कलम उठाई जब भी हमने 

Share on facebook
Share on twitter
Share on google
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

कलम उठाई जब भी हमने
सफहों पर अफ़साने लिक्खे
यादों के गलियारों से
किस्से नये पुराने लिक्खे !

अल्हड़पन, नादानी और
भूले हुए ज़माने लिक्खे
अनछुए अहसासों में
सपनीले अफ़साने लिक्खे !

कुछ गुजर गए हैं हँसते-गाते,
कुछ नये दर्द अनजाने लिक्खे
कुछ रिसते जखम थे दशकों से
उनके घाव ठिकाने लिक्खे !

उम्मीद, आरजू, तन्हाई ,
महफ़िल और वीराने लिखे
जिया ज़िन्दगी को जैसे भी
पल-पल सब तराने लिक्खे !

कभी प्रणय गीत और पीड़ा भी
कभी मौसमी गाने लिखे
लिक्खा जो भी दिल से लिक्खा
जज़्बात बड़े दीवाने लिक्खे !

क्या खोया, क्या पाया अब तक
ज़ीस्त के हर पैमाने लिक्खे
जहाँ गिरे जब सम्हले वो भी
हर रस्ते अनजाने लिखे !

नहीं शिकायत शिकवा कोई
जैसी मिली बसर वो हुई
कुछ लम्हे गीले मौसम के
और लम्हे कुछ मस्ताने लिक्खे !

 

https://newsindiaglobal.com/news/trending/bichda-kutta-mila-apni-maalkin-se-the-dog-met-with-its-owner-after-a-long-time-then-therer-was-an-emotional-scene-to-watch/13961/

ट्रेंडिंग

काम की खबरें

देश

विदेश

मनोरंजन

राजनीति