परख की कलम से: काका, बिग बी, शाहरुख गये -क्योंकि वक्त बादशाह है, आपका घमंड नहीं !

0
104

बात 1971 की है अमिताभ बच्चन संघर्ष कर रहे थे। जब भी बिग बी सेट पर जया भादुरी से मिलने जाते थे तब राजेश खन्ना जया को कहते थे कि इससे दूर रहो इसका इंडस्ट्री में कोई भविष्य नही है।
मगर समय ने करवट ली, 1975 में शोले और दीवार के बाद बिग बी सुपरस्टार बन चुके थे। अमिताभ बच्चन सेट पर समय से पहुँचते थे और उनका व्यवहार अच्छा था वही काका इसके विपरीत थे और अहंकार अपनी जगह बना चुका था।
इसका नतीजा यह था कि काका की कई फिल्में बिग बी को जाने लगी, 1980 में सबकुछ बदल गया। सनी देओल के कदम रखते ही एक्शन फिल्मों की लाइन लग गई और काका का पतन शुरू हो गया। 1984 तक काका को इंडस्ट्री लगभग भूल चुकी थी।
काका का घमंड बिग बी की तरफ जा चुका था अब बिग बी सेट पर लोगो से खुद को जबरदस्ती सर जी बुलवाते थे। बातों में घमण्ड की झलक दिखने लगी थी, इसी बीच उन्होंने इंडस्ट्री छोड़ दी और कंपनी शुरू की जो कि पिट गयी। सन 1999 में उन पर कुल कर्ज 50 करोड़ से ज्यादा था।
थक हारकर वे यशराज के पास आये और उन्हें मोहब्बतें फ़िल्म मिली। मोहब्बतें में शूटिंग खत्म करके वे रोज अमर सिंह के पास आते थे और रोते थे क्योकि सेट पर आकर्षण का केंद्र शाहरुख खान थे।
हद तो तब हो गयी जब उद्घाटन के बाद यशराज के घर गणेश पूजन रखी गयी और ब्राह्मण ने हवन करते समय अमिताभ को इग्नोर कर दिया और शाहरुख को बैठाया। हवन और फिर आरती दोनों शाहरुख से करवाये गए तब बिग बी ने जान लिया कि उनका अहं बस कुछ वर्षों का मेहमान था।
घटना क्रम आगे बढ़ा और अब अहंकार शाहरुख के सिर चढ़ने लगा। एक से एक विवादित बयान आने लगे और जैसे ही उन्होंने भारत को असहिष्णु देश कहा तब से फ़िल्म तो दूर उनका एक गाना हिट नही हुआ।
2016 में करण जौहर ने एक पार्टी रखी जिसमें मीडिया शाहरुख के पास खड़ा था वह अचानक रणवीर सिंह की तरफ चला गया क्योकि वो बाजीराव मस्तानी के बाद छाये हुए थे। उस समय शाहरुख ने महसूस कर लिया था कि राजेश खन्ना और अमिताभ के उस दौर में वे भी पहुँच गए है।
आज इस विचित्र पोस्ट का कारण यह था कि जो लोग छोटी बड़ी सफलताओ से फुले नही समा रहे है और अहंकार के वशीभूत होकर यत्र तत्र सर्वत्र अपने रिश्ते बिगाड़ रहे है वे ध्यान रखे कि कल इसकी कीमत कितनी भारी होगी।
परवीन बॉबी की जब लाश मिली तब उसे तीन दिन हो चुके थे, राजीव कपूर के देहांत के अगले ही दिन उनके भाई ने घर मे पार्टी मनाई थी। बॉलीवुड समाज का दर्पण है रिश्ते बिगाड़ने से पहले उसकी कीमत अवश्य जान लीजिये। रिश्तों में ईर्ष्या, अहंकार और छोटापन आप ही को अकेला करेगा और किसी का नुकसान नही करेगा।

 

परख की कलम से: तिलक जी की जयंती पर विशेष – वे थे कांग्रेस के मुखर हिन्दूवादी नेता

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here