यूपी हाईप्रोफाइल मर्डर : मां है मीरा और मां ही ने मारा?

0
554

आखिर क्या वजह रही है कि मां ने अपने ही सगे बेटे की गला घोंट कर हत्या कर दी? कैसे कोई सगी मां अपने बच्चे की हत्या कर सकती है? ये सवाल जायज हैं और इन्हीं का जवाब तलाश रही है यूपी पुलिस. दरअसल उत्तर प्रदेश विधान परिषद के सभापति रमेश यादव के बेटे की संदिग्ध मौत में सनसनीखेज खुलासा हुआ है. यूपी पुलिस का दावा है कि अभिजीत की मौत गला दबाने से हुई है. पोस्टमार्टम की रिपोर्ट में ये खुलासा हुआ है कि अभिजीत की गला दबाकर हत्या की गई है. यूपी पुलिस ने लंबी खोजबीन के बाद अभिजीत की मां को गिरफ्तार किया है. पुलिस का दावा है कि अभिजीत की मां मीरा यादव ने ही उसकी चुन्नी से गला घोंटकर हत्या की है. पुलिस के मुताबिक आरोपी मां ने अपना गुनाह कबूल लिया है.

लखनऊ के हज़रतगंज में उत्तर प्रदेश विधान परिषद के सभापति रमेश यादव के बेटे अभिजीत यादव का शव घर पर ही मिला था. परिवारवालों ने शुरुआत में अभिजीत की मौत को स्वाभाविक बताया था. इसलिए वो लोग पुलिस की तरफ से इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं चाहते थे. लेकिन परिवार के संदिग्ध व्यवहार की वजह से पुलिस को शक हुआ और उसने अभिजीत के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. अभिजीत की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट ने पूरे मामले को पलटकर रख दिया. जिसके बाद पुलिस की जांच में आरोपी मां मीरा यादव पर ही शक गहराया. मां मीरा यादव को गिरफ्तार करने पर उन्होंने अपना जुर्म कबूल कर लिया. मां के मुताबिक बेटा नशे की हालत में अभद्र व्यवहार कर रहा था जिस वजह से उसका गला दबा दिया गया.
एसपी सर्वेश मिश्रा ने बताया कि अभिजीत की मां ने कबूलते हुए बताया कि अभिजीत 20 अक्टूबर की रात शराब पीकर आया था और उसने झगड़ा करने लगा और इसी बीच उन्होंने उसका गला दबा दिया.

गुनाह के पीछे सच क्या?
सवाल उठता है कि क्या वाकई एक मां ने इतना बड़ा गुनाह अकेले किया या फिर वो इसमें शामिल किसी को बचा रही है? क्या इस हत्या में कोई ऐसा एंगल भी है जिसकी वजह से अभिजीत की हत्या मजबूरी बन चुकी थी? बहरहाल यूपी पुलिस सारे जवाबों की तलाश में है और आरोपी मीरा यादव से पूछताछ के लिए सवालों की लंबी लिस्ट तैयार कर चुकी है.

रविवार की सुबह यूपी की हाईप्रोफाइल फैमिली में हुई इस मौत से हड़कंप मच गया था. 22 साल के अभिजीत यादव की अचानक हुई मौत पर सवाल उठने लगे थे. परिवारवाले इसे स्वाभाविक मौत बता रहे थे. अभिजीत का शव दारुल शफा के डी ब्लॉक के कमरा नंबर 28 में मिला था. अभिजीत की मौत पर परिवारवालों का दावा था कि रात में सोते वक्त अभिजीत के सीने में तेज दर्द हुआ था और इसके बाद वह सो गया. लेकिन सुबह वह बिस्तर पर मृत पाया गया. कमरे में मां और बेटा दोनों ही मौजूद थे.

परिवार वालों के मुताबिक शनिवार रात करीब 11 बजे अभिजीत घर आया था और उसने मां को सीने में दर्द के बारे में बताया था जिसके बाद मां ने सीने में मालिश कर उसे सुला दिया था. लेकिन सुबह जब काफी देर तक अभिजीत नहीं उठा और उसके शरीर में कोई हरकत नहीं दिखी तो मां ने बड़े बेटे को बुलाया. बड़े बेटे ने अभिजीत की नव्ज़ देखकर बताया कि उसकी मौत हो गई. इस मौत पर परिवार ने न तो किसी पर आरोप लगाया और न ही किसी के खिलाफ कोई तहरीर दी. परिवार वालों ने मौत को हार्ट अटैक माना और बताया. लेकिन पुलिस को शुरू से ही यह मामला संदिग्ध लग रहा था. हालांकि, हाईप्रोफाइल परिवार से जुड़े इस केस में कोई भी खुल कर कुछ बताने से कतरा रहा था.

कौन हैं यूपी विधान परिषद के चेयरमैन?
रमेश यादव यूपी विधान परिषद के चेयरमैन हैं. रमेश यादव ने दो शादियां की हैं. उनकी पहली पत्नी प्रेमा देवी है जो एटा जिले में रहती हैं. पहली पत्नी से बेटा आशीष यादव एटा सदर से विधायक भी रह चुका है. जबकि दूसरी पत्नी मीरा यादव हैं जो राजधानी के दारुल शफा स्थित बी ब्लाक में रहती हैं. मीरा यादव के दो बेटे हैं. बड़ा बेटा अभिषेक यादव उर्फ लक्की है और छोटा बेटा विवेक यादव उर्फ अभिजीत यादव उर्फ विक्की है.
बहरहाल, बेटे को सुलाने वाली वो लोरी नहीं थी. बेटे को मौत की नींद सुलाने वाली वो क्या असली वजह थी, ये जानने का सभी को इंतजार है.

(भुवन चंद्र जोशी)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here