Cabinet Expansion: लक्ष्य बढ़े, जिम्मेदारियां बढ़ीं तो अब Modi Cabinet भी बढ़ा

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email
समाचार मंत्रिमंडल का विस्तार नहीं है. समाचार ये भी नहीं है कि कुल बारह लोगों को बदला जा रहा है बल्कि समाचार ये है कि मोदी सरकार के 3 बड़े मंत्रियों रविशंकर प्रसाद, प्रकाश जावड़ेकर और हर्षवर्धन का त्यागपत्र हो गया है. क्या इनके मंत्री-स्तरीय प्रदर्शन संतोषजनक नहीं था अथवा इन्हें दूसरी बड़ी जिम्मेदारियां दी जा रही हैं. इस स्थिति का शुद्ध विपरीत कारण भी हो सकता है जिसके अनुसार इन दोनों ही मंत्रियों का उत्तम प्रदर्शन रहा है इसलिए इन्हें दूसरे महत्वपूर्ण दायित्व प्रदान कर इनसे और अधिक अपेक्षा की जा रही है.

हर्षवर्धन ने भी दिया त्यागपत्र

मोदी सरकार का कैबिनेट विस्तार चर्चा का विषय इसलिए भी बन गया है क्योंकि इसके पहले एक दर्जन से अधिक मंत्रियों ने मंत्रिमंडल छोड़ दिया है. एक तरफ तो जहां बीजेपीनीत केंद्र सरकार के आईटी व कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद तथा सूचना व प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने अपना पद त्याग किया है तो वहीं स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन भी अहम मंत्रालय के दायित्व से मुक्त किये गए हैं.

रविशंकर प्रसाद ने भी छोड़ा मंत्रालय

क़ानून मंत्री रविशंकर प्रसाद के त्यागपत्र को लेकर राजनीति के पंडित अचम्भित हैं क्योंकि वर्तमान में जब उन्होंने त्यागपत्र दिया है, इस दौरान उनके मंत्रालय ने नए आईटी नियमों को कार्यान्वित किया है. ये वहीं आईटी नियम हैं जिन पर ट्विटर जैसी सोशल मीडिया कंपनियों ने भारत सरकार से टकराने की कोशिश की थी किन्तु फिर इन कंपनियों ने हाथ जोड़ कर अपनी गलती का सुधार कर लिया था.

जावड़ेकर सहित अन्य मंत्री ये हैं

मोदी मंत्रिमंडल से मुक्त हुए कुल 12 मंत्रियों में प्रकाश जावड़ेकर भी सम्मिलित हैं. राष्ट्रपति सचिवालय से जारी की गई विज्ञप्ति के अनुसार, ”प्रधानमंत्री के सुझाव पर भारत के राष्ट्रपति ने मंत्रिपरिषद के बारह सदस्यों का इस्तीफा तत्काल प्रभाव से स्वीकार कर लिया है।” जावड़ेकर सहित त्यागपत्र देने वाले अन्य मंत्रियों में सदानंद गौड़ा, रविशंकर प्रसाद, थावरचंद गहलोत, रमेश पोखरियाल निशंक, डॉ. हर्षवर्द्धन, प्रकाश जावड़ेकर, संतोष कुमार गंगवार, संजय धोत्रे, रतनलाल कटारिया, प्रतापचंद सारंगी और देवश्री चौधरी सम्मिलित हैं.