भविष्यवाणी: अगले दो साल होंगे जोरदार उथल-पुथल के, मोदी बनेंगे अजेय !

केरल और बंगाल की होने वाली है दुर्गति..कोरोना करेगा कत्लेआम..ममता बनर्जी अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर पायेगी..अमित शाह मोदी होंगे शक्तिमान..

0
202
आगामी दो वर्षों में होंगे बड़े परिवर्तन..अत्यन्त महत्वपूर्ण भविष्यवाणी की गई है ज्योतिषाचार्य पदम उपाध्याय द्वारा. आइये देखते हैं क्या कहते हैं आचार्य पदम:
हाल ही में  कई मित्रों और शुभचिंतकों ने मैसेज और फोन करके बंगाल के विषय में और मोदीजी के भविष्य के बारे में कुछ बताने को विनंती की तो आज उस विषय पर गणना करके पोस्ट लिख रहा हूँ।
सबसे पहले तो आज जो लोग मोदीजी को गरिया रहे हैं वो ही लोग आने वाले समय में मोदीजी की प्रसंशा में कसीदे पढ़ते हुए नजर आयेंगे। बंगाल में आने वाले समय में परिस्थितियां और विकराल होगी। वार का प्रतिवार भी जबरदस्त होगा। बंगाल में ऐसी ऐसी घटनाएं घटित होगी जो भविष्य में कश्मीर को भी पीछे छोड़ देगी। देश की सुरक्षा के मद्देनजर बंगाल का विभाजन जम्मू-कश्मीर और लद्दाख की तर्ज पर होगा, जिसमें बंगाल के पर्वतीय क्षेत्र दार्जिलिंग और उसके आसपास का एरिया जो सिलीगुड़ी कॉरिडोर के नाम से जाना जाता है उसे केंद्रशासित प्रदेश बनाया जायेगा।
30 मई 2021 को मोदीजी के जन्मांक में आज जो विपरीत परिस्थितियाँ बनी हुई है वो खत्म होगी। जून में कोरोना महामारी को रोकने के लिए मोदी एक बहुत बड़ा फैसला ले सकते हैं, जिससे कोरोना को रोकने में कामयाबी मिलेगी।
आज भले ही आप लोगों को मेरी बात मजाक लगे लेकिन 2 जून के बाद आप देखोगे की कोरोना की परिस्थितियों पर काबू पा लिया जायेगा। आने वाले समय में बंगाल में कोरोना का कहर त्राहिमाम मचायेगा। राज्य की स्वास्थ्य सेवाएं चरमरा जायेगी, राज्य सरकार उसे रोकने में नाकाम होगी और बंगाल में भीषण जनहानि की आशंका को नकारा नहीं जा सकता। एक बार फिर कह रहा हूँ कि ममता सरकार अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर पाएगी। कोरोना के मामलों में बंगाल देश में सबसे अधिक प्रभावित होगा और जनहानि का आंकड़ा भी बड़ा होगा।
केरल में भी कोरोना हाहाकार मचायेगा। कोरोना के कारण मोदीजी कई बड़े बड़े फैसले टाल चुके हैं सब पर फिर से कडे़ फैसले लिए जायेंगे।
जून माह के अंत तक जो किसान लोग मोदी का विरोध कर रहे हैं वो एक बार फिर मोदी की जयजयकार करेंगे। जून से नवंबर 2021 तक का समय नवसृजन का समय होगा हमारे देश के लिए, वो समय मोदीजी के जन्मांक में एक मध्यम समय होगा। तब तक कोरोना पर पुरे देश में काबू पा लिया गया होगा।
नवंबर 2021 के बाद मोदीजी के जन्मांक में मंगल की दशा स्टार्ट होगी जिसके बाद देश में नरेंद्र मोदी एक (Unstoppable) अजेय नेता बन जायेंगे। जनसंख्या नियंत्रण कानून, समान नागरिक संहिता कानून और बहुत से देशहित के कानून लोकसभा व राज्यसभा से डंके की चोट पर पारित किए जाएंगे। तब एक बार फिर मोदीजी का 2002 वाला रूप हम सबको दिखाई देगा। मोदीजी का रौद्र रूप देखकर पुरी दुनिया स्तब्ध होगी।मोदीजी के साथ साथ गृहमंत्री अमित शाह की कुंडली में भी अगस्त महीने से विपरीत दशाएँ खत्म होगी। उसके बाद मोदी शाह की जोड़ी कड़े से कड़े फैसले लेते जायेंगे।
आज मोदी के विरूध्द में अफवाहों का दौर चल रहा है। लोग उन्हें गालियाँ दे रहे हैं, कोस रहे हैं, अपशब्दों से नवाज रहे हैं वो सभी को दरकिनार करते हुए एक बार फिर से मोदीजी देश के लोगों के दिल में राज करेंगे।
महाराष्ट्र और बंगाल के घटनाक्रम को देखने के बाद जो विपक्ष ये सोच रहा है कि मोदीजी को हराया जा सकता है, वो अपराजित नहीं रहे वो सब एक बार फिर मुँह की खायेंगे। आज जो भी कांग्रेस या अन्य दलों की राज्य सरकारें मोदी के विरूध्द षड्यंत्र या उन्हें बदनाम करने की कोशिश कर रहे हैं वो सभी एक बार फिर मोदीजी के कठोरतम निर्णयों के आगे नतमस्तक होंगे और ऐसी सरकारों के विरूध्द केंद्र सरकार कठोर कार्रवाई भी करेंगी जिसमें कुछ राज्यों में धारा 356 का इस्तेमाल भी किया जायेगा।
दुश्मन देशों के षड्यंत्रों को नाकाम किया जायेगा और जून जुलाई में कोरोना महामारी को फैलाने वाले षडयंत्रकारियों का पर्दाफाश भी होगा क्योंकि कोरोना एक बायोलॉजीक्ल युद्ध है कोई महामारी नहीं। ये बायोलॉजीक्ल युद्ध तीसरे विश्वयुद्ध का पहला दौर है जो परंपरागत हथियारों के बदले विषाणुओं का फैलाव कर लड़ा जा रहा है, जिसमें विकसित व विकासशील देशों को टार्गेट किया गया है।
भले ही आज आपको तीसरे विश्वयुद्ध की बात पर यकीन ना हो लेकिन आने वाले भविष्य में आप इसे सत्य होते हुए पाओगे। मोदीजी इन सभी विषम परिस्थितियों पर विजय प्राप्त कर एक अपराजेय नेता के रूप में हम सब के सामने होंगे। उनकी कुंडली में उनके जीवन का सबसे बुरा दौर 30 मई 2021 को समाप्त हो रहा है और फिर मंगल की महादशा में वो एक वैश्विक नेता के रूप में अपने आप को स्थापित कर लेंगे।
      आने वाले समय में अरूणाचल प्रदेश, मणिपुर और मिजोरम में सुरक्षा बलों को काफी सतर्कता बरतनी होगी। देश के पूर्वी और पूर्वोत्तर राज्यों में प्राकृतिक और मानव निर्मित आपदाओं के कारण बड़ा नुकसान होने की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता। आने वाले समय में एक पूर्वी राज्य के बड़े नेता के निधन के समाचार भी मिल सकते हैं। आने वाले दो वर्षों में देश में बहुत बड़े परिवर्तन होंगे जिसे देखकर लोग कहेंगे कि, ” ऐसा भी हो सकता है क्या…!!”
2022 के बाद देश विश्वगुरु बनने की और अग्रसर होगा। दुनिया में मोदी का डंका बजेगा।
 – पदम उपाध्याय ज्योतिषाचार्य 
(शक्ति उपासक एवं क्रिया योग साधक, रिटा. ज्वाइंट डायरेक्टर, गवर्नमेंट ऑफ इंडिया)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here