सांस्कृतिक कुंभ – कला उत्सव : दिवस-42 : 24 फरवरी 2019

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

कुम्भ का आज 42 वां दिन है. आज का दिन विशेष होने के कारण प्रयागराज में आज खास हलचल देखी गई, आज कुम्भ मेले में सभी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आगमन की प्रतीक्षा थी. पीएम मोदी के आगमन को लेकर विशेष सुरक्षा प्रबंध किये गये थे.

आज कुम्भ परिसर सहित पूरे प्रयागराज शहर में 43 हज़ार जवान प्रधानमन्त्री एवं कुम्भ के सभी श्रद्धालुओॆ की सुरक्षा में तैनात रहे. वैसे कुम्भ में अपने कर्तव्य के प्रति सेना के जवान पहले से ही यहां मुस्तैद हैं. रविवार के दिन की वजह से मेले में आगंतुकों की अधिक देखी गई लेकिन व्यवस्था चुस्त दुरुस्त रही.

दिन में तीन बजे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शहर में 20 सांस्कृतिक मंचों का निरिक्षण करते हुए अरैल स्थित हेली पैड पर उतरे और फिर अपने विशेष सुरक्षा दस्ते के साथ वे संगम घाट पर पहुंचे. इस दौरान संगम घाट पर एकत्रित जन समुदाय उनकी एक झलक पाने को बेताब नज़र आया और मोदी-मोदी के नारों के बीच पीएम मोदी ने माँ गंगा की पूजा अर्चना करके पवित्र त्रिवेणी जल में डुबकी लगाई. स्नान-पूजन के उपरान्त प्रधानमन्त्री त्रिवेणी संगम स्थित पूजा मन्च पर पहुँचे जहाँ मंत्रों की गूंज के बीच उन्होंने एक विशेष पूजन संपन्न किया और भव्य गंगा आरती में सम्मिलित हुए. प्रदेश के मुख्यमन्त्री योगी आदित्यनाथ प्रधानमन्त्री के इस कुम्भ दौरे में पूरे समय उनके साथ रहे. आरती के बाद मोदी ने स्वच्छता कर्मियों के पैर थाली में धुलाये. साथ ही सुरक्षा कर्मियों और नौका-चालकों से भेंट की और उन्हें कुम्भ को सफल बनाने में महत्वपूर्ण योगदान हेतु धन्यवाद देकर सम्मानित किया. इसके बाद प्रधानमन्त्री का कारवाँ कुम्भ परिसर के सेक्टर 1 स्थित गंगा मंच के लिये रवाना हुआ.

सफाई कर्मियों और सुरक्षाबलों के जवानों से खचाखच भरे गंगा मंच पर प्रधानमंत्री के भाषण के पूर्व, सीएम योगी, पेयजल मंत्री उमा भारती और यूपी के उपमुख्यमंत्री केशवप्रसाद मौर्य का सम्बोधन भी हुआ. उमा भारती ने देश के प्रधानमंत्री और प्रदेश के मुख्यमंत्री का स्वागत करते हुए मोदी को विश्व का सर्वाधिक शक्तिशाली प्रधानमंत्री की संज्ञा दी. उन्होंने सफाई कर्मियों को स्वच्छता का साधक कह कर कुम्भ में उनके योगदान हेतु उनका धन्यवाद ज्ञापित किया.


सीएम योगी ने अपने सम्बोधन में प्रधानमंत्री मोदी को स्वच्छ और सुरक्षित कुम्भ की परिकल्पना की प्रेरणा प्रदान करने के लिए उनका स्वागत और अभिनंदन किया. योगी ने प्रधानमंत्री को इंगित कर महाकवि दिनकर की पंक्तियों को उद्धृत किया – साक्षी हैं जिनकी महिमा के / देश, इतिहास और भूगोल / कलम आज उनकी जय बोल !! मुख्यमंत्री ने बताया कि अब तक 22 करोड़ लोगों का कुम्भ में स्नान सम्पन्न हो चुका है और अगले दस दिनों में यह संख्या 25 करोड़ को पार कर जायेगी. योगी ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने पिछले साढ़े चार वर्षों में स्वयं को मिले उपहारों की नीलामी करके पौने बारह करोड़ की धनराशि नमामि गंगे परियोजना में दान की है प्रदेश के संस्कृति विभाग का विशेष उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि विभाग द्वारा कुम्भ में और प्रयागराज शहर में तैयार किये गए सांस्कृतिक मंच देश के सांस्कृतिक सौंदर्य की जीवंत झलक हैं. उन्होंने प्रधानमंत्री को एक और भागीरथी की उपमा देते हुए गंगा की निर्मलता के लिए उनके समर्पित प्रयास की प्रशंसा की.
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि यदि आप राम जी के सेवक हैं तो मैं आपका प्रधान सेवक हूँ. यदि आप गंगा पुत्र हैं तो मैं माँ गंगा के बुलावे पर आपकी सेवा में आया हूँ.

मोदी ने कहा कि इस बार कुम्भ डिजिटल कुम्भ बन कर भी उभरा है. कुम्भ की सफलता में डिजिटल टेक्नोलॉजी की भूमिका भी बराबर से रही है. सम्पूर्ण कुम्भ के दौरान उत्तर प्रदेश पुलिस की समर्पित सेवा की भी प्रधानमंत्री ने पूरी तारीफ़ की. उन्होंने खोया पाया विभाग को भी उनके परिश्रम हेतु धन्यवाद दिया और कुम्भ में पधारने वाले समस्त श्रद्धालुओं का अभिनंदन करते हुए कहा कि हमारे आस्थावान आगंतुकों और अतिथियों ने कुम्भ की सफलता को अपनी थकान से पहले रखा है. पीएम मोदी ने उत्तरप्रदेश सरकार और प्रदेश के अधिकारी वर्ग को कुम्भ के लिए किये श्रम हेतु साधुवाद दिया. मोदी ने कहा कि कुम्भ ने देश को दिव्यता और भव्यता के साथ स्वच्छता का सन्देश भी दिया है.

कुम्भ परिसर स्थित सभी कला मंचों पर आज भी नित्य की भांति सांस्कृतिक गतिविधियां आयोजित हुईं. सेक्टर 4 स्थित अक्षयवट मंच पर लखनऊ के लोक कलाकार चंदन ने उत्तरांचल के लोक नृत्य प्रस्तुत किया. उत्तरांचल के लोक नृत्य के बाद लखनऊ की ही कलाकार जोड़ी अदिति जायसवाल और रूबल का विशेष कत्थक समूह नृत्य देखा गया. इस विशेष प्रस्तुति के बाद लखनऊ की लोक गायिका संजू सिंह ने लोकप्रिय भोजपुरी गीत प्रस्तुत किये जिनके बाद हुआ बृज का लोक नृत्य दर्शनीय था जो कि मथुरा की कलाकार गीतांजलि शर्मा द्वारा प्रस्तुत किया गया था.

सेक्टर 6 स्थित भारद्वाज मंच पर प्रयागराज की स्वाति त्रिपाठी ने लोक नृत्य की प्रस्तुति दी जिसके उपरान्त लखनऊ की गायिका नीता निगम ने लोक गीत प्रस्तुत किये. लोक नृत्य और लोक गीत की प्रस्तुतियों के बाद जौनपुर के गायक सुधीर कुमार तिवारी ने भोजपुरी लोक गीत का आकर्षक कार्यक्रम प्रस्तुत किया. अंत में लखनऊ की गायिका ब्यूटी चक्रवर्ती के लोक गीत और नृत्य का विशेष कार्यक्रम हुआ जिसे दर्शकों की भरपूर तालियां मिलीं.

सेक्टर 17 के यमुना मंच पर गोरखपुर के गायक अन्नू साहनी ने संगीत का एक ख़ास कार्यक्रम पेश किया जिसके बाद प्रयागराज के गायक कमलेश चंद्र यादव ने भावपूर्ण बिरहा गीत प्रस्तुत किये. बिरहा गीतों के बाद बृज का सुन्दर लोक नृत्य देखा गया जिसे प्रस्तुत किया मथुरा के कलाकार संजय शर्मा ने और तालियों से जिसका अभिनंदन किया दर्शकों ने.

सेक्टर 13 स्थित सरस्वती मंच पर दिल्ली की लोक नर्तकी सुमिता शर्मा ने नृत्य के विशेष कार्यक्रम – कत्थक बैले की प्रस्तुति दी. कत्थक बैले के बाद जयपुर के अश्विन दलवी का सुरबहार कार्यक्रम प्रस्तुत हुआ. सुरों से सजे इस कार्यक्रम के बाद लखनऊ के अभिषेक मिश्रा का भाव नृत्य प्रस्तुत हुआ जो कि कुम्भ के सांस्कृतिक मंचों पर प्रथम बार देखा गया. गोन्डा की कलाकार संजोली पांडेय ने नृत्य एवं गायन का कार्यक्रम प्रस्तुत किया. संगीत के विशेष कार्यक्रम के बाद लखनऊ के डॉक्टर इंद्र कुमार चौरसिया ने नाटक का मंचन किया जिसके संवादों को दर्शकों की वाहवाही मिली तो उसके सन्देश को भी दर्शकों ने तालियों सहित समर्थन प्रदान किया.

आज भी कुम्भ में उत्तर प्रदेश संस्कृति विभाग द्वारा माननीय प्रधान मंत्री के स्वागत मैं रोज की तरह इन मंचों पर सांस्कृतिक कार्यक्रमों की धूम रही. किला चौराहे, अक्षयवट मंच और भारद्वाज मंच के निकट स्थित सांस्कृतिक मंचों पर आज सागर की हर्षा चौरसिया ने ने लोक नृत्य प्रस्तुत किये जिसके जवाब में जमशेदपुर के कलाकार दुर्गेश प्रसाद ने भी लोक नृत्य के कार्यक्रम से दर्शकों की भरपूर सराहना अर्जित की.


केपी इंटर कॉलेज, लेप्रोसी मिशन चौराहे और सरस्वती घाट – नैनी ब्रिज के निकट स्थित सांस्कृतिक मंचों पर आज लखनऊ के रजनीकांत सोनकर ने नाटक का मंचन किया. इस नाटक के बाद प्रयागराज की अनोखा मायाजाल एंड पार्टी ने मैजिक शो का कार्यक्रम प्रस्तुत कर दर्शकों का मनोरंजन किया. संस्कृति ग्राम चौराहे, अरैल सेक्टर 19 और वल्लभाचार्य मोड़ के निकट स्थित सांस्कृतिक मंचों पर लखनऊ के बंगाल मैजिक ग्रुप ने जादू का कार्यक्रम प्रस्तुत किया. दुर्गे महेश्वरी सेवा संस्थान लखनऊ ने लोक नृत्य प्रस्तुत किया तो वहीं देवास से आई मासूम एन्ड पार्टी के मुकेश हास्य कविताओं का मनोरंजक कार्यक्रम प्रस्तुत करके देकर दर्शकों को तालियां बजाने को विवश कर दिया.

बालसन चौराहे, इंद्रमूर्ति चौराहे और बैंक चौराहे (प्रयाग स्टेशन) के निकट स्थित सांस्कृतिक मंचों पर आज लखनऊ के बंगाल मैजिक ग्रुप ने जादू का कार्यक्रम प्रस्तुत किया तो वहीं लखनऊ के ही अभिनेता विवेक मिश्रा ने नाटक का मन्चन कर न सिर्फ दर्शकों को मनोरंजन प्रदान किया बल्कि नाटक के माध्यम से दर्शकों को जीवन के प्रति सकारात्मक संदेश भी दिया. सुभाष चौराहे, सिविल लाइंस बस स्टॉप और पत्थर वाले चर्च के निकट स्थित सांस्कृतिक मंचों पर लखनऊ की कलाकार अंजलि खन्ना ने लोक नृत्य की प्रस्तुति दी जिसके जवाब में लखनऊ के ही लोक-कलाकार राजेंद्र राही ने अपने लोक नृत्य के कार्यक्रम से दर्शकों का दिल जीत लिया.

विश्वविद्यालय तिराहे और राजापुर ट्रैफिक चौराहे के निकट स्थित सांस्कृतिक मंचों पर लखनऊ की कलाकार ज्योति करन रतन ने लोक नृत्य प्रस्तुत किया जिसके बाद प्रयागराज के गायक राजवंत सिंह ने बिरहा के भावपूर्ण गायन प्रस्तुत किया. इसके बाद इन मंचों पर दो बालिकाओं द्वारा सुन्दर युगल नृत्य की प्रस्तुति दी गई. ‘ई रेलिया बैरन पिया का ले के जाए रे’ गीत पर इन बाल कलाकारों द्वारा किये गए आकर्षक नृत्य ने दर्शकों का प्रस्तुत कर की प्रस्तुति से दर्शकों का मन मोह लिया. हीरालाल हलवाई चौराहे, हाथी पार्क और प्रयागराज जंक्शन के निकट स्थित सांस्कृतिक मंचों पर लखनऊ की रंगसंगम संस्था द्वारा नाटक का मंचन किया गया. लखनऊ के ही किशन मिश्रा ने लोक गायन की ज़ोरदार प्रस्तुति से समा बाँध दिया. प्रयागराज से न्यूज़ इन्डिया ग्लोबल के लिये पारिजात त्रिपाठी.