कांग्रेस को भी संघ का मॉडल चाहिए

कांग्रेस को RSS ( संघ ) मॉडल चाहिए --प्रचार के लिए -मगर संघ को तो गोडसे कल्चर वाला कहती है कांग्रेस -अब क्या प्रचार कराना चाहती हैं सोनिया गाँधी ?

0
399

कांग्रेस को RSS ( संघ ) मॉडल चाहिए –प्रचार के लिए -मगर संघ को तो गोडसे कल्चर वाला कहती है कांग्रेस -अब क्या प्रचार कराना चाहती हैं सोनिया गाँधी ?

हाल की खबर थी कि सोनिया गाँधी के निवास पर हुई बैठक में फैसला किया गया कि कांग्रेस संघ का मॉडल अपना कर उसके “प्रचारकों” की तरह बड़े पैमाने पर लोगों से संपर्क और पार्टी के प्रचार के लिए “प्रेरक” नियुक्त करेगी .

अगर आज संघ का कल्चर अपनाना है तो कल प्रणब मुखर्जी के संघ के कार्यक्रम में जाने पर क्यों बिखर गए थे मगर कांग्रेस तो संघ को गोडसे कल्चर का संघठन कहती है -क्या कांग्रेस भी अब गोडसे कल्चर अपनाना चाहती है –इसे अपनाने से पहले युवराज राहुल  गाँधी से तो पूछ लेते जो उस बैठक से नदारद थे और जिन्हे संघ के नाम से “करंट” लगता है.

ये पहला मौका नहीं है जब कांग्रेस ने संघ की नक़ल करने की बात की हो –मुझे सही समय याद नहीं मगर वो शायद इंदिरा जी  का समय था जब फैसला किया गया था कि “कांग्रेस सेवा दल” के कार्यकर्ताओं को अनुशाशन सिखाने के लिए संघ केजैसी शाखाएं लगाई जाएँगी –और उस दिन बस “कांग्रेस सेवा  दल” के लोगों को परेड करते दिखाया गया –उसके बाद तो सब कुछ बंद हो गया .

फैसला हुआ था कांग्रेस सवाल दल के लिए मगर वो सेवा दल है कहां, ये किसी ने नहीं देखा जबकि संघ के स्वयंसेवक देश में हर विपदा के समय लोगों के साथ खड़े दिखाई देते हैं और संघ जैसे प्रचारक कांग्रेस कभी नियुक्त करने का सपना भी कभी देख सकती है क्या –कहां से लाओगे संघ के प्रचारक के जैसा सेवा भाव और समर्पण –35 साल रहे एक प्रचारक को तो कांग्रेस का हर छोटे से  छोटा और बड़े से बड़ा नेता गाली देना अपना धर्म समझता है .

संघ की तर्ज पर नियुक्त अपने प्रेरकों से सोनिया जी लोगों से  संपर्क के दौरान क्या प्रचार कराना चाहती हैं –वो संघ के प्रचारक की तरह समाज सेवा का काम तो नहीं करेगा मगर लोगों में कांग्रेस का प्रचार करेगा — कैसे और क्या ?

सोनिया जी कहती हैं कि मोदी बदले की भावना की राजनीति कर रहा है और लोगों को जेल में डाल रहा है –वो भी जानती हैं कि जिन्हे जेल भेजा जा रहा है वो करोड़ो के घोटाले किये बैठे हैं —-मोदी संवैधानिक सस्थाओं को ख़त्म कर रहा है —-लोगों को मनपसंद खाना खाने से भी रोक रहा है मोदी (गाय खाने पर मुसलमानों पर ऐतराज हो रहा है )—-लोगों के बोलने की आज़ादी छीनी जा रही है —
ऐसे ही कुछ और प्रचार होंगे प्रेरकों से –फिर उन्हें जनता में जूते ही तो पड़ने हैं — फिर विलाप होगा कि संघ वालों ने हमारे लोगों को मारा.

वैसे मैडम सोनिया, आपकी पार्टी के नेताओं को मोदी की तारीफ करने पर कांग्रेस उनसे कारण बताओ नोटिस दे कर जवाब मांगती है –फिर बताइये, बोलने पर पाबन्दी कौन लगा रहा है जबकि कांग्रेस के नेता तो मोदी को भी जो मर्जी गाली बक देते है और  पाकिस्तान को समर्थन के लिए 370 पर बयान दे रहे हैं .

प्रेरक नियुक्त करने से पहले, एक बार कांग्रेस खुल कर कहे,संघम शरणम् गच्छामि क्यूंकि उनकी कल्चर ही ठीक है -आप लोग क्या ट्रेनिंग दे सकते हो अपने प्रेरकों को, ट्रेनिंग देनी है तो उन्हें संघ में ही भेज दो — 

(सुभाष चन्द्र)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here