Alwar में तोड़ा 300 साल पुराना Shiv Mandir – Buldozer वाला बदला

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

देश में बुलडोज़रों की बात कुछ इतनी जोरदार चल रही है जैसे कि देश भर में बुलडोज़र चल गए हों.

बुलडोज़र क्यों चले इस पर कोई बात नहीं करता उनके चलने पर सब सियासत कर रहे हैं. अब यही बुलडोज़र चला दिया है गहलौत ने भी. पर इस बुलडोज़र पर अब कोई बात नहीं होगी, कोई आवाज़ नहीं होगी.

राजस्थान में चला है ये बुलडोज़र. चलवाने वाली है गहलौत सरकार. गहलौत सरकार ने बुलडोज़र चला कर क्या सन्देश दिया है ये तो वही जानें पर भारत में इसका सन्देश जो गया है वो ये है कि गहलौत ने की है बदले की कार्रवाई.

दरअसल इसके पहले उत्तरप्रदेश और मध्य्प्रदेश में चले थे बुलडोज़र जो कि सामाजिक आतंक फैलाने वाले उपद्रवियों पर की गई कार्रवाई थी साथ ही अतिक्रमण को ध्वस्त करने की शासकीय जिम्मेदारी भी थी. जब ऐसा किया गया तो शोर मचा कि ये एक समुदाय विशेष के उत्पीड़न की साजिश है. इसके बाद जब दिल्ली में भी उपद्रवियों के अतिक्रमण पर बुलडोज़र चला तो शोर सातवें आसमान पर पहुंच गया और सीधे तौर पर सरकार के अतिक्रमण विरोधी अभियान को साम्प्रदायिक रंग दे दिया गया और सरकार विरोधी हर नेता और पार्टी एक सुर में ये राग अलापने लगे कि बीजेपी अल्पसंख्यकों के खिलाफ है, बीजेपी एक समुदाय के खिलाफ है और कहीं कहीं तो ये भी सुनाई दिया कि बीजेपी ही देश भर में दंगे करा रही है.

इस शोर-शराबे का मकसद सीधे सीधे समुदाय विशेष का तुष्टिकरण करना है. जो सबको दिखाई दे रहा है किन्तु अब जब हिन्दू बहुसंख्यक भारत में एक मंदिर गिरा दिया गया तो कोई कुछ नहीं कह रहा.

और कमाल की बात ये भी है कि ये मंदिर एक तीन सौ साल पुराना शिव मंदिर था जो कि सीधे सीधे हिन्दू विरोधी कार्रवाई दिखाई देती है क्योंकि ये राज्य कांग्रेसनीत प्रदेश है. यहां सोनिया गांधी ने गहलौत को बैठाया हुआ है. अब गहलौत ने सोनिया गाँधी को खुश करने के लिए ऐसा किया या समुदाय विशेष को खुश करने की ये कोशिश है यह बताने की आवश्यकता नहीं है – क्योंकि इस सवाल के दोनों जवाब हो सकते हैं.

ये घटना घटी है राजस्थान के अलवर जिले में. यहां तीन मंदिर तोड़े गए हैं और इस घटना की शिकायत कांग्रेस विधायक सहित तीन लोगों के खिलाफ. अलवर के राजगढ़ में तीन मंदिरों को तोड़े जाने के इस मामले में भाजपा कांग्रेस सरकार पर हमलावर हो गई है.

भाजपा के आईटी सेल के चीफ अमित मालवीय ने इस मामले में कांग्रेस को घेरा है. मालवीय ने कहा है कि जहांगीरपुरी और करौली पर आंसू बहाना और हिंदुओं की आस्था को ठेस पहुंचाना, यही है कांग्रेस का सेक्युलरिजम.