पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली की हालत नाजु़क, एम्स में लगा नेताओं का तांता

Share on facebook
Share on twitter
Share on google
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

बीजेपी के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली की हालत नाज़ुक बनी हुई है. उन्हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा हुआ है. उन्हें कॉर्डियो-न्यूरो सेंटर के आईसीयू में रखा गया है. सांस लेने में तकलीफ की वजह से जेटली 9 अगस्त को एम्स में भर्ती हुए थे. उनकी हालत में कोई सुधार नहीं हुआ है. एम्स ने 10 अगस्त के बाद से जेटली के स्वास्थ्य को लेकर कोई बुलेटिन जारी नहीं किया है. डॉक्टरों की टीम जेटली की सेहत पर नजर बनाए हुए है. खुद एम्स के डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया अपना विदेश दौरा बीच में ही रद्द कर दिल्ली वापस पहुंच गए थे.

 जेटली की सेहत का हाल जानने के लिए एम्स में सियासी जगत के नेताओं का तांता लगा हुआ है. रविवार को जेटली का हाल जानने के लिए संघ प्रमुख मोहन भागवत एम्स पहुंचे. इससे पहले राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, गृह मंत्री अमित शाह, रेल मंत्री पीयूष गोयल, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, बीएसपी सुप्रीमो मायावती एम्स पहुंचे.अरुण जेटली से मुलाकात के बाद मायावती ने ट्वीट किया  कि पूर्व केन्द्रीय वित्त एवं रक्षा मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली के स्वास्थ्य का हालचाल लेने दिल्ली के एम्स अस्पताल गई थी.

अरुण जेटली इलाज के लिए इसी साल 13 जनवरी को न्यूयॉर्क गए थे और एक महीने इलाज कराने के बाद फरवरी में स्वेदश लौटे थे. उनका सॉफ्ट टिश्यू कैंसर का इलाज चल रहा था. इससे पहले पिछले साल 14 मई को एम्स में उनका किडनी ट्रांसप्लांट हुआ था. जिस वजह से रेल मंत्री पीयूष गोयल को वित्त मंत्रालय की अतिरिक्त जिम्मेदारी दी गई थी.

स्वास्थ कारणों की वजह से जेटली ने साल 2019 का लोकसभा चुनाव नहीं लड़ा था और वो पीएम मोदी की नई सरकार में नहीं शामिल हुए थे. इससे पहले उन्होंने मोदी सरकार में वित्त और रक्षा मंत्रालय का कार्यभार संभाला था.

सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठतम वकील अरुण जेटली को बीजेपी का संकटमोचक माना जाता है. कई निर्णायक मौकों पर जेटली ने अहम भूमिका निभाई है. आज सभी राजनीतिक दलों के लोग उनके शीघ्र स्वास्थ लाभ की कामना और प्रार्थना कर रहे हैं.

ट्रेंडिंग

काम की खबरें

देश

विदेश

मनोरंजन

राजनीति