स्टेचू ऑफ़ सरदार पटेल : सिंबल ऑफ़ यूनिटी

Share on facebook
Share on twitter
Share on google
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

सरदार वल्लभ भाई पटेल को यह एक हार्दिक श्रद्धांजलि है जो विश्व की सर्वोच्च मूर्ति के रूप में अब दूर-दूर तक देखी जायेगी. गुजरात में नर्मदा नदी के तट पर बनी इस मूर्ति का आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अनावरण संपन्न किया.

स्टेचू ऑफ़ यूनिटी का लोकार्पण आज सरदार पटेल की 143 वीं जयंती पर एक भव्य समारोह के रूप में आयोजित किया गया. 182 मीटर ऊंची की इस प्रतिमा के लोकार्पण के दौरान पीएम मोदी ने कहा कि कौटिल्य की कूटनीति और शिवाजी के शौर्य के समावेश थे सरदार पटेल. उस समय देश में एक निराशा का वातावरण था..सबको लगता था कि देश ऐसे ही बिखरा रहेगा, ऐसी स्थिति में सरदार पटेल ही आशा की किरण बन कर सामने आये.

अब दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति स्टेचू ऑफ़ यूनिटी के बाद द्वितीय स्थान पर है चीन में स्थित स्प्रिंग टेंपल की बुद्ध की मूर्ति, जो कि 153 मीटर ऊंची है. यह प्रतिमा नर्मदा नदी पर सरदार सरोवर बांध से 3.5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है.

स्टैच्यू आफ यूनिटी जहां राष्ट्रीय गौरव और एकता की प्रतीक है वहीं यह भारत के इंजीनियरिंग कौशल तथा परियोजना प्रबंधन क्षमताओं का सम्मान भी है. इस मूर्ति के निर्माण का मुख्य श्रेय इसके प्रमुख शिल्पकार 92 वर्षीय राम वी. सुतार को जाता है.

न्यूयॉर्क स्थित स्टेचू ऑफ़ लिबर्टी के मुकाबले बेहतर और अधिक ऊंची बनी हमारी स्टेचू ऑफ़ यूनिटी के निर्माण में 250 इंजीनयरों समेत 3,400 मजदूरों ने अपना पसीना बहाया है. 4 साल में तैयार हुई सरदार पटेल की इस प्रतिमा के दर्शन हेतु लोगों को 350 रुपये खर्च करने पड़ेंगे.

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी का कुल वजन 1700 टन है और ऊंचाई 522 फ़ीट है. इस निराली प्रतिमा के पैर की ऊंचाई 80 फिट, हाथ की ऊंचाई 70 फिट, कंधे की ऊंचाई 140 फिट और चेहरे की ऊंचाई 70 फिट है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि सरदार पटेल की प्रतिमा का दर्शन करने आने वाले टूरिस्ट सरदार सरोवर डैम, सतपुड़ा और विंध्य के पर्वतों के दर्शन भी कर पाएंगे.

इस प्रतिमा की आधारशिला तब रखी गई थी जब नरेंद्र भाई मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे. 31 अक्तूबर, 2013 को पटेल की 138 वीं वर्षगांठ के अवसर पर इस स्मारक का भूमि पूजन संपन्न हुआ था. तब इस महती योजना में आहुति देने के लिए मोदी जी ने देश भर का आवाहन किया था और फिर उनकी पार्टी भाजपा ने पूरे देश में लोहा इकट्ठा करने का अभियान भी चलाया था .

और आज यदि स्टेचू ऑफ़ यूनिटी पर आई कुल लागत की बात करें सरदार सरोवर बाँध से साढ़े तीन किलोमीटर दूरी पर स्थित इस मूर्ति के निर्माण में लगभग 2,989 करोड़ रुपये का खर्च आया है.

(अर्चना शैरी)

ट्रेंडिंग

काम की खबरें

देश

विदेश

मनोरंजन

राजनीति