भारत ने ऑस्ट्रेलिया में बनाया इतिहास : 72 साल बाद ऑस्ट्रेलिया को उसकी सरजमीं पर श्रंखला हराई

Share on facebook
Share on twitter
Share on google
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

कैप्टन कोहली जीत पर इतने खुश हुए कि उन्होंने मैदान पर ही अपनी अर्धांगनी को आलिंगन पाश में बाँध लिया..

वही हुआ जिसका इतंज़ार था. और बिलकुल वही हुआ जिसकी उम्मीद थी. कोहली की कप्तानी में ऑस्ट्रेलिया की सरज़मीन पर ही भारत ने उसको धूल चटा दी..और ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट शृंखला खेल रही टीम इण्डिया ने शृंखला 2 -1 से अपने नाम कर ली.

ये जीत इतनी हर्षप्रद थी कि सदा ही जोश में रहने वाले विराट कोहली अपनी ख़ुशी को रोक नहीं सके और मैदान में ही अपनी गृहलक्ष्मी अनुष्का शर्मा को अपनी बाहों में भर लिया. कप्तान कोहली ने कहा – आज मैं बहुत खुश हूँ. यह जीत मेरे लिए विश्व कप से भी बड़ी उपलब्धि है.

पूर्व भारतीय टेस्ट कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने आठ साल पहले वानखेड़े में जिस दिन विश्व कप ट्रॉफी उठाई थी उस समय कोहली उस टीम के सबसे युवा सदस्य थे, किन्तु कप्तान कोहली कहते हैं कि आस्ट्रेलियाई किले की ये फतह उनके अनुसार उनकी सभी उपलब्धियों की सूची में सबसे ऊपर है.

कप्तान कोहली ने इस विशेष उपलब्धि में योगदान के लिए अपने साथी खिलाड़ियों की दिल खोल कर सराहना की. उन्होंने ख़ास कर पुजारा, मयंक अग्रवाल और ऋषभ पंत की तारीफ़ की. कोहली ने कहा कि – मैं पुजारा का विशेष जिक्र करना चाहता हूं। वह ऐसा खिलाड़ी है जो हमेशा परिस्थितियों को स्वीकार करता है। वह बहुत अच्छा इंसान है। मैं मयंक अग्रवाल का भी खास जिक्र करना चाहूंगा। बॉक्सिंग-डे पर पदार्पण करके उसने बेहतर आक्रमण के सामने शानदार पारी खेली। रिषभ पंत भी अपने अंदाज में बल्लेबाजी करके आक्रमण पर हावी रहे। हम जानते हैं कि एक बार जब बल्लेबाज अच्छे रन बना लेते हैं तो हमारे गेंदबाजों का जवाब नहीं। गेंदबाजों ने केवल इसी सीरीज में नहीं, बल्कि पिछले दो दौरों में भी जिस तरह से गेंदबाजी की वैसा मैंने भारतीय क्रिकेट में पहले कभी नहीं देखा। वे पिच को नहीं देखते और यह नहीं सोचते कि इससे उन्हें मदद नहीं मिलेगी। यह भारतीय क्रिकेट के लिए नई चीज है जो स्वदेश में अन्य गेंदबाजों के लिए भी सीख है।

(इन्दिरा राय)

ट्रेंडिंग

काम की खबरें

देश

विदेश

मनोरंजन

राजनीति