सावधान : छोटों के लिए बड़ा घाटा है पचास का नकली नोट !

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

अब बदलिये आदत, लेकर नोट सीधे जेब में डालेंगे तो रोज़ हो सकता है आपको नुकसान..

अब बाजार में आपको थोड़ा ध्यान रखने की आवश्यकता होगी. अब जब भी आप कहीं किसी से पैसे वापस लें, एक बार नज़र ज़रूर डाल लें. मोदी जी की नोटबदली के बाद अब पहली बार नकली नोट आये हैं बाज़ार में.

और इस बार नुक्सान आम आदमी का ही अधिक हो सकता है क्योंकि पचास के नोट का लेन-देन आमआदमी के हांथों से ही ज्यादा होता है. बाजार में ये पचास के नकली नोट इतने शातिर तरीके से बनाये गए हैं कि एक नज़र में इन्हें पहचानना मुश्किल है.

बताया जा रहा है कि ये नकली पचास के नोटों की मार्किट में भरमार देखी जा रही है. कुछ शातिर ठग इन नोंटों को स्‍कैन करके आराम से बाजार में चला भी रहे हैं. बड़ा ही बारीक अंतर् है इन दोनों नोटों में अर्थात असली और नकली पचास के नोटों में.

थोड़ी राहत इस बात से है कि अभी ये नोट बैंक तक नहीं पहुंचे हैं और अब उनका बैंकों में पहुंचना भी थोड़ा मुश्किल ही है क्योंकि बैंकों को भी नोटों की दुनिया में इन नकली नोटों की सेंधमारी की खबर हो गई है. बैंक सतर्क हो गए हैं. बैंकों ने भी अपनी शाखाओं को सावधान कर दिया है. ये स्पष्ट निर्देश जारी हुआ है कि प्रत्येक नोट की बारीकी से पहचान करने के बाद ही उनको लिया जाए.

नोटों की जालसाजी की दिशा में ये नए ढंग का ठगी वाला रुझान है – अब तक तो नकली नोटबाज़ आमतौर पर बड़े नोटों की ही नकली कॉपी बनाया करते थे लेकिन पहली बार ऐसा हो रहा है जब बाजार में 50 रुपये का नकली नोट चलाया जा रहा है.

गौर से देखें तो पता चलता है कि यह नोट मशीन से छापा गया नोट नहीं है. इन नोटों को बड़ी ही चालाकी से स्कैन कर के बनाया गया है. अगर आप बहुत ध्यान से देखेंगे तो आपको असली और नकली नोट का फर्क साफ़ दिख जाएगा. होता ये है कि आजकल हम लोग छोटे नोटों को ध्यान से नहीं देखते, लेकिन अब हमें इस आदत में सुधार करने की आवश्यकता है.

एक जो सबसे साफ़ फर्क है उसे आप भी नज़र में रखें. चूंकि नकली नोट फोटोकॉपी हैं इसलिए थोड़ा गौर से देखेंगे तो आप पकड़ लेंगे. असली नोट में चांदी सी चमकती लाइनिंग दिखती है, नकली नोट में वह फोटोकापी जैसी दिख रही है. बस, इस ज़रा सी बात का आपको ध्यान रखना है.

(अर्चना शैरी)