Team India कैसे छीन सकती है आज England से मैच, ये हैं जीत के सात सूत्र

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

 

भारत की क्रिकेट टीम पिछले कुछ सालों से हार को जीत में बदलना सीख गई है. अब जबकि टीम इन्डिया वर्ल्ड टेस्ट फाइनल की तरफ कदम बढ़ा रही है, इंग्लैण्ड के साथ चल रही उसकी टेस्ट शृंखला और भी रोमांचक होती जा रही है. लेकिन गौर से देखें तो भारत का पलड़ा इंग्लैण्ड के मुकाबले थोड़ा भारी है. क्यों भारी है भारत का पलड़ा जो जीता सकता है कल मैच और शृंखला भी, आइये बताते हैं आपको:

जीत का सूत्र नंबर एक

मैच के पांचवे औऱ अन्तिम दिन भारत को कुल 421 रन जोड़ने हैं जबकि 39 रन कल बन चुके थे. ऐसे में आज नौ विकेट हाथ में रख कर भारत को 382 रन बटोरने हैं. ये स्कोर बहुत बड़ा नहीं है और टीम इण्डिया की पहुँच से बाहर नहीं है. टेस्ट क्रिकेट में सबसे बड़ा स्कोर चेज़ करके जीत हासिल करने का कीर्तिमान भारत के ही नाम है. भारत ने टेस्ट में सबसे बड़ा लक्ष्य 406 रन का हासिल किया है और ये जीत भारत की टीम ने दुनिया की उस समय की नंबर वन टीम वेस्ट इंडीज़ के खिलाफ 1976 में हासिल की थी. आज 2021 में भी भारत बल्लेबाजी काफी मजबूत है जो आज इंग्लैन्ड से मैच छीन सकती है और अच्छी गेंदबाज़ी के साथ सीरीज़ भी.

जीत का सूत्र नंबर दो

टीम इंडिया ये स्कोर चेज़ कर सकती है अगर थोड़ा ठहर कर खेले क्योंकि टीम इंडिया के पास रौहित शर्मा के आउट हो जाने के बाद अभी भी छह बल्लेबाज़ हैं जो बड़े स्कोर बना सकते हैं – गिल, पुजारा, कोहली, रहाणे, ऋषभ पंत और वाशिंगटन सुन्दर. देखा जाए तो बैटिंग अश्विन की भी बुरी नहीं है. इसलिए कुल मिला कर आज दिन भर में 382 रन बनाना बहुत मुश्किल नहीं होगा.

जीत का सूत्र नंबर तीन

जीत इस तरह से भी पक्की होगी कि ऋषभ पंत जो पिछले कुछ मैचों से लगातार अपने बल्ले का जौहर दिखा रहे हैं और अगर कल भी वो अपने फ़ार्म को इसी तरह कायम रख सके तो तीन सौ अस्सी क्या चार सौ अस्सी भी बनाये जा सकते हैं. इसी तरह वाशिंगटन सुंदर जो पिछले दो मैचों से लगातार दो हाफ सेंचूरी जड़ चुके हैं, अगर आज भी हाफ सेंचुरी का योगदान देते हैं तो टीम के लिए जीत की दिशा में बड़ा योगदान होगा.

जीत का सूत्र नंबर चार

कैप्टन कोहली वो बल्लेबाज़ हैं जो फ़ार्म में आजायें तो शतक भी आराम से मार सकते हैं. पिछले कुछ मैचों में मैच जिताऊ पारी उनके बल्ले से नहीं निकली है किन्तु आज के मैच में अगर उनका बल्ला चल गया तो उच्चतम स्कोर उनका ही होने की संभावना सबसे ज्यादा है जो मैच भी जिताएगा और आत्मविश्वास दुगुना करके उनके बल्ले के माध्यम से सीरीज़ भी जिता सकता है.

जीत का सूत्र नंबर पांच

ऑस्ट्रेलिया में ऐतिहासिक जीत के लिए कप्तान रहे थे अजिंक्य रहाणे और वे ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध दूसरे टेस्ट मैच में प्लेयर ऑफ़ दी मैच भी रहे थे. अनुभवी और बल्लेबाज़ी के धनी अजिंक्य रहाणे आज भी प्लेयर ऑफ़ दी मैच की भूमिका में आ सकते हैं यदि वे शतक भी लगाएं और मैच भी जिताएं.

जीत का सूत्र नंबर छह

एक ऐसा खिलाड़ी है भारतीय टीम में जो बल्लेबाजी का बहुत अच्छा कौशल रखता है और विराट कोहली से जरा ही कम है. जी हाँ अगर कप्तान कोहली दुनिया के चौथे नंबर के बल्लेबाज़ हैं तो उनके बाद है ये खिलाड़ी जो आज की तारिख में दल्लेबाज़ी रैंकिंग में दुनिया का पांचवां सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज़ है और इसका नाम है चेतेश्वर पुजारा. पुजारा अभी क्रीज़ पर है और जब तक वो क्रीज़ पर मौजूद है, पलड़ा भारत की तरफ ही झुका हुआ है. पुजारा में न केवल आज का मैच जिताने की क्षमता है बल्कि ये शृंखला भी भारत के नाम करने का सामर्थ्य है.

जीत का सूत्र नंबर सात

ये सूत्र सब जानते हैं इसलिए इसकी बात सबसे आखिरी में की जा रही है किन्तु इसका महत्व सबसे पहले है. टीम इंडिया जिन मैदानों में टीम इंग्लैण्ड का सामना कर रही है वो भारत के मैदान हैं. भारतीय खिलाड़ियों का अपने मैदानों में न केवल खेलने का अच्छा अनुभव है बल्कि इस कारण उनका आत्मविश्वास भी प्रबल है जो कि इंग्लैण्ड के लिए भारी पड़ सकता है चाहे मामला हो आज का या पूरी सीरीज़ का – जीत की संभावना भारत की अधिक बनती है.