मोदी सरकार में अपने नेतृत्व पर भरोसा कीजिये!

ये सोशल मीडिया पोस्ट कर रही है सचाई बयान और बता रही है -बहुत आसान है अविश्वास करना किन्तु बहुत आवश्यक है भरोसा करना अपने प्रधानमंत्री मोदी पर..

0
117
कांग्रेस पुडुचेरी हार गई, कांग्रेस केरल हार गई, कांग्रेस आसाम हार गई, कांग्रेस पार्टी का बंगाल में खाता भी नहीं खुला मगर आपने किसी कांग्रेसी को सुना सोनिया गांधी को गाली देते हुए ? या राहुल गांधी से इस्तीफा मांगते हुए सुना आपने ?
ये विरोध का कीड़ा तथाकथित हिंदूवादियों में ही ज्यादा काटता है ?
लाओत्से ने कहा है कि जिसने दुःख नहीं देखा है वह सुख में भी घबराता है।
ये सोशल मीडिया पर जो अमित शाह और मोदी को गालियां दे रहे हैं और कह रहे हैं कि बस टैंक लीजिए तोप लीजिए और चल दीजिए बंगाल। वहां जाकर अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दीजिए तब हमको लगेगा कि हां हिंदूवाद यही है । अभी सरकार बनी नहीं है लेकिन उसे बर्खास्त कर दीजिए। राष्ट्रपति शासन लगा दीजिए। सेना उतार दीजिए।
ये वही लोग हैं जो बिहार झारखंड उत्तरप्रदेश के वे दिन भूल गए जब बूथ लूट लिए जाते थे, वोट डालने नहीं दिया जाता था और हर चुनाव में कम से कम 200 लोग मारे जाते थे जिनमें सौ लोग भूमिहार या राजपूत होते थे।
इन्हें एम-वाई गठजोड़ के उत्पात याद नहीं हैं क्योंकि इनमें से एक भी आदमी किसी बूथ पर जाकर विरोध नहीं किया है बस फेसबुक पर शेयर कर दिया कुछ इधर से लेकर कुछ उधर से लेकर।
हम सारे ऐसे सोचते हैं कि मोदी और शाह को चिन्ता नहीं है, सिर्फ हमको चिंता है, और उनको कोई सही सलाह देने वाला नहीं है, गृह मंत्रालय में सब नासमझ बैठे हैं, उनको कानूनों की समझ नहीं है, और BJP बंगाल प्रदेश अध्यक्ष और पार्टी के नेता अमित शाह को कुछ नहीं बता रहे होंगे, अमित शाह TV पर कोई वेबसिरिज़ देख रहे होंगे और कोई TV चैनल की न्यूज़ नहीं देख रहे होंगे, कोई सलाहकार नहीं है अमित शाह के पास, राज्यपाल छुट्टी पर होंगे और राज्यपाल ने कोई रिपोर्ट नहीं दी होगी, अमित शाह के पास कोई कानून विशेषज्ञ नहीं होगा बताने वाला की राष्ट्रपति शासन कैसे लगाना होता है..
ये सारा ज्ञान तो हम वाट्सअप/फेसबुक यूनिवर्सिटी के विशेषज्ञों के पास है। अमित शाह से ज्यादा समझदार हैं हम सारे क्या?
अमित शाह अगर नहीं कर सकते, तो भारत में कोई नहीं कर सकता, 370 और 35A हटाने वाला अमित शाह ही थे जिनको सारे कानून विशेषज्ञों ने कहा दिया था कि नहीं हटायी जा सकती.
अगर वो 370 और 35A एक घण्टे में हटा सकते हैं जो 70 सालों में कोई नहीं हटा पाया, तो राष्ट्रपति शासन भी लग  गया होता  60 सेकेण्ड में.
2014 के पहले देश का माहौल कैसा था याद करिए.
देश मे आडवाणी जी की रथयात्रा से बना पूरा माहौल बदल दिया गया था.
हिन्दुत्व की बात करने की हिम्मत भी नही  बची थी.
देश के सर्वोच्च उत्तरदायित्व का निर्वाह करते हुए एक  सन्यासी ने अपनी टीम के साथ  370 हटाई कश्मीर को बदला, श्री रामजन्मभूमि मंदिर की सभी बाधाओं को पार कर आधारशिला रखी, चीन को सीमाओं से वापस लौटने पर बाध्य किया, अपनी कूटनीतिक कौशल और दृढ इच्छा शक्ति से विभिन्न क्षेत्रों में सक्रिय अंतरराष्ट्रीय सिंडिकेट से निरंतर जूझ रहा है.
और जो निःस्वार्थ यह सब कर रहा है उसका मनोबल बढ़ाने, उसका साथ देने के स्थान पर ज्ञान पेले पड़े हैं
याद रखिये, जहाँ हमारी सोच खत्म हो जाती है वहां से उस शख्स का चिंतन शुरू होता है… उसे सब पता है कब, कैसै और क्या करना है.
इसलिये शांत रहिये और सोचिये..
परिस्थितियों का बिश्लेषण करना सीखिये और हो सके तो अपने नेतृत्व पर भरोसा रखिये ।
माफियाओं के हाथों कठपुतली मत बनिये !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here