किसान हिंसा पर Shashi Tharoor, Rajdeep Sardesai और Mrinal Pandey के खिलाफ हुआ मामला दर्ज

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

नोएडा. उत्तरप्रदेश पुलिस ने जानकारी दी है कि किसान आंदोलन को हिंसक बनाने के लिए बाकायदा कोशिश हुई और कोशिश कामयाब भी हुई. हिंसा के हालात पैदा करने वालों के लिए पुलिस ने एक लम्बी सूची बनाई है. कुछ लोग गिरफ्तार हुए हैं और बहुत से अभी गिरफ्तार होने हैं. हिंसा के लिए उकसाने के लिए जिम्मेदार लोगों में उत्तर प्रदेश पुलिस ने कांग्रेस सांसद शशि थरूर, न्यूज एंकर राजदीप सरदेसाई समित सात लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया है.

नोएडा में हुआ मामला दर्ज

नोएडा पुलिस ने हिंसा करने वालों के खिलाफ कमर कस ली है और नोएडा के सेक्टर 20 थाने में इन लोगों पर मुकदमा दर्ज किया गया है. ये शिकायत अर्पित मिश्रा नाम के व्यक्ति द्वारा दर्ज कराई गई है और इस शिकायत के आधार पर दर्ज एफआईआर में बताया गया है कि इस एफआईआर में नामजद किये गए लोगों ने 26 जनवरी को भ्रामक अर्थात गलत पोस्ट डाल कर दंगा भड़काने की साजिश की.

मिश्रा ने ठहराया जिम्मेदार

नोएडा ठाने में दर्ज कराई अपनी एफआईआर में शिकायत करने वाले अभिजीत मिश्रा ने बताया कि वह परिवार के साथ सेक्टर 74 सुपरटेक केपटाउन में रहते हैं. मिश्रा ने पुलिस को दी जानकारी में आरोप लगाया है कि 26 जनवरी को दिल्ली में हुई हिंसा अपनेआप नहीं हुई बल्कि इसके पीछे कांग्रेस सांसद शशि थरूर, पत्रकार राजदीप सरदेसाई, पत्रकार मृणाल पांडेय, पत्रकार जफर आगा, परेशनाथ, अनन्तनाथ, विनोद के जोश और एक अज्ञात व्यक्ति का हाथ है.

‘षड्यंत्र के तहत सुनियोजित दंगे कराये गए’

शिकायतकर्ता ने बताया कि – ”26 जनवरी 2021 को जानबूझकर कराए गए गए दंगों से मैं बेहद क्षुब्ध हूँ. इन व्यक्तियों ने अपने पूर्वाग्रह का शिकार हो कर इस तरह का कार्य जिससे देश की सुरक्षा और जनता का जीवन को खतरे में डाला. एक साजिश के अंतर्गत सुनियोजित दंगा कराने और लोक सेवकों की हत्या करने के उद्देश्य से इन लोगों ने राजधानी में दंगे और हिंसा कराई.”