Kanpur Tripple Murder: कोरोना से परेशान डॉक्टर ने की पत्नी और 2 बच्चों की बेरहमी से हत्या, डिप्रेशन या प्री-प्लान मर्डर?

कानपुर में कोरोना के डिप्रेशन और ओमिक्रॉन की दहशत के चलते हत्याकांड से हड़कंप मच गया है. फॉरेंसिक विभाग के हेड डॉक्टर सुशील कुमार ने अपनी पत्नी और दो बच्चों की हत्या कर दी है. ट्रिपल मर्डर को अंजाम देने के बाद डॉक्टर मौके से फरार हो गया. घटना को अंजाम देने के बाद आरोपी डॉक्टर ने अपने भाई को व्हाट्सएप मैसेज कर मामले की जानकारी दी. जिसके बाद आनन-फानन में भाई ने पुलिस को सूचना दी और घटनास्थल पर पहुंचे तो वहां का नजारा देखकर हैरान हो गए उन्हें घर के अलग-अलग कमरों में तीन लाशें मिली. डॉक्टर ने परिवार की हत्या के बाद एक नोट भी छोड़ा है जिसमें लिखा है कि उसे कोविड रिलेटेड डिप्रेशन है.

फॉरेंसिक डिर्पाटमेंट का HOD है आरोपी

मामला कानपुर के कल्याणपुर थाना क्षेत्र के डिविनिटी अपार्टमेंट का है जहां डॉक्टर सुशील कुमार ने शुक्रवार को अपनी शिक्षक पत्नी चंद्रप्रभा(48) के सिर पर हथौड़े और 18 साल के बेटे शिखर और 16 साल की बेटी खुशी का गला दबा के मौत के घाट उतार दिया. पुलिस को मौके से एक डायरी मिली है जिसमें लिखा है, ‘अब और कोविड नहीं, ये कोविड सबको मार डालेगा, अब लाशें नहीं गिननी. डॉक्टर सुशील रामा हॉस्पिटल में फॉरेंसिक विभाग के हेड ऑफ डिर्पाटमेंट हैं. हत्याकांड से उठ रहे कई सवाल.

सवालों में हत्याकांड

इस हत्याकांड को लेकर अब कई तरह के सवाल उठ रहे हैं. डॉक्टर ने पत्नी और बच्चों की हत्या योजनाबद्ध तरीके से की है या फिर ओमीक्रोन डिप्रेशन की वजह से. दरअसल डॉक्टर ने अपने भाई को वॉट्सएप मैसेज में लिखा था कि सुनील पुलिस को इन्फॉर्म करो डिप्रेशन में हूं. वहीं हत्या से पहले डायरी में लिखे नोट में हत्या की दो वजह सामने आ रही हैं. एक तो कोरोना और दूसरा आंखों की लाइलाज बिमारी की वजह से करियर खत्म होने की चिंता.

डायरी से उलझी डिप्रेशन की थ्योरी

डॉक्टर ने डायरी के शुरूआती पन्नों में लिखा है कि अब और कोविड नहीं, यह कोविड अब सबको मार डालेगा. अब लाशे नहीं गिननी है ‘ओमीक्रोन’. उसके बाद फिर डॉक्टर ने लिखा है कि अपनी लापरवाहियों के चलते करियर के उस मुकाम में फंस गया हूं, जहां से निकलना असंभव है. मेरा कोई भविष्य नहीं रहा, अतः मैं होश-ओ-हवाश में अपने परिवार को खत्म करके खुद को खत्म कर रहा हूं. इसका जिम्मेदार और कोई नहीं है. डॉक्टर ने आखिरी के पन्नों में लिखा कि आंखों की लाइलाज बीमारी की वजह से यह कमद उठाना पड़ रहा है. पढ़ाना मेरा पेशा है, जब आंखे ही नहीं रहेंगी तो मैं क्या करूंगा.

घटना का आरोपी डॉक्टर फरार

सुशील ने पत्नी और बच्चों की हत्या कर दी, लेकिन वो खुद फरार है जबकि उसने डायरी में लिखा है कि मैं खुद को और अपने परिवार को खत्म कर रहा हूं. अर्पाटमेंट में लगे सीसीटीवी कैमरों को खंगाला गया तो डॉ सुशील शुक्रवार दोपहर लगभग एक बजे घर से बाहर जाते हुए दिख रहा है लेकिन घर वापस आते नहीं. जबकि शाम करीब 5 बजे उसने अपने भाई को व्हाट्सएप मैसेज कर घटना की जानकारी दी थी. मतलब सुशील ने दोपहर में ही तीनों की हत्या कर दी थी. लोगों के मन में ये सवाल उठ रहे हैं कि पुलिस को गुमराह करने के लिए डॉक्टर खुद को डिप्रेशन में दिखा रहा है. पुलिस मामले की हर एंगल जांच कर ही है कि ये डॉक्टर ने डिप्रेशन की वजह से ये कदम उठाया है या फिर ये एक प्री प्लान मर्डर है. फिलहाल पुलिस आरोपी डॉक्टर की भी तलाश कर रही है.