कौन हैं सुशांत की मौत की जांच करने वाले आईपीएस विनय तिवारी?

Share on facebook
Share on twitter
Share on google
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email
  • सुशांत की मौत के रहस्य की जांच करने मुंबई पहुंचे IPS विनय तिवारी
  • बेहद तेज़तर्रार आईपीएस अधिकारी हैं विनय तिवारी
  • 2015 के बिहार कैडर के आईपीएस हैं विनय तिवारी
  • बनारस आईआईटी से इंजीनियरिंग करने के बाद बने आईपीएस

अभिनेता सुशांत सिंह की मौत पर रहस्य गहराता जा रहा है. अब इसकी जांच को लेकर बिहार पुलिस और महाराष्ट्र पुलिस खुलकर आमने सामने आ गए हैं. बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे ने मुंबई पुलिस पर गंभीर आरोप लगाए हैं. मुंबई पुलिस के जांच में सहयोग न करने की वजह से अब बिहार से पटना सिटी एसपी विनय तिवारी मुंबई पहुंच चुके हैं. आईपीएस अधिकारी विनय तिवारी अब सुशांत केस मामले की कमान हाथ में लेकर जांच करेंगे. जांच के लिए पहले से मुंबई पहुंची चार सदस्यीय पटना एसआईटी का नेतृत्व कर मामले की मॉनिटरिंग करेंगे.

बताया जा रहा है कि विनय तिवारी पूरी तैयारी के साथ मुंबई पहुंचे हैं. वो एक एक तथ्य को खंगालेंगे. सुशांत के घर में घटना का रीक्रिएशन भी किया जाएगा.

 विनय तिवारी 2015 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं. बेहद तेज़तर्रार और ईमानदार अधिकारी विनय तिवारी स्वामी विवेकानंद और महान क्रांतिकारी चंद्रशेखर आज़ाद को अपना आदर्श मानते हैं. वो ये मानते हैं कि मातृभूमि की सेवा नहीं की तो फिर जीवन व्यर्थ है. तेज़तर्रार आईपीएस अधिकारी विनय तिवारी का खाकी के अलावा एक दूसरा रूप भी है. उनकी कविताओं के प्रति रुचि उनकी शख्सीयत को और बढ़ा जाता है. वैश्विक महामारी कोरोना से पीड़ित दुनिया निराशा और अवसाद में डूब रही है. इस दौरान उन्होंने कोरोना से उपजी करुणा को अपनी लेखनी और आवाज़ में जगह दी जिसकी धूम मची हुई है. ये कविता जोश भर देती है. उम्मीदें जगा देती है. वीर रस से भरी इस कविता में कहीं दुख, शोक का पुट है तो कहीं भविष्य के प्रति नई आशाओं का संचार है.

https://twitter.com/IPSVinayTiwari/status/1287411585342795778?s=20

बिहार कैडर के आईपीएस अधिकारी विनय तिवारी किसान परिवार से आते हैं. वो उत्तर प्रदेश के ललितपुर जिला के भलवारा गांव के रहने वाले हैं. आईआटी बनारस से इंजीनियरिंग करने के बाद साल 2015 में यूपीएससी में सफलता प्राप्त कर वो आईपीएस अधिकारी बने.

वो बचपन से ही पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी, हिंदी साहित्य के महान कवि सूर्यकान्त त्रिपाठी ‘निराला’, जयशंकर प्रसाद, और मैथिली शरण गुप्त से प्रभावित रहे हैं. वो पिछले 5 साल से कविताएं लिख रहे हैं और गणित के सूत्रों और जीवन के आदर्शों पर एक किताब मैथेमैटिक्स एंड प्रिंसिपल ऑफ लाइफ लिख रहे हैं.

आईपीएस विनय तिवारी की छवि बेहद ही साफ सुथरी है. उनको इस केस की जांच बिहार डीजीपी ने बहुत सोच-समझकर ही सौंपी है.बिहार के डीजीपी ने आरोप लगाया है कि मुंबई पुलिस जांच में सहयोग नहीं कर रही है. बिहार पुलिस के अधिकारियों को घंटों टहलाया जा रहा है लेकिन उन्हें कोई जानकारी नहीं दी जा रही है. 27 जुलाई को बिहार पुलिस की 4 सदस्यीय टीम मुंबई पहुंची थी जिसमें दो निरीक्षक और दो दारोगा शामिल हैं. बिहार पुलिस की टीम ने 27जुलाई को सुशांत के फ्लैट पहुंच कर जानकारी इकट्ठा की थी. इसके बाद उन्होंने सुशांत के मित्र महेश सेठी, अंकिता लोखंडे, सुशांत के रसोइए और एक महिला मित्र से भी जानकारी हासिल की. लेकिन मुंबई पुलिस के साथ उस वक्त एक अजीब सी स्थिति देखने को मिली जबकि बांद्रा के डीसीपी ने कई घंटे बिहार पुलिस के कर्मियों को बिठाकर भी उनसे मुलाकात नहीं की.

सुशांत सिंह के पिता ने पटना के राजीवनगर थाने में 25 जुलाई को रिया चक्रवर्ती के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई थी जिसमें 6 लोगों को अभियुक्त बनाया गया है.

ट्रेंडिंग

काम की खबरें

देश

विदेश

मनोरंजन

राजनीति