Corona की तीसरी लहर की आहट, केंद्र सरकार ने राज्यों से कहा -अस्थाई अस्पताल बनाइये!

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

अब तक जो बातें अफवाहें दिखाई दे रही थीं, अब सच्चाई में बदलती नज़र आ रही हैं..कोरोना की तीसरी लहर ओमीक्रॉन की सवार करके देश में दस्तक दे रही है..

नए साल के पहले दिन शनिवार 01 जनवरी को केंद्र सरकार देश के सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को कोरोना की गंभीरता से अवगत कराया. सरकार ने पत्र लिखकर राज्यों से अपनी स्वास्थ्य संबंधी बुनियादी संरचना को तुरंत जांचने को कहा है. केंद्र ने राज्यों को जो निर्देश दिए हैं उनमे से प्रमुख अस्पतालों में और बिस्तर बढ़ाने, स्वास्थ्य सम्बन्धी देखभाल सुविधाओं को बढ़ाने के अलावा, राज्यों को सावधानी बरतने के लिए और अपनी ऑक्सीजन उपलब्धता को जांचने के भी निर्देश दिए हैं.

दुनिया भर में तेजी से बढ़ रहे हैं कोरोना मामले

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के सचिव राजेश भूषण के द्वारा लिखे गए इस पत्र में बताया गया है कि दुनिया भर में कोरोना के मामलों वृद्धि दर्ज की का रही है और ये तेजी से बढ़ रहे कोरोना मामले तीसरी लहर की तरफ संकेत कर रहे हैं.

विकसित देशों में तेजी से फैल रहा ओमिक्रॉन

केंद्र सरकार ने देश के तमाम राज्यों को अस्थायी अस्पताल बनाने का निर्देश दिया है. राज्यों को लिखे पत्र में स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि, “ओमीक्रॉन नामक चिंता वाले इस वैरिएंट का प्रसार दुनिया भर में हो रहा है और इसके कारण कोविड-19 क्व मामलों में अब तक की सबसे अधिक बढ़ोत्तरी दर्ज की जा रही है. इस पत्र में उल्लेख किया गया है कि भारत में साल के अंतिम दिन भी रिपोर्ट किये गए 16,764 कोरोना मामले ऊपर की ही ओर जाते नज़र आ रहे हैं. अमेरिका और यूरोप में कई विकसित देश पिछले दो तीन हफ्तों में कोरोना के नए मामलों में उल्लेखनीय बढ़ोत्तरी दिखा रहे हैं जिससे जाहिर है कि इस वायरस में तेजी से फैलने की क्षमता है.”

महाराष्ट्र में दे दी है दस्तक

इस जानकारी के पूर्व डॉक्टरों और विशेषज्ञों के जो वक्तव्य सामने आये हैं उनके अनुसार महाराष्ट्र में कोरोना वायरस की तीसरी लहर शुरुआती चरण में पहुंच गई है. ऐसी स्थिति में महाराष्ट्र सरकार को आशंका है नववर्ष में जनवरी के तीसरी हफ्ते में प्रदेश कोरोना वायरस के 80 लाख मामले सामने आ सकते हैं. इतना ही नहीं इस दौरान 80 हजार लोगों की जानें भी इस वायरस की वजह से जा सकती हैं.