मशहूर गायिका की हत्या: गाने के बाद गोली

(परख सक्सेना)

0
708

ये तस्वीर है अमेरिका की मशहूर गायिका क्रिस्टीना ग्रिमी की। इस फोटो में जो गाना वे गा रही है यह उनका अंतिम गाना था क्योकि कंसर्ट के बाद गोली मार कर इनकी हत्या कर दी गयी थी।

अक्सर दक्षिणपंथियो की एक डिमांड सुनने को मिलती है कि हिन्दुओ को बंदूक रखने का अधिकार मिलना चाहिए।

अमेरिका में बंदूक खरीदना भारत मे लाठी खरीदने जितना आसान है। इसीलिए अमेरिका की 2 गायिकाओं के हत्याकांड समझ लेना बेहद जरूरी है, फिर विचार करे कि यह सही है या गलत

1990 के दशक में अमेरिका की 23 वर्षीय मशहूर गायिका सेलिना अपने करियर की ऊँचाई पर थी। उस समय यूट्यूब तो था नही, कैसेट्स ही बिकते थे। अपने कैसेट्स और फैशन सम्बन्धी डिज़ाइन बेचने के लिए सेलिना ने फैन क्लब चलाया था जिसकी अध्यक्ष योलांडा साल्दीवार थी।

योलांडा फैन क्लब में चोरी कर रही थी और भ्रष्टाचार भी। सेलिना ने योलांडा को नौकरी से निकाल दिया। मगर बैंक के पैसो से जुड़ी बात करने के बहाने योलांडा ने आखिरी बार सेलिना को मिलने के लिये होटल में बुलाया। होटल में उनका झगड़ा हुआ। सेलिना कुछ समझती इससे पहले ही योलांडा ने गोली चला दी।

सेलिना घायल होकर भी कमरे से भागी मगर ज्यादा खून बहने से उनकी मौत हो गयी। योलांडा को पुलिस ने घेर लिया, पूरे 9 घण्टे तक वह अपनी कनपटी पर बंदूक रखकर पुलिस को ब्लैकमेल करती रही बाद में समर्पण किया। जांच के दौरान यह भी पाया गया की योलांडा समलैंगिक थी, सेलिना से संबंध बनाना चाहती थी जब सेलिना गुस्सा हुई तो शूट कर दिया।

दूसरी धारणा यह थी कि 3 साल पहले सेलिना ने योलांडा की भतीजी को किसी प्रतियोगिता में हराया था वो इस बात से भी नाराज थी। खेर इस केस में सिर्फ एक बंदूक के दम पर योलांडा ने 3 गुनाह किये, सेलिना से जबरदस्ती की कोशिश, उनकी हत्या और फिर आत्महत्या की कोशिश। फिलहाल 30 साल की जेल भुगत रही है मगर सेलिना के प्रशंसकों ने उसे रिहा होते ही जान से मारने की धमकी दी है। यदि उसे किसी प्रशंसक ने मार दिया तो ये एक नई मिस्ट्री बनेगी।

एक और गायिका थी क्रिस्टीना ग्रीमी, 22 वर्षीय मशहूर गायिका जिनकी यह तस्वीर है, पूरे अमेरिका में इनकी कोई टक्कर नही थी। इनका एक पागल प्रशंसक था केविन जेम्स, केविन को जब लगा कि क्रिस्टीना उसकी नही हो सकती। तो वो फ्लोरिडा में हो रहे कंसर्ट में गया ऑटोग्राफ के बहाने क्रिस्टीना तक पहुँचा और 4 गोलियां मार दी। जब क्रिस्टीना के भाई की पकड़ में आया तो उसने खुद को भी गोली मारकर आत्महत्या कर ली। इस हत्या को आप एसिड अटैक से जोड़ सकते हैं।

सेलिना और क्रिस्टीना जैसी महान प्रतिभाएं सदियों में जन्म लेती है। मगर योलांडा और केविन जैसे इन कीड़े मकोड़ो का क्या?? अपनी अंतरात्मा में झांककर जवाब दे कि भारत मे सेलिना ज्यादा है या योलांडा, क्रिस्टीना ज्यादा है या केविन। यदि हथियारों की बिक्री बढ़ जाये तो इन सो कॉल्ड obsessed लोगो की तो चांदी ही हो गयी समझो।

श्रेया घोषाल, करीना कपूर और ऐश्वर्या राय जैसी कई सेलेब्रिटीज़ फैन्स की खींचातानी का कभी ना कभी शिकार हुई है। फैन्स के हाथ मे बंदूक आ गयी तो काम खत्म ही समझिए।

सेलिना और क्रिस्टीना तो बड़े उदाहरण है ऐसे ना जाने कितनी ही हत्याएं अमेरिका में हर तीसरे दिन हो जाती है। ऐसा नही है कि अमेरिकियों को बंदूकों का फायदा नही मिलेगा मगर तब जब इस्लामिक आक्रांताये अमेरिका में बढ़ेगी। हालांकि अमेरिका की सेना और पुलिस सक्षम है, भारत मे भी सेना और पुलिस सक्षम है फिर भी आत्मरक्षा के लिए हथियार तो चाहिए ही।

अब ये एक बड़ी पहेली है कि क्या सही है और क्या गलत।

योलांडा जैसों के पास बंदूक होना श्राप है मगर सोचिये एक बंदूक सेलिना के पास भी होती तो क्या उनकी इतनी निर्दयी हत्या हो पाती??? फिलहाल तो यह चर्चा का विषय है, मेरी राय में बंदूक रखने का अधिकार फिलहाल ना ही हो तो बेहतर है, हथियारों का अधिकार देना हमारी बहुत बड़ी जल्दबाजी होगी। बाकी आप सभी अपनी राय रखने के लिए स्वतंत्र है।

(परख सक्सेना)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here