श्रीलंका में मौलानाओं को किया जा रहा है बाहर, चर्चों में दहशत आज भी

श्रीलंका की सरकार अब दुनिया में किसी भी देश के मुकाबले अपनी सुरक्षा के प्रति अधिक गंभीर नज़र आती है..

0
473

श्रीलंका संडे ईस्टर पर हुए सीरियल धमाकों के बाद से अब तक अंदर ही अंदर भय मुक्त नहीं हो सका है. श्रीलंका की चिंता है कि समस्या देश में ज़्यादा है देश से बाहर कम..

सीरियल धमाकों के बाद सावधानियों के कदम श्री लंका में काफी गंभीरता से उठाये गए हैं. श्रीलंका से अभी तक कुल 600 से ज्यादा विदेशी नागरिक बाहर किये जा चुके हैं जिनमें 200 के करीब मौलाना शामिल हैं. गृहमंत्रालय से जारी किये गए वक्तव्य के अनुसार ये मौलाना अपने वीज़ा की अवधि बीत जाने के बाद भी देश में रह रहे थे.

गृह मंत्री वाजिरा अभयवर्द्धने ने कहा कि यह सख्ती हमारी मजबूरी है. अब हम देश की सुरक्षा के साथ किसी भी तरह का समझौता करने के मूड में नहीं हैं.

सावधानियों के मद्देनज़र उठाये जा रहे क़दमों में अब धार्मिक शिक्षकों की एंट्री भी श्रीलंका में आसान नहीं होगी. धार्मिक शिक्षक बन कर वीज़ा मांगने वालों को भी कड़े प्रतिबंधों का सामना करना पड़ेगा.

दूसरी तरह श्रीलंका का क्रिश्चियन समुदाय अभी भी बुरी तरह से डरा हुआ है. ये लगातार दूसरा हफ्ता है जब कैथोलिक समुदाय के लोग चर्च नहीं गए हैं. वे अपने अपने घरों में रविवार की प्रार्थना सभा आयोजित कर रहे हैं और श्रीलंका के चर्च खाली पड़े हुए हैं.

(इन्दिरा राय)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here