पूछता है देश: क्या चीन और कांग्रेस की यारी से आई है कोरोना बीमारी?

लगता तो यही है कि चीन (FOC) --Father of Corona और कांग्रेस के MOU की मक्कारी है- आज देश में कोरोना की बीमारी. .

0
195
आज जो देश में कोरोना के हालात हैं और उस पर जो प्रोपेगंडा चलाया जा रहा है, उसको देख कर मुझे ये कहने में कोई शंका महसूस नहीं होती कि ये सब FOC –Father of Corona के इशारे पर हो रहा है.
सोनिया गाँधी इस कदर परेशान है कि भारत की वैक्सीन विदेशों में क्यों भेजी जा रही है –बार बार उनका निर्यात बंद करने के लिए कह रही है.
मगर न खुद सोनिया जी और न ही तथाकथित गांधी परिवार का कोई सदस्य बता रहा है कि उसने वैक्सीन ली है या नहीं.
इसका कारण है कि चीन की खुद की वैक्सीन छोटे छोटे देश लेने से मना कर रहे हैं और भारत ने करीब 90 देशों को 6.5 करोड़ वैक्सीन दी है जिनमे ज्यादातर छोटे और गरीब देश हैं जो खुद अपनी वैक्सीन नहीं बना सकते.
दूसरी तरफ चीन ने उन्हें कर्ज के बोझ तले दबा रखा है और अब वैक्सीन भी अपनी शर्तों पर देना चाहता है –जो उन देशों को मंजूर नहीं है.
चीन ने पहले कोरोना सारी दुनिया को दे कर जनता को मारा है और अब वो चाहता है कि उन्हें भारत की वैक्सीन भी न मिले जिससे वहां की जनता मौत के आगोश में समां  जाये. इसके लिए कांग्रेस चीन की पूरी मदद करती दिखाई दे रही है.
चीन की वैक्सीन गावी (वैक्सीन अलायन्स) में भी स्वीकार नहीं हुई जिसकी वजह से चीन परेशान हुआ है.
जो चीन पूरी दुनियां में कोरोना फैला सकता है उसके लिए भारत में ऐसा करना कोई कठिन काम नहीं है जब  कांग्रेस & कम्युनिस्ट् समेत उसके अनेक गुलाम हाजिर हैं.
एक समय भारत ने कोरोना पर लगभग विजय प्राप्त कर ली थी जब रोज नए मरीज केवल 10 हजार रह गए थे और ऐसे में हम अपनी वैक्सीन भी बना गए – यानि कुल मिला कर मोदी के आत्मनिर्भर भारत ने चीन को विश्व में अलग थलग कर दिया .
तब से ऐसा लगता है कि चीन ने कांग्रेस के साथ मिल कर ऐसा खेल खेला कि वैक्सीन और मोदी दोनों को फेल किया जाये.
आज मैं किसी खास राज्य के बारे में नहीं बोलूंगा मगर मीडिया हालात को ऐसे दिखा रहा है जैसे किसी को कहीं हॉस्पिटल में बेड नहीं मिल रहा, किसी को कोई सुविधा नहीं है और किसी शमशान या कब्रिस्तान में किसी के अंतिम संस्कार नहीं हो रहे हैं.
बस टारगेट बना दिया मोदी और शाह की बंगाल रैलियों को और आरोप लगा दिया गया कि उनसे कोरोना फैला है -फिर महाराष्ट्र, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में तो कोई रैलियां नहीं हो रही, वहां क्यों कोरोना सबसे ज्यादा फ़ैल रहा है.
कांग्रेस के दिमाग में फितूर घुस गया है कि कोरोना के लिए मोदी को गाली दे कर राहुल गाँधी प्रधानमंत्री बन ही जायेंगे -भाषा कैसी प्रयोग कर रहे हैं कांग्रेस के नेता, ये देखिये, कुछ उदाहरण —
1) राहुल गाँधीकोरोना से निपटने के बस 3 उपाय –पहला, तुगलकी लॉकडाउन;  दूसरा, घंटी बजाओ और तीसरा, प्रभु के गुण गाओ.
इसके पहले का ट्वीट थान टेस्ट, न अस्पताल में बेड, न वेंटीलेटर, न ऑक्सीजन __टीका भी नहीं
2) रणदीप सुरजेवाला – (खुद कोरोना में पड़े हैं –प्रचारजीवी जी, सात साल में अद्भुत उपलब्धियाँ हैं, आपकी!)
जीवित को अस्पताल नहीं, मृतकों को शमशान नहीं ! आज़ादी के 75वे साल में ऐसा  कभी पहले हुआ हो तो बताएँ ? मोदी है तो मुमकिन है.
3) यशवंत सिन्हाCovid is surging. There are no  beds in hospitals, no oxygen, no medicines, no care. People are dying like flies.  Modi hai to mumkin hai
ऐसी इनकी तड़प देख कर इनके विरोधियों को भी मजा ही आयेगा और उनके मुंह से यही निकलेगा  -“उठ न जाना इस जहाँ से मोदी को रोते रोते तुम !!’
(सुभाष चन्द्र)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here