#World Cup 2019 वर्ल्ड कप से बस दो कदम दूर टीम कोहली

अब बस ज़रा सावधान रह कर स्वाभाविक खेल है भारत के लिए विजय मंत्र

0
350
Kumar Sangakkara of Sri Lanka being injured by the ball of Ashish Nehra of India during the 5th ODI match between India & Sri Lanka at Ferozeshah Kotla Stadium in New Delhi on December 27, 2009.

टीम इंडिया छा गई. जैसा मैंने डेढ़ माह पूर्व पावर कॉरिडोर मैगज़ीन के लिए लिखे अपने लेख में कहा था कि इस बार मुकाबला टीम इंडिया बनाम वर्ल्ड कप का है.

जो चेहरा, जो अंदाज़, जो आगाज़ और जो परवाज़ मेन इन ब्लू ने इस बार विश्वकप में दिखायी है, साफ ज़ाहिर करती है कि जो संतुलन और जो सामर्थ्य इस बार भारतीय टीम के खिलाड़ियों में दिखा है, वो विश्व की किसी भी दूसरी टीम में नज़र नहीं आता, फिर चाहे वो ऑस्ट्रेलिया ही क्यों न हो या फिर इंग्लैन्ड की मजबूूत टीम.

लगातार मैच-दर-मैच जीत कर आज सेमीफाइनल खेल कर फाइनल खेलने की देहलीज पर खड़ी है. सारे मैच जीते हैं टीम इंडिया ने. इस बात पर ज़रा गौर कीजियेगा. राउंड रोबिन लीग में इंग्लैण्ड से खेले गए मैच में भी टीम इंडिया हारी नहीं हैं टीम इण्डिया ने जीत का उपहार दिया है इंग्लैण्ड को जिसकी उन्हें बड़ी ही शिद्द्त से ज़रूरत थी. शायद भारत का ये एहसान इंग्लैण्ड कभी भूल नहीं पायेगा. यदि भारत ने ऐसा न किया होता तो आज सेमी फाइनल के दौर में इंग्लैण्ड नहीं होता.

हालांकि कहा तो ये भी जा सकता है कि भारत ने बड़ी ही समझदारी का परिचय दे कर एक तीर से दो निशाने लगाए हैं. एक तरफ इंग्लैण्ड पर एहसान करके उन्हें सेमीफाइनल का तोहफा दे दिया दूसरी तरफ कट्टर प्रतिद्वंद्वी पकिस्तान को बाहर का रास्ता भी दिखा दिया. भारत ने जिस तरह आसान जीत दे कर इंग्लैण्ड को अंदर किया और पाक को बाहर किया, इसका अंदेशा पाकिस्तान ने पहले ही जता दिया था. लेकिन ये तो खेल का मैदान है, यहां जितने हाथ पैर चलते हैं उतना ही दिमाग भी चलना होता है.

भारत विरोधी मानसिकता के जो महानुभाव ऐसा समझते हों कि टीम इण्डिया को इंग्लैण्ड ने वास्तव में हराया है, भारत ने उन्हें विजयश्री उपहार में नहीं दी है – वे कृपा कर यूट्यूब पर भारत और इंग्लैण्ड का पूरा मैच दुबारा देखने का कष्ट करें. उन्हें साफ़ दिख जाएगा कि इंग्लैण्ड जीता है या उसे जीत दी गई है. चाहे वो शुरू के दो डीआरइस के अवसर थे जो भारत ने इस्तेमाल नहीं किये या भारतीय टीम की औसत गेंदबाज़ी या फिर आराम से की गई फील्डिंग, या ये सब छोड़िये भारतीय टीम के खिलाड़ियों की रन चेज़ ही देख लीजिये – रन रेट देखिये या फिर स्लॉग ओवर्स में भारत के खिलाड़ियों का चल चल कर रन लेने का अंदाज़ देखिये – आपको सब समझ में आ जाएगा.

हालांकि कोई इस गलतफहमी में न रहे कि भारत ने पाकिस्तान से डर कर इंग्लैण्ड को अंदर करना बेहतर विकल्प समझा. सच तो ये है जो सब जानते हैं, कि पाकिस्तान बड़े स्तर पर भारत के सामने हमेशा चोकर बन जाता है और भारत उसे पराजित कर विजेता बनता है. 2017 का एक मुकाबला छोड़ दीजिये, उसके पहले और उसके बाद देखिये तो जो मैंने कहा वही सच है. एक दिन तो कूड़े का भी आता है.

अब आगे क्या? आगे बस दो मैच भारत को खेलने हैं और क्रिकेट का विश्व कप भारत लाना है. न्यूज़ीलैण्ड से जीतना बहुत मुश्किल नहीं होगा और ऑस्ट्रेलिया से जीतना बहुत आसान भी नहीं होगा. लेकिन ये दोनो ही मैच भारत के नाम हैं क्योंकि विश्वकप 2019 में इस बार भारत का नाम लिखा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here