परिन्दे सी उड़ने वाली लड़की

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email
परिन्दे सी उड़ने वाली लड़की 
जब तुम्हारे कहने पर कदम बढ़ाए 
नदी सी चंचल बहने वाली 
जब तुम्हारी हल्की सी
बेरुखी से खामोश हो जाए 
दुनिया की भी परवाह न करने वाली 
जब तुम्हारे एक एक शब्द को
अपने ईष्ट के वचन समझे 
तुम्हारी खुशी के लिए कुछ भी कर जाए 
क्या  होता है ये एहसास 
हर लम्हा होता है पास 
कोई वो जो हो सबसे ख़ास 
जिसकी एक आवाज़ से
दिल खुशी से झूम जाए 
और फिर अचानक से वही खास 
नैनों को अश्कों का समुंदर बना जाए
अपनी बेरुखी से दिल को तार तार कर जाए 
क्या ही अच्छा हो वो लड़की
धरती के आगोश में समा जाए 
और एक अनकही अनसुनी दास्तां 
वक़्त और हालात की गर्दिश में खो जाए 
और उग जाए वहां एक गुलाब का पौधा 
जिस पर खिलेंगे उस लड़की के बिखरे अरमां 
बनकर ख़ूबसूरत  सुर्ख शोख गुलाब 
मरकर भी महकाते रहेंगे उसके दिल के ख़्वाब !!

 

 

https://newsindiaglobal.com/news/litrature/kiru-i-am-leaving-this-wish-list-for-you/14996/