2 से बढ़ कर हुईं 120 मोबाइल कंपनियों का जलवा : एक वर्ष में स्मार्टफोन का निर्यात 8 गुना बढ़ा

0
560
Free picture () from https://torange.biz/jp/fx/mobile-phone-keyboard-overlay-image-162597

कभी 2014 में देश में केवल 2 मोबाइल बनाने वाली कंपनियों की फैक्ट्री थी –जो 2015 में शुरू किये गए मेक इन इंडिया कार्यक्रम के बाद 120 कंपनियां फैक्ट्री लगा चुकी है और इसके सकारात्मक नतीजे मिले हैं.

पिछले 3 वर्ष में मोबाइल फ़ोन के आयात पर खर्च होने वालीविदेशी मुद्रा की राशि 350 करोड़ डॉलर (24500 करोड़ रुपये)से घट कर केवल 50 करोड़ डॉलर यानि 3500 करोड़ रुपये रह गया –निर्यात होने वाले स्मार्टफोनकी संख्या सिर्फ एक वर्ष में लगभग 8 गुना बढ़ गई

आरबीआई की रिपोर्ट के मुताबिक अप्रैल – दिसंबर 2017 के दौरान मोबाइल फ़ोन का निर्यात 10.42 करोड़ डॉलर था जो अगले वर्ष समान अवधि में 95.57 करोड़ हो गया –रूस, दक्षिण अफ्रीका,यू ए ई और चीन को फ़ोन निर्यात होने लगा .

सबसे मजे की बात इसमें ये रही कि वैसे तो चीन के उत्पाद बाजार में टिकते नहीं लेकिन मोबाइल बनाने के लिए चीनी कंपनियों ने ही सबसे ज्यादा फैक्ट्रियाँ लगाईं और उन्होंने निर्यात अपने देश में भी करना शुरू कर दिया –जाहिर है चीनी कंपनियां घटिया माल नहीं बना रही होंगीं.

ये खबर कांग्रेस के युवराज के लिए 440 वोल्ट के झटके से कम नहीं है जो मेक इन इंडिया का मजाक उड़ाते फिरते हैं और जो हर शहर के मोबाइल बनाने के सपने लोगों को दिखाते फिरते हैं कि हम मोबाइल बनाएंगे –मेड इन भोपाल, मेड इन मंदसौर, मेड इन जयपुर,मेड इन रायपुर –कहीं के भी मोबाइल बना देते हैं मगर अभी तक अपने नये 3 राज्यों में कोई फैक्ट्री नहीं लगाईं.

(सुभाष चन्द्र)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here