवामा हमले पर पीएम मोदी को खुला पत्र

Share on facebook
Share on twitter
Share on google
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

ये देश अब किसी को नहीं बख्सेगा। आज मेरे देश के लाल शहीद हो गए सिर्फ उन सांपों के डसने से जिसको देश का दूध पिलाया जा रहा है सालों से। बहुत हो गया अब किसी भी सूरत में नहीं बख्शा जाएगा।

मोदीजी अब उम्मीद सिर्फ आपसे है बस कश्मीर भारत का हिस्सा है वहां रहने वालों के लिए अब कोई ऑप्शन नहीं है। बस जीने का अधिकार है सिर्फ इससे ज्यादा जो मांगे स्टैनगन का मुँह ही खुलना चाहिए। जो अपने घर को नहीं संभाल सकता तय है उस घर के टुकड़े होते है या वो बहुत बड़ा नुकसान झेलता है आज ये ही कश्मीर में हो रहा है। वहां के संपोलों को मुफ्त का दूध पिलाने का ये नतीजा है कि देश के लाल अकारण ही शहीद हो रहे है। क्या वो इसीलिए सेना में भर्ती हुए थे कि किसी दुष्टों के हाथों मारे जाय और पूरा देश ख़ामोश हर बार देखता रहे।

बस हर बार ये ही बोला जाता है कि अब बक्शा नहीं जाएगा लेकिन होता क्या है कुछ नहीं। सिर्फ एक सर्जिकल स्ट्राइक से अब काम नहीं चलेगा अब बहुत बड़े स्तर पर केंपैन चलाओ और पहले घर के दुश्मनों और देशद्रोहियों का सफाया कर डालो।

मत सोचो UNO क्या बोलेगा मत सोचो मानवाधिकार आयोग क्या बोलेगा। बस अपने घर में जो गंद स्वर्ग जैसे कश्मीर में फैली है उसको साफ करना होगा। भय बिन प्रीत होत न गुंसाई। न वहां कोई चुनाव हो और न ही कोई विशेष दर्जा और भूल जाओ 370 को।

वहाँ कोई ऑप्शन नहीं है बस सिर्फ आर्मी और आर्मी है। अब कोई राजनीति नहीं होनी चाहिए। किसी के आगे हाथ मत फैलाओ। बस स्टैंड लो और वो भी इस कश्मीर समस्या के फाइनल हल का ताकि मेरे देश के लाल अकारण ही शहीद नहीं हो वो भी कुछ कायरों के हाथों। अगर कैंसर का मरीज ये सोचे कि मैं कैमियो थैरेपी कराऊंगा तो मेरे सिर के बाल उड़ जाएंगे तो अपनी जान गंवा बैठेगा।

बस पूरे कश्मीर को गंवा बैठेने से बेहतर है उसके बालों को उड़ा दो कोई फर्क नहीं पड़ेगा। साढ़े तीन लाख लोग सीरिया युद्ध में मारे गए है ये हाल ही के आंकड़े है। कोई मानवाधिकार का कार्यकर्ता वहां मरने नहीं गया। मोदीजी, यहां भी आप देशहित में आप कड़ा एक्शन लो देश आपके साथ है। गंदी राजनीति करने वालों को देश की जनता सलटा देगी।

आप कश्मीर समस्या को सलटा दो। अब बस जनता की ये ही पुकार है। ऐसा इलाज करो कि आंतक के रास्ते पर जाने की या आंतकी को पनाह देने की सोचते ही रूह कांप उठे और वो तभी होगा जब बहुत ही कठोर होना पड़ेगा केंद्र में बैठे हुक्मरानों को। मोदी जी आप समझ रहे है देश अब क्या चाहता है।

जय हिंद वंदेमातरम।

ट्रेंडिंग

काम की खबरें

देश

विदेश

मनोरंजन

राजनीति