Taliban ने बढ़ाई अफगान सरकार की मुश्किलें, अभी जारी है जंग

अफगानी सरकार की मुश्किलें और बढ़ते तनाव के बीच तालीबान को रोकने के लिये अमेरिका से B52 बॉम्बर और स्पेक्टर गनशिप अफगानिस्तान रवाना हो गये हैं

0
112
अफगानिस्तान में तालिबान का दखल व आतंक ज़ोरों पर है. दिन ब दिन तालिबान अपनी सामरिक गतिविधियों से अफगानिस्तान के हिस्सों पर कब्ज़ा करता जा रहा है. कुंदुज शहर सहित तालिबान अफगानिस्तान के कई और शहरों में जबरन हिंसा के बल पर अपना प्रभुत्व स्थापित कर चुका है.
प्रोविंशियल कैपिटल सर-ए-पुल जो किअफगानिस्तान के उत्तर-पूर्व में स्थित है उस पर भी तालिबान ने अपने आधिपत्य का ठप्पा लगा दिया है. ऐसे में अफगानी सरकार की मुश्किलें और तनाव भी बढ़ गया हैं. अमेरिका ने अपने B 52 बॉम्बर और स्पेक्टर गनशिप अफगानिस्तान रवाना कर दिये हैं ताकि तालिबान को रोका जा सके.
इस B 52 बॉम्बे की खासियत ये है कि इसके उपयोग से एक बार में ही एक साथ कई आतंकी ठिकानों पर हमला बोला जा सकता है. B 52 बॉम्बर कतर के एक एयरबेस से रवाना होकर अफगानिस्तान में तालिबानी ठिकानों के ऊपर उड़ान भर कर उनकी गतिविधियों का संज्ञान ले रहा है. इस अमेरिकी बॉम्बर से कंधार, हेरात और लश्कर गाह में स्थित तालिबानी आतंकी अड्डों पर नज़र रखी जा रही है ताकि उन पर वक्त रहते निशाना साधा जा सके.
हेलमंद प्रोविंस के लश्करगाह क्षेत्र में अफगान एयरफोर्स के हवाई हमले जारी हैं. इस मुठ-भेड़ में अल-कायदा संगठन के तीन पाकिस्तानी और 572 तालिबानी आतंकियों का अंत हो गया. ऐसे ही शुक्रवार को इसी क्षेत्र में अल-कायदा के 30 और आतंकी पाकिस्तानी मौत के घाट उतार दिया गये.
तालिबानी आतंकवाद सर्वविदित है. तालिबानी हिंसा और क्रूरता का विरोध प्रदर्शन विश्व स्तर पर हो रहा है.
तालिबान रवैये को पश्चिमी देशों सहित पूरी दुनिया ने गलत व असंगत कहा है.
हवाई हमलें यूनाइटेड नेशन्स में अफगानी एम्बेसडर गुलाम इसाकजई के बयान के बाद पश्चात पाकिस्तान पर तालिबानी आतंक को समर्थन करने का आरोप लगा. जिसमें ये बताया गया है कि पाकिस्तान ने तालिबानी आतंकियों को गैरकानूनी हथियारों की सहायता भेजी. एम्बेसडर ने यह भी दावा किया कि उनकेनपास पाकिस्तान के इन गतिविधियों में शामिल होने के ठोस सबूत हैं जिसे वह यूनाइटेड नेशन्स सिक्योरिटी काउंसिल को देने के लिये सहर्ष तैयार भी है.
अफगानी नागरिकों ने इसी संदर्भ में जर्मनी में अफगान में तालिबानी हिंसा में पाकिस्तानी समर्थन की बात के विरूद्ध प्रदर्शन किया है. अफगानी नागरिक और सिविल सोसायटी एक्टिविस्ट अब्दुल बारी समंदर ने दावा किया है कि पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI अफगानिस्तान में आतंकवाद को तूल दे रही है.
इतना ही नही इन आतंकियों ने अफगान सुरक्षाकर्मियों के हथियारों की लूट की. सोशल मीडिया पर वायरल वीडियोज़ में आतंकियों की ज़बरदस्ती की दास्तान देखी जा सकती है. खवाजा दो खोह जिले के प्रोविंस में मार्शल अब्दुल राशिद के घर से आतंकियों ने AK-47 और बंदूकें लूटी.
कुंदुज जिले में तालिबान और अफगान सुरक्षाबलों के बीच संघर्ष हुआ. भयंकर गोलीबारी में वहां के 11स्थानीय नागरिकों की मौत हो गई और 40 नागरिक घायल भी हुए. तालिबान के इस अमानवीयतापूर्ण कृत्य का खुलासा करते हुए अफगानी एम्बेसडर गुलाम इसाकजई ने यूनाइटेड नेशन्स में ये बात कही.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here