भारत की असली बहू

Share on facebook
Share on twitter
Share on google
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email


कांग्रेसी कहते है सोनिया भारत की पहली बहू हैं.

पर कांग्रेसी आपको नही बताएंगे कि भारत की पहली और असली बहू कौन थी ???

इसलिये भारत माता की असली बहू के बारे में देश को बताना आवश्यक हो गया है, नई पीढ़ी के देशप्रेमी नौजवानों को यह सत्य अवश्य जानना चाहिये.

भारत की असली बहू नेताजी सुभाष चंद्र बोस की धर्मपत्नी थीं, जिनका भारत मे कभी स्वागत नही किया गया और ऐसा नेहरू के कांग्रेस-राज ने जानबूझ कर किया .

कांग्रेस ने इनको भी नेताजी की तरह गुमनाम कर दिया!

श्रीमती “एमिली शेंकल” ने 1937 मे भारत मां के सबसे लाड़ले बेटे “बोस” जी से विवाह किया!

एक ऐसे देश को ससुराल के रूप मे चुना जहां कभी इस “बहू” का स्वागत नही किया गया….न बहू के आगमन पर मंगल गीत गाये गये….न बेटी (अनीता बोस) के जन्म होने पर कोई सोहर ही गाया गया.

यहां तक गुमनामी की इतनी मोटी चादर के नीचे उन्हे ढ़ंक दिया गया कि कभी जनमानस मे चर्चा भी नही हुई.

अपने 7 साल के कुल वैवाहिक जीवन मे पति के साथ इन्हे केवल 3 साल रहने का मौका मिला..फिर इन्हे और नन्ही सी बेटी को छोड़कर बोस जी देश के लिए लड़ने चले गये….!!!!

अपनी पत्नी से इस वादे के साथ गये की पहले देश आजाद करा लूँ फिर हम साथ-साथ रहेगे. अफसोस कि ऐसा हो नहीं सका क्योंकि कथित विमान दुर्घटना मे बोस जी कथित तौर पर लापता हो गए.

उस समय “एमिली शेंकल” बेहद युवा थीं, वो चाहतीं तो युरोपीय संस्कृति के अनुसार दूसरी शादी कर लेतीं. पर उन्होंने ऐसा नहीं किया और दुश्वारियों में कठिन जीवन गुजारने का विकल्प चुना.

आपको जान कर बेहद दु:ख होगा कि एक तारघर मे मामूली क्लर्क के नौकरी और बेहद कम वेतन के साथ वो अपनी बेटी को पालती रही…….

तब तक भारत आजाद हो गया था वो चाहती थीं, उनका बहुत मन था भारत आने का, कि एक बार अपने पति के वतन की मिट्टी को हाथ से छू कर नेताजी को महसूस करूं, जिस वतन के लिए मेरे पति ने अपना जीवन होम कर दिया.

लेकिन उनके आगमन की इच्छा की ये खबर को सुन कर जवाहर लाल नेहरू इतने भयभीत हो गये थे कि देश की बहू को आने के लिए उन्होंने वीजा तक देने से मना कर दिया…

ये होता है रंगे सियारों के दिमाग मे शेरों का खौफ…!!

जबकि उन्हे सम्मान-सहित बुलाकर भारत की नागरिकता देनीं चाहिए थी !
उस महान महिला का बडप्पन देखिये कि उन्होने इसकी कभी किसी से शिकायत भी नही की….और गुमनामी मे ही मार्च 1996 मे जीवन त्याग दिया!

ये थी हमारे देश की असली बहू की कहानी स्वर्गीय “श्रीमती एमिली शेंकल” की!!

(साभार)

ट्रेंडिंग

काम की खबरें

देश

विदेश

मनोरंजन

राजनीति