जानना जरूरी है: फास्टैग लगा होने पर मिलेगा डिस्काउंट, 24 घंटे में लौटने पर टोल टैक्स में मिलेगी छूट

Share on facebook
Share on twitter
Share on google
Share on pinterest
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

देश के हाइवे पर रोज़ाना चलने वाली लाखों गाड़ियों के लिए ये खबर बहुत ज़रूरी है. केंद्र सरकार ने डिजिटल भुगतान (Digital Payment) को बढ़ावा देने लिए टोल टैक्स को लेकर एक नियम में बदलाव किया है. सरकार के नए नियम के मुताबिक 24 घंटों में वापस लौटने वाले केवल उन ही लोगों को टोल टैक्स (Toll Plaza Discount) में मिलने वाली छूट मिलेगी जिनकी गाड़ी पर वैध फास्टैग (Fastag) होगा. टोल टैक्स का कैश भुगतान कर 24 घंटों में वापस लौटने वालों को टोल टैक्स में मिलने वाली छूट नहीं मिलेगी.

गाड़ी पर लगाएं फास्टैग-पाएं डिस्काउंट

नए नियम के लागू होने के बाद अब केवल उन्हीं गाड़ियों को टोल टैक्स में डिस्काउन्ट मिलेगा जिन पर फास्टैग लगा हुआ होगा. दरअसल, बहुत सारे टोल टैक्स पर अलग अलग तरह के डिस्काउंट दिए जाते हैं और डिस्काउंट की स्कीम के तहत कुछ गाड़ियों से तो टोल टैक्स भी नहीं लिया जाता है. लेकिन अब यह डिस्काउंट भी तभी मिलेगा, जब गाड़ियों पर फास्टैग लगा हुआ होगा.

डिजिटल भुगतान को बढ़ावा

डिजिटल भुगतान को बढ़ावा देने के लिए ये नियम बनाया गया है कि भुगतान स्मार्ट कार्ड, फास्टैग या फिर किसी अन्य प्रीपेड इंस्ट्रुमेंट के जरिए ही होगा. केंद्र सरकार का ये नया नियम उन वाहन चालकों के लिए भी फायदेमंद साबित होगा, जब कोई शख्स 24 घंटों के भीतर वापस लौटता है और तब उसे टोल टैक्स में डिस्काउंट लेने के लिए पहले से कोई रसीद लेने के जरूरत नहीं होगी. 24 घंटों के अंदर लौटने वाले शख्स के फास्टैग खाते से डिस्काउंट लगाकर पैसे कटेंगे.

केंद्र सरकार ने 1 दिसंबर 2019 से देश भर में फास्टैग लागू किया है. दरअसल गाड़ियों की लंबी लाइनों से छुटकारा पाने के लिए और डिजिटल भुगतान को बढ़ावा देने के लिए ये सिस्टम अनिवार्य किया गया है. फास्टैग को बढ़ावा देने के लिए ही सरकार ने पिछले साल 30 नवंबर तक फ्री में स्टीकर बांटे थे.

पूरे देश में NHAI के 573 टोल नाके हैं जिसमें 520 चालू हैं. फास्टैग लागू होने से न सिर्फ पेट्रोल-डीज़ल की बचत होगी बल्कि पॉल्यूशन पर भी कंट्रोल होगा.

कैसे लें फास्टैग?

नया वाहन खरीदने वालों की गाड़ियों में फास्टैग लग कर ही आता है. वहीं जिन्होंने अभी तक किसी वजह से नहीं लिया तो वो लोग इसे टालें नहीं क्योंकि फिर दोगुना जुर्माना भरना पड़ता है.

फास्टैग लेने के लिए वाहन चालकों को वाहन की आरसी, अपना पैनकार्ड, आधार कार्ड जैसे डॉक्यूमेंट्स की फोटोकॉपी देनी होती है. बैंकों की तरफ से भी फास्टैग जारी किए जाते हैं.

ट्रेंडिंग

काम की खबरें

देश

विदेश

मनोरंजन

राजनीति