क्या Imran Khan का जाना थोड़ा नुकसानदेह है India के लिये?

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email
इमरान खान की सरकार गिर चुकी है, पाकिस्तान का इतिहास यही है कि आज तक किसी लोकतांत्रिक सरकार ने कार्यकाल पूरा किया ही नही है। लेकिन भारत के लिये ये थोड़ी सी बुरी खबर है।
इमरान खान अप्रत्यक्ष रूप से भारत का एजेंट बन गया था, दुनिया पाकिस्तान से कट चुकी थी। इमरान खान कही जाता था तो एयरपोर्ट पर लेने सिर्फ पाकिस्तान के ही राजदूत आते थे। जो बाइडन जो कि ओबामा के समय उपराष्ट्रपति थे और काफी पाकिस्तान परस्त थे उन्होंने भी आज तक इमरान खान से कभी बात नही की।
भारत ने धारा 370 बड़ी आसानी से हटा दी इमरान सिर्फ OIC में उछलता रहा, पाकिस्तान आज भी FATF की ग्रे लिस्ट में बना हुआ है। दक्षिण एशिया के लिये दुनिया आज सिर्फ भारत पर निर्भर है। इमरान खान ने व्यापार बंद करके थोड़ा नुकसान जरूर किया मगर फिर भी भारत के लिये फरिश्ता सिद्ध हुए।
कोई वित्त कोई विदेश नीति बस चीन के सामने हाथ जोड़ने की नीति थी, चीन खुद अब तंग आ गया क्योकि शी जिनपिंग अपनी तिजोरी से पैसा नही देते अपितु चीन की केंद्रीय बैंक पैसा बहाती थी जिसका पानी अब सिर से ऊपर जा चुका है। सीपेक का काम रोक दिया गया, बलूचिस्तान में बलोच लिबरेशन आर्मी के पैर और मजबूत हो गए।
मध्य एशिया से संबंध ऐसे खराब किये कि इस्लामिक देश होते हुए भी उज्बेकिस्तान और ताजिकिस्तान भारत के साथ खड़े होते है। यूएई कश्मीर में निवेश कर रहा है लेकिन इमरान खान चू तक नही कर रहा। पाकिस्तान में इससे बेहतरीन प्राइम मिनिस्टरशिप भारत के लिये कुछ हो नही सकती।
भारत ब्रह्मोस के परीक्षण करता रहा, राफेल आ गए लेकिन पाकिस्तान ने अपनी सुरक्षा का मुद्दा कही नही उठाया। इमरान खान के ये 3 साल भारत की विदेश और रक्षा नीति के लिये मील का पत्थर सिद्ध हुए।
नवजोत सिंह सिद्धू इमरान खान के शपथ समारोह में गए जबकि यह न्योता कपिल देव और सुनिल गावस्कर को भी था। मगर कपिल और सुनिल ने अपना स्टैट्स बनाये रखा, सिद्धू पाकिस्तान गए और इतने ज्यादा अनपॉपुलर हुए की कपिल का शो भी हाथ से गया और राजनीतिक करियर भी समाप्त हो गया।
ईश्वर से प्रार्थना कीजिये कि जल्द से जल्द अगली सरकार भी गिरे या जल्दी चुनाव हो और इमरान खान दोबारा चुनकर आये। इस बार आशा करूँगा की वह जीते तो अमेरिका और यूरोप से इतने संबंध बिगाड़ ले कि पाकिस्तान पर इन देशों ने जो टैरिफ कम किया हुआ है उसे बढ़ा दे और रहा सवाल चीन का तो चीन तब ही काम आएगा जब आप खुद अपने काम आ सके।
इमरान खान की कमजोर सरकार और नरेंद्र मोदी की मजबूत सरकार की वजह से वो दिन दूर नही है जब आप रात में सोएंगे और सुबह उठेंगे तो पता चलेगा कि पाक अधिकृत कश्मीर फिर भारत मे आ गया इसलिए इमरान का रहना आवश्यक है।