CDS बिपिन रावत का हेलिकॉप्टर क्रैश, पत्नी समेत 14 लोग थे सवार, 13 शव बरामद, हादसे पर प्रतिक्रियाएं आईं

Bipin Rawat Helicopter Crash :तमिलनाडु में सैन्य हेलिकॉप्टर हादसे में शामिल 14 में से 13 कर्मियों की मौत की पुष्टि हो गई है. सूत्रों के मिली जानकारी के मुताबिक सीडीएस जनरल बिपिन रावत (CDS Bipin Rawat) की हालत नाजुक हैं और उनका अस्पताल में ईलाज चल रहा है. तमिलनाडु के नीलगिरी जिले के कुन्नूर में भारतीय वायूसेना का विमान IAF Mi-17V5 दुर्घटनाग्रस्त हो गया था. हेलिकॉप्टर में चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी मधुलिका रावत, रक्षा सहायक, सुरक्षा कमांडो और वायुसेना के पायलट समेत कुल 14 लोग सवार थे.

सीडीएस जनरल बिपिन रावत को ले जा रहा IAF Mi-17V5 हेलीकॉप्टर, तमिलनाडु के कुन्नूर के पास 8 दिसंबर को दुर्घटना का शिकार हो गया. CDS रावत सुबह 9 बजे दिल्ली से निकले थे और दोपहर 12.20 मिनट पर हेलीकॉप्टर क्रैश हो गया था. आर्मी कैंप पहुंचने से 5 मिनट पहले ही सेना का विमान हादसे का शिकार हो गया. कुन्नूर विमान हादसे में 14 में से 13 लोगों की मौत कि पुष्टि हो गई है. शवों की पहचान डीएनए जांच से की जाएगी.

तमिलनाडु के CM एमके स्टालिन का कहना है कि वह CDS बिपिन रावत को लेकर सैन्य हेलिकॉप्टर दुर्घटना स्थल पर जा रहे हैं. उनका कहना है कि उन्होंने स्थानीय प्रशासन को बचाव कार्यों में हर संभव मदद मुहैया कराने का निर्देश दिया है.

घटना के बाद कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भी ट्वीट किया. राहुल गांधी ने ट्वीट कर लिखा- आशा है कि हेलीकॉप्टर में सवार सीडीएस जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी और अन्य लोग सुरक्षित होंगे. सभी के शीघ्र स्वस्थ होने की प्रार्थना.

उत्तर प्रदेश के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने भी कुन्नूर हादसे पर दुख जताया. उन्होंने सभी के सुरक्षित जीवन की कामना कि. अखिलेश यादव ने ट्वीट किया कि, कुन्नूर में सेना के हैलिकॉप्टर के हादसे की खबर देश के लिए बेहद चिंतनीय एवं दुखद है. सभी के सुरक्षित जीवन के लिए हृदय से प्रार्थना.

उत्तराखंड की मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने जनरल बिपिन सिंह रावत के साथ ही विमान में सवार सभी लोगों की सकुशलता की कामना की.

तमिलनाडु के नीलगिरी जिले के कुन्नूर में दुर्घटनाग्रस्त हेलीकॉप्टर Mi-17V5 में सीडीएस जनरल बिपिन रावत के साथ ही 14 लोग सवार थे. हादसे 3 लोगों बचाया गया है वहीं 11 शवों को बाहर निकाला गया है. दुर्घटनास्थल से बरामद शवों को तमिलनाडु के वेलिंगटन के सैन्य अस्पताल ले जाया गया है. मौसम की खराबी की वजह से हेलिकॉप्टर के पायलट सही अनुमान लगाने से चूक गए और यह हादसा हो गया.