Kisan Andolan: फांसी लगा ली किसान ने, सरकार पर तारीख पर तारीख देने का लगाया आरोप

Share on facebook
Share on twitter
Share on google
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

 

किसान आंदोलन में अब तक 6 जानें जा चुकी हैं.  लेकिन अब हुई आत्महत्या पहली आत्महत्या है इस आन्दोलन की. हालांकि किसी ने किसी की जान नहीं ली है लेकिन किसी ने जान दे दी है और इस मौत का जिम्मेदार सरकार को ठहराया है क्योंकि आत्महत्या करने वाले किसान का सुइसाइड नोट मिला है जिस पर किसान ने लिखा है मेरी मौत का जिम्मेदार है सरकार जो दे रही है तारीख पर तारीख.

घटना है टीकरी बॉर्डर की

ये आत्महत्या टीकरी बॉर्डर पर हुई है. टीकरी बॉर्डर पर आंदोलन कर रहे किसानों में इस बात को ले कर जितना शोक है उतना ही रोष भी है. जानकारी मिली है कि कल 6 फरवरी की रात को यहां एक किसान ने फांसी लगाकर जान दे दी और अपने सुसाइड नोट पर अपनी मौत का जिम्मेदार तारीख पर तारीख दे रही सरकार को ठहराया.

बहादुरगढ़ का है ये किसान

दरअसल ये घटना टीकरी बॉर्डर के आंदोलनकारियों की प्रतिनिधि घटना है किन्तु ये हुई है हरियाणा के बहादुरगढ़ में जहां कृषि कानूनों को लेकर केंद्र सरकार से नाराज एक किसान ने फांसी लगा ली है. बताया जाता है कि इस इस किसान ने सेक्टर-9 बाईपास के पार्क में पेड़ से लटककर आत्महत्या कर ली. पहचान करने पर पता चला कि ये किसान जींद के सिंघवाल गांव का रहने वाला कर्मबीर है. कर्मवीर के पास से ही ये सुसाइड नोट बरामद हुआ है.

ये लिखा है सुइसाइड नोट पर

किसान की जेब से बरामद इस सुइसाइड नोट पर लिखा हुआ है कि ये सरकार तारीख पर तारीख दे रही है और अब पता नहीं कब इन काले कानूनों को रद्द किया जाएगा. जब तक ये काले कानून रद्द होंगे, हम लोग तब तक यहां से नहीं जाएंगे.

पुलिस कर रही है अपनी कार्रवाई

घटनास्थल पर पहुँच कर पुलिस ने अपनी कार्यवाही प्रारम्भ कर दी है और शव का पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए नागरिक अस्पताल भिजवा दिया है. मृतक किसान के परिजनों के आने के बाद उनके बयान दर्ज किये जायेंगे.

ट्रेंडिंग

काम की खबरें

देश

विदेश

मनोरंजन

राजनीति