JNU वालों पर राज द्रोह का केस -और विधवा विलाप शुरू

Share on facebook
Share on twitter
Share on google
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email


आज सवाल कर रहा है मीडिया 3 साल क्यूँ लगे ?

9 फरवरी, 2016 को अफ़ज़ल गुरु की फांसी पर लटकाने के 3 साल बाद बरसी मनाते हुए JNU के कथित छात्रों ने देश के टुकड़े टुकड़े करने के नारे लगाए, हर घर से अफ़ज़ल निकालने की प्रतिज्ञा की और राजद्रोह की मंशा से सभी नारे लगाए .

आज 3 साल बाद दिल्ली पुलिस ने मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट सुमित आनंद की अदालत में कन्हैया कुमार, उमर खालिद, अनिर्बान भट्टाचार्य, कुछ कश्मीरी छात्रों और 36 अन्य, जिनमे कामरेड डी राजा की बेटी और शेहला रशीद भी शामिल हैं, के खिलाफ “राज द्रोह” का मुकदमा दर्ज किया है.

याद रहे इन पर “राज द्रोह” का केस दर्ज किया गया है, देश द्रोह का नहीं – दोनों में फर्क है –राज द्रोह सत्ता के खिलाफ विद्रोह होता है और ये कोई किताब, पेंटिंग, सोच, भाषण आदि से भी हो सकता है जिससे राजसत्ता के खिलाफ बगावत की जा सके.

दूसरी तरफ देश द्रोह में देश विरोधी ताकतों से सांठगांठ करना और उन लोगों को साजो सामान के साथ समर्थन देना होता है जो देश के खिलाफ और देश तोड़ने के लिए काम करते हों .

लेकिन चार्ज शीट दायर होते ही विधवा विलाप शुरू हो गया – एक आम बात कही जा रही है –चुनावों में फायदा लेने के लिए किया गया है केस,राजनीती से प्रेरित है. ये कन्हैया का प्रलाप है –उमर खालिद कह रहा है कोर्ट में देख लेंगे –शेहला रशीद भड़क रही है कि ये बोगस केस है, सब बरी हो जायेंगे और मैं तो उस दिन वहां पर थी ही नहीं –

यानि देश तोड़ने की धमकी दोगे, आतंकियों को समर्थन करोगे किन्तु ये नहीं चाहते कि सरकार कार्रवाई करे –इस पर सारे देश के मीडिया चैनल्स पर प्रचार किया जा रहा है कि देश में लोगों के बोलने पर भी पाबन्दी लगाई जा रही है –हिम्मत है तो स्वीकार करो कि आप लोगों ने राज द्रोह के लिए नारे लगाए और अदालत में इस बात के लिए लड़ो कि ये आपका संवैधानिक अधिकार है —

य़आज मीडिया सवाल कर रहा है कि आरोप पत्र दायर करने में 3 साल क्यों लग गए, इतना समय नहीं लगना चाहिए था –बिलकुल ठीक है जी, मगर क्या एक भी चैनल ने 3 साल में एक बार भी ये खबर चलाई कि पुलिस विलम्ब क्यों कर रही है और क्या किसी ने दिल्ली पुलिस से पूछने की कोशिश की कि केस में क्या हो रहा है -केस का स्टेटस क्या है ?

राहुल गाँधी, केजरीवाल, सीताराम येचुरी और अन्य पर भी केस दर्ज होना चाहिये.

जिन पर केस दर्ज किया गया है उनके अलावा राहुल गाँधी, केजरीवाल, सीताराम येचुरी और अन्य उन नेताओं पर भी राज द्रोह का केस दर्ज होना चाहिए जो JNU में जा कर इन कथित छात्रों के समर्थन में खड़े हो गए थे –ये नेता लोग भी छात्रों की तरह बराबर के अपराधी हैं क्यूंकि इन्होने उनके अपराध में उनका साथ दिया और उन्हें बचाने के लिए उनकी हिमायत की –

मीडिया क्या निष्पक्ष हो कर नेताओं के खिलाफ राज द्रोह का मुकदमा दायर करने की वकालत करेगा ?

(सुभाष चन्द्र)
14/01/2019

ट्रेंडिंग

काम की खबरें

देश

विदेश

मनोरंजन

राजनीति