कौन हैं ये अजित डोभाल

0
601

श्री #अजित #डोभाल कौन हैं.. और क्या हैं जानें

चाणक्य जैसा दिमाग और बाजीराव जैसा हौंसला। असली जिंदगी के बारे में कुछ ख़ास बातें :

  • 1945 में एक गढ़वाली #उत्तराखण्ड ब्राह्मण परिवार में जन्म। पिता आर्मी में ब्रिगेडियर थे।
  • 1968 में IPS का एग्जाम टॉप किया। केरल batch के IPS officer बने।
  • 17 साल की duty के बाद ही मिलने वाला medal 6 साल की duty के ही बाद मिला।
  • पाकिस्तान में जासूस के तौर पर तैनाती। पाकिस्तान की आर्मी में मार्शल की पोस्ट तक पहुंचे और 6 साल भारत के लिए जासूसी करते रहे।
  • 1987 में खालिस्तानी आतंकवाद के समय पाकिस्तानी agent बनकर दरबार साहिब के अंदर पहुंचे। 3 दिन आतंकवादियों के साथ रहे। आतंकवादियों की सारी information लेकर operation black thunder को सफलता पूर्वक अंजाम दिया।
  • 1988 में कीर्ति चक्र मिला। देश का एक मात्र non-army person जिसे यह award मिला है।
    *असम गए। वहां उल्फा आतंकवाद को कुचला।
  • 1999 में plane hijacking के समय आतंकवादियों से dealing की
  • RSS के करीबी होने के कारण मोदी ने सत्ता में आते ही NSA (National Security Adviser) बनाया
  • बलोचिस्तान में raw फिर से active की। बलोचिस्तान का मुद्दा international बनाया।
  • केरल की 45 ईसाई नर्सों का iraq में isis ने किडनैप किया। डोभाल खुद इराक गए। isis से पहली बार hostages ज़िंदा बिना बलात्कार हुए (महिला) वापिस लौटे
  • राष्ट्रपति अवार्ड मिला।
  • 2015 मई में भारत के पहले सर्जिकल operation को अंजाम दिया। भारत की सेना Myanmar में 5 किमी तक घुसी । 50 आतंकवादी मारे।
  • नागालैंड के आतंकवादियों से भारत की इतिहासिक deal करवाई। आतंकवादी संगठनों ने हथियार डाले।
  • भारत की defense policy को aggressive बनाया। भारत की सीमा में घुस रहा पाकिस्तानी ship बिना किसी warning के उड़ाया। कहा बिरयानी खिलाने वाला काम नही कर सकता।
  • कश्मीर में सेना को खुली छूट दी। pallet gun सेना को दिलवाईं। पाकिस्तान को दुनिया के मुस्लिम देशों से ही तोड़ दिया।
  • 2016 September आज़ाद भारत के इतिहास का 1971 के बाद सबसे इतिहासिक दिन। डोभाल के बुने गए surgical operation को सेना ने दिया अंजाम। PoK में 3 किलोमीटर घुसे। 40 आतंकी और 9 पाकिस्तानी फौजी मारे। दोनों surgical strikes में zero casualty
    *Right Wing Hindu संगठन Vivekananda youth forum की स्थापना की।
    एक वो बाजीराव था जो कहा करता था मैं दिल्ली जीत सकता हूँ । एक डोभाल है जो कहते है की मैं इस्लामाबाद जीत सकता हूँ।
    डोभाल जी, हमे आप पर गर्व है!!

(विक्रम वर्मा)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here