होम क्वारेंटाइन वाले मरीज़ों को मिलेगा ऑक्सीजन पल्स मीटर, सीएम केजरीवाल का ऐलान

Share on facebook
Share on twitter
Share on google
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email
  • होम क्वारेंटाइन वाले मरीज़ों को केजरीवाल का तोहफा
  • घर में ही चेक कर सकेंगे खून में ऑक्सीजन का प्रवाह
  • घर में ऑक्सीजन लेवल चेक करने के लिए मिलेगा पल्स ऑक्सीमीटर
  • दिल्ली में कोरोना मरीज़ों की तादाद पहुंची 60 हज़ार के करीब

देश की राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों में लगातार तेजी आ रही है. बढते मामलों की वजह से कोरोना टेस्ट में जहां बढ़ोतरी कर दी गई है वहीं होम क्वारेंटाइन वाले मरीज़ों के लिए दिल्ली सरकार  कोरोना मरीजों को पल्स ऑक्सीमीटर देने का ऐलान किया. केजरीवाल ने कहा कि पल्स ऑक्सीमीटर की मदद से लोग घर बैठे खून में ऑक्सीजन की जांच कर सकेंगे.केजरीवाल ने कहा कि खुद को घर में आइसोलेट करने वाले कोरोना मरीजों को दिल्ली सरकार ऑक्सी पल्स मीटर देगी जिसे 10 दिन इस्तेमाल करने के बाद लौटाना होगा.

कैसा होता है पल्स ऑक्सीमीटर?

बीपी मशीन की ही तरह पल्स ऑक्सीमीटर एक छोटा सा इलेक्टॉनिक डिवाइस होता है जो कि ब्लड में ऑक्सीजन सैचुरेशन लेवल और ऑक्सीजन लेवल की जानकारी देता है. डिवाइस में लगा सेंसर खून में ऑक्सीजन के हल्के से बदलाव को भी डिजिटल स्क्रीन पर दिखा देता है. डिवाइस को उंगली में क्लिप की तरह फंसाया जाता है. इसके बाद इसमें लगा सेंसर खून में ऑक्सीजन के फ्लो की स्थिति बताता है.

क्यों जरूरी है पल्स ऑक्सीमीटर?

कोरोना वायरस खासतौर से श्वसन-तंत्र पर हमला करता है. ये फेफड़े को इस कदर प्रभावित करता है कि शरीर में ऑक्सीजन की भारी कमी हो जाती है और मरीज़ को अगर सही समय पर ऑक्सीजन या फिर वेेंटिलेटर मुहैया नहीं कराया जाए तो उसकी जान जा सकती है. सांस की दिक्कतों और शरीर में ऑक्सीजन की कमी को अगर समय रहते ही जान लिया जाए तो इससे मरीज़ को सही समय पर सही इलाज मिल सकता है जिससे उसकी जान बच सकती है. ऐसे में पल्स ऑक्सीमीटर शरीर में ऑक्सीजन लेवल को लेकर होम क्वारेंटाइन में रह रहे कोरोना मरीज़ों को लगातार अलर्ट करता रहेगा.

रोज़ाना 3 गुना ज्यादा हो रहे हैं कोरोना टेस्ट

साथ ही सीएम केजरीवाल ने बताया कि दिल्ली में कोरोना टेस्ट अब तीन गुना ज्यादा हो रहे हैं. पहले 5 हज़ार टेस्ट रोजाना होते थे जबकि अब 18 हज़ार टेस्ट रोजाना हो रहे हैं. वहीं दिल्ली के अस्पतालों में उन्होंने कोविड 19 मरीज़ों के लिए 7 ह़ज़ार बेड खाली होने की बात की, उन्होंने बताया कि 12 हज़ार कोरोना संक्रमितों का घर पर ही इलाज चल रहा है. उन्होंने कहा कि हल्के या सामान्य लक्षणों वाले मरीज़ों का इलाज घर पर ही किया जा रहा है. उन्होंने बताया कि उनकी टीम रोज़ाना मरीजों का अपडेट ले रही है. मुख्यमंत्री ने बताया कि इस वक्त दिल्ली में 25 हज़ार लोग कोरोना संक्रमित हैं.

हाल ही में होम क्वारेंटाइन को लेकर दिल्ली के उपराज्यपाल और दिल्ली सरकार के बीच ठन गई थी. उप राज्यपाल अनिल बैजल ने कोरोना पॉज़िटिव पाए जाने वाले मरीज़ों को क्वारेंटाइन सेंटर शिफ्ट करना अनिवार्य कर दिया था. जिसका दिल्ली सरकार ने ये कह कर विरोध किया था कि क्वारेंटाइन सेंटर के डर से लोग कोरोना टेस्ट नहीं कराएंगे और अस्पतालों में भी डॉक्टरों और नर्सों पर इसका दबाव बढ़ेगा. जिसके बाद उपराज्यपाल ने अपना फैसला वापस ले लिया था.

अब सीएम केजरीवाल ने होम क्वारेंटाइन मरीज़ों को ऑक्सीजन पल्स मीटर मशीन देने का ऐलान कर इलाज में एक बड़ी सहूलियत जरूर दी है. दिल्ली में पिछले एक सप्ताह में कोरोना संक्रमण के मामलों में जबर्दस्त तेज़ी आई है. दिल्ली अब तमिलनाडु को पीछे छोड़कर दूसरे नंबर आ गई है. दिल्ली में पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के 3 हजार ने मामले सामने आने के बाद कुल संक्रमित लोगों की तादाद 60 हज़ार के करीब पहुंच गई है.

ट्रेंडिंग

काम की खबरें

देश

विदेश

मनोरंजन

राजनीति