लिंकन और कैनिडी का कमाल संयोग

0
173

लिंकन राष्ट्रपति बने 1860 में, जॉन एफ कैनिडी 1960 में। दोनो अश्वेतों के मानवाधिकार के लिए लड़ रहे थे, दोनो ने राष्ट्रपति बनते ही अपने पुत्र को खो दिया। दोनो की हत्या शुक्रवार को हुई उस समय दोनो की पत्नियां उनके साथ थी, दोनो को सिर के पिछले हिस्से में गोली मारी गयी थी। लिंकन की हत्या फोर्ड कंपनी के थियेटर में हुई थी जबकि कैनिडी की हत्या फोर्ड कंपनी की कार में हुई बड़ी बात यह थी कि उस कार का नाम लिंकन था।

लिंकन की हत्या के बाद एंड्रू जॉनसन राष्ट्रपति बने वही कैनिडी की हत्या के बाद लिंडन बी जॉनसन अर्थात दोनो का उत्तराधिकारी जॉनसन उपनाम का ही था। अब और बड़ी बात एंड्रयू जॉनसन 1808 में जन्मे थे जबकि लिंडन जॉनसन 1908 में और इन दोनों की ही मृत्यु ब्लड प्रेशर के कारण हुई थी।

बात यही खत्म नहीं होती लिंकन के निजी सलाहकार का नाम जॉन था और जॉन के निजी सलाहकार का नाम लिंकन था। लिंकन के हत्यारे का जन्म 1839 में हुआ था वही कैनिडी के हत्यारे का जन्म 1939 में हुआ था। लिंकन के हत्यारे ने उन्हें थियेटर में गोली मारी और बेसमेंट में छुप गया वही कैनिडी को गोली बेसमेंट से मारी गयी और हत्यारा थियेटर में जाकर छुप गया था।

क्या कमाल का संयोग है।

(परख सक्सेना)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here