कड़ी निगरानी में कृष्ण की नगरी मथुरा, ईदगाह मस्जिद में जलाभिषेक के एलान के बाद चप्पे चप्पे पर पुलिस तैनात

Mathura News: भगवान श्री कृष्ण की जन्मभूमि मथुरा में अखिल भारत हिंदू महासभा जैसे कुछ संगठनों ने आज शाही ईदगाह मस्जिद में जलाभिषेक करने का एलान किया था. हालांकि बाद में उन्होंने इसे वापस ले लिया और प्रशासन ने भी इसकी कोई अनुमति नहीं दी है. राज्य सरकार के आदेश पर स्थानीय प्रशासन ने कटरा केशव देव इलाके में तीन लेयर की सुरक्षा कर दी गई है.

मथुरा के चप्पे चप्पे पर पुलिस

अयोध्या में राम जन्मभूमि और बाबरी मस्जिद विवाद के बाद भी मथुरा में कभी भी सद्भाव नहीं बिगड़ा. लेकिन कुछ संगठनों के ईदगाह मस्जिद में जलाभिषेक के एलान के बाद मथुरा में प्रशासन ने 144 धारा लगा दी है. मस्जिद और उसके आस पास उत्तर प्रदेश पुलिस, पीएसी के जवान और आरएएफ के जवान तैनात किए गए हैं. हालांकि अखिल भारत हिंदू महासभा की राष्ट्रीय अध्यक्ष राजश्री चौधरी ने जलाभिषेक का प्रोग्राम मथुरा की जगह आज 12 बजे दिल्ली के जंतर मंतर पर करने की घोषण कर दी थी.

शख्स की ली जा रही है तलाशी                                                                                               

मंदिर या मस्जिद में जाने वाले लोगों से उनका पहचान पत्र मांगा जा रहा है. फिर उसकी बकायदा तलाशी ली जा रही है. सीसीटीवी और ड्रोन के जरिए भी निगरानी की जा रही है. मथुरा पुलिस सोशल मीडिया पर भी कड़ी निगरानी रख रही है. एसएसपी मथुरा के मुताबिक अब तक सोशल मीडिया पर भड़काऊ पोस्ट करने पर 4 अलग अलग एफआइआर दर्ज हो चुकी है. आज श्री कृष्ण जन्म भूमि स्थान और शाही ईदगाह मस्जिद परिसर के लिए ट्रैफिक एडवाइजरी जारी की गई है.

मथुरा में गड़बड़ की तो…

विश्व हिंदू परिषद (VHP) के कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार ने एक बयान में कहा, ‘6 दिसंबर पूरे देश के लिए एक बड़ा दिन है. हिंदू समाज के लोग 6 दिसंबर को शौर्य दिवस के रूप में मनाते मना रही है. साथ हील उन्होंने कहा कि इस मौके पर मथुरा के मुद्दे को भी उठाया जाएगा. इस पर राम जन्मभूमि मामले में बाबरी पक्षकार हाजी महबूब ने कहा कि मथुरा के मामले में कड़ा जवाब देंगे. हाजी महबूब ने कहा कि जब मस्जिद गिराई गई थी, तब ये आश्वासन दिया गया था कि आगे कोई ऐसी पुनरावृत्ति नहीं होगी, मगर मथुरा का मामला फिर उठा रहे हैं. अगर हिंदू मथुरा पर आगे बढ़ेंगे तो फिर मुस्लिम समाज भी पीछे नहीं रहेगा, मुंह तोड़ जवाब देगा.

क्या है मामला?

चार दक्षिणपंथी संगठन अखिल भारत हिंदू महासभा, श्रीकृष्ण जन्मभूमि निर्माण न्यास, नारायणी सेना और श्रीकृष्ण मुक्ति दल ने रीति-रिवाज से लड्डू गोपाल की मूर्ति स्थापित करने की अनुमति मांगी थी. हिंदू संगठनों का दावा है कि जिस जगह पर मस्जिद है, वहीं पर श्रीकृष्ण का जन्म हुआ था. संगठनों ने आज शाही ईदगाह मस्जिद में जलाभिषेक करने का एलान किया था. मथुरा की शांति और सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखने के लिए जिला और पुलिस प्रशासन पूरी तरह से अलर्ट है.

6 दिसंबर 1992 को बाबरी ढांचा विध्वंस हुआ था, जिसका 28 साल तक मुकदमा चला और फैसला भगवान राम लला के पक्ष में आया. हिंदू समाज के लोग 6 दिसंबर को शौर्य दिवस के रूप में मनाते हैं. जबकि मुस्लिम समाज 6 दिसंबर पर काला दिवस मनाते हैं और शोक संवेदना व्यक्त करते हैं.