किडनी के रोगियों के लिये डाइट चार्ट, टाइमिंग और चेक लिस्ट

(ओमप्रकाश सिंह)

0
520

किडनी के रोगियों के लिए डाइट चार्ट
मैने सैकडो किड्नी के रोगियों से बात किया जिससे यह पता चला कि उन्हे क्या खाना चाहिए क्या नही इसके बारे मे उन्हे बताया ही नही गया है इस लिए में अपने 10 साल के अनुभव के आधार पर एक सुन्दर डाइट चार्ट बनाकर दे रहा हु फिर भी अपने डॉक्टर और वैद्य को दिखाकर उसमे थोड़ा कम ज्यादा कर सकते है।
किडनी के रोग में परहेज : किड्नी के रोगी को नमकीन चटपटी खट्टी चीजे तली हुई चीजें बेकरी आइटम जैसे पाव, ब्रेड, बटर, खारी बिस्कुट, नान खटाई, सूप, नारियल पानी, जूस, कोल्ड ड्रिंक सभी प्रकार की दाले, करेला, भिन्डी, बैंगन, टमाटर, शिमला मिर्ची, पत्ते वाली सब्जी जैसे पालक, चौराई,फलो का रस, सूखा मेवा, अंकुरित दाल, बेसन, पापड़, आचार, खट्टी चटनी, फरसान, लेने की मनाही है।

किडनी के रोगी के लिए चाय
.अदरक और तुलसी के पत्ते वाली काली चाय मे थोड़ा सा काली मिर्च, सोंठ, दालचीनी, छोटी इलायची, बड़ी इलायची, तेजपत्ता, अजवायन और लवंग का चूर्ण डालकर बनाए, सुबह साम 100- 150 ग्राम चाय दे, ध्यान रखे, इसमें चाय पत्ती ना डाले तो भी चलेगा।

किडनी के रोगी के लिए नाश्ता
सबसे पहले एक एप्पल छिलका निकालकर लेना चाहिए चाहिए उसके बाद एक घूंट गरम पानी लीजिये, गला साफ़ करने के लिए, उसके बाद दलिया, पोहा, कुरमुरा या सूजी का बना, इडली, सफेद ढोकला, उपमा, उथप्पा साबुदाना, या साबुदाना खिचड़ी बिना मूँगफली नारियल के ।

किडनी के रोगी के लिए रोटी
किडनी के रोगी के लिए रोटी सूखी होनी चाहिए, मतलब बिना घी, तेल लगाये, मक्का, (जवार), बाजरा की हो तो उत्तम, नही तो गेहू थोड़ा मोटा पिसा हुआ ले, मैदे या बारीक पिसे आटे की ना बनवाए। सफ़ेद वाला बाजरा की रोटी सबसे उत्तम है I

किडनी के रोगी के लिए सब्जी
हमेशा दो तरह की सब्जी ले एक जमीन के नीचे होने वाली जैसे आलू, सूरन, मूली, सलाजम, गाजर, बीट, (चुकंदर) शकरकन्द, दूसरी जमीन के उपर वाली लौकी, भोपला (कोहड़ा), गोभी, पत्ते वाली गोभी, मेथी, बथुआ, गुवालिन (गवार) फनसबीन, सहजन, (शेंगा) नेनुआ (तुरई) सरपुतिया, चिचीन्हा, कूनरू, , रायता आदि ।

जिसमे लौकी, सहजन, कुनुरु, गुवालिन और बथुआ अति उत्तम है I

किडनी के रोगी के लिए सलाद
ककड़ी, खीरा, गाजर, बीट रूट, (चुकन्दर), पत्ते वालीगोभी, मूली, सलजम, प्याज लेकिन मूली का सेवन रात्रि मे ना करे ।

किडनी के रोगी के लिए तेल मसाला
अदरक, लहसुन, प्याज, हरा धनियाँ, सुखा धनिया, हल्दी, हरी मिर्च, हींग, अजवाइन, सुंठ, दालचीनी, छोटी इलायची, लवंग, बड़ी इलायची, तेजपत्ता, जीरा, स्याह जीरा और तेल शुद्ध सरसो, जैतून, तिल, अलसी और नारियल का तेल ही प्रयोग करे ।

किडनी के रोगी के लिए दूध दही पनीर
गाय का दूध मलाई निकलकर 100 – 150 ग्राम नाश्ते के समय, दही 1 कटोरी दोपहर भोजन के समय और पनीर 30 ग्राम डिनर के साथ ले ।

किडनी के रोगी के लिए फल
सेब बिना छिलके के, बेर, पेर, पेरू (अमरूद), पपीता, कीवी और अनानास मे से कोई एक फल ।

किडनी के रोगी के लिए मीठा
1, 2 रसगुल्ला, गुलाब जामुन या श्रीखंड। इनमे जो भी आप खाए वो आप कम मात्रा में ही खाए, शुगर के रोगी मीठा नहीं खाएं।

चेक लिस्ट और टाइमिंग
जिन लोगो को गोखरू का काढ़ा फायदा नहीं किया है और जिन्हें फायदा किया है दोनों ही इस चेक लिस्ट को ध्यान से पढ़े I

१. गोखरू छोटा पका हुआ पीले कलर का ही लिया है क्या ? उसकी फोटो मेरे व्हात्सप के डीपी पर है देखिये ८०९७२३६२५४ I

२. अपनी रिपोर्ट हर १५ दिन पर समीक्षा के लिए अपने डॉ या वैद्य को बताया है क्या ? मैंने लिखा है की १५ दिन में गोखरु का परिणाम मिल जाता है, नहीं मिलता है तो उसकी समीक्षा कराये, मिला है तो भी समीक्षा कराये, जिससे ज्यादा से ज्यादा फायदा मिल सके,

सब कुछ करने के बाद भी यदि फायदा नहीं हो रहा है तो तुरंत डॉ राज ठाकुर सर को व्हात्सप नंबर ९४२५८२१२९६ पर रिपोर्ट भेजकर मोबाइल नंबर ७३५४८९९९९५ पर बात कीजिये या वैद रमण जी से ९०२३८३७२३९ पर संपर्क करें, या डॉ आशीष गुप्ता जी ९८२७६१२६९१ पर बात कीजिये, जिससे उचित सलाह मिल सके की आगे क्या करना है I

३. गोखरु यूज करते समय बीपी सुगर का फ्लक्चुएशन होना डिहाइड्रेशन होना बुखार होना सर्दी जुकाम होना क्रिएटिनिन को बढा देता है I

४. किडनी में सिस्ट तो नहीं है या पिकेडी या एडिपिकेडी के पेशेंट्स तो नहीं है I यदि है तो उसका भी इलाज करे नहीं तो कोई फायदा नहीं होगा ।

  1. किडनी में युरोलॉजिकल प्रॉब्लम तो नहीं है ।
  2. सुबह ६ बजे के बाद सोकर उठते है क्या ? ६ बजे के बाद सोकर उठने का मतलब है बिमारियों को निमंत्रण देना, काढ़ा हर हाल में शौच आदि से निवृत होकर ६ बजे के पहले पीना है और काढा पीने से पहले चाय आदि न ले, शौच जाने के लिए गरम पानी पीते है तो वो ले सकते है I
  3. नाश्ते में सबसे पहले ७.३० बजे एक एप्पल छिलका निकालकर लीजिये और एक घूंट गर्म पानी पीजिये, एप्पल टोक्सिन बाहर करने वाला फल है इसलिए इसे जरुर खाएं उसके बाद मेरे डाइट चार्ट में जो नाश्ता बताया है, उसमे से कोई एक हैवी नाश्ता लीजिये, उसके बाद १५० से २०० एम् एल दूध लीजिये, उसके बाद चाय पीना हो तो पीजिये नहीं पिए तो और भी अच्छा है, किसी को बार बार सर्दी जुकाम होता है बुखार होता है तो डाइट चार्ट में बताई हुई चाय जरुर पियें I
    ७. दोपहर को भोजन १२.३० से १.०० के बीच में ही ले, सबसे पहले सलाद गरम पानी में आधा घंटा भिगोकर रख दीजिये उसके बना करके खाएं और गेहू का आटा मोटा पिसाकर ही रोटी बनवायें, कभी कभी बाजरा की रोटी भी खायें यदि खाना ठीक से नहीं हजम होता है तो २५ ग्राम गेहु का चोकर मिलाकर रोटी बनायें और प्रोटीन लीक हो रहा है तो १५ ग्राम अलसी का पाउडर मिलाकर रोटी बनायें, सब्जी दोनों ही जमीन के निचे वाली और ऊपर वाली लेना है, इस बात का ध्यान रखे, और एक कटोरी दही या एक गिलास छास दोपहर को जरुर ले I
    ८. शाम को यदि भूख लगती है तो ४ बजे के पहले हलका नाश्ता एक कटोरी कुरमुरा या अनानास , पेर, पेरू, पपीता कोई भी एक फल ले सकते है साथ में चाय पानी ले सकते है I
    ९. शाम को काढ़ा ६ बजे लीजिये या सुबह जितने बजे दिया था ठीक उतना ही बजे दीजिये I
    १०. रात को भी खाना ७.३० बजे दोपहर के खाने के अनुसार ही लीजिये रात के खाने में सलाद में मूली, और अंत में दही या छास न ले, प्रोटीन की कमी पूरा करने के लिए पनीर का सेवन कर सकते है जैसा डाइट चार्ट में बताया है I
    ११. पानी हर किडनी पेशेंट्स को २० मिनट्स उबाला हुआ सूती कपडे से छाना हुआ ही पीना है आरओ, बिसलेरी आदि का भरोसा न करे पानी का दूषित होना किडनी के लिए बहुत बड़ी समस्या बन चूका है I
    १२. सबसे महवपूर्ण प्रश्न पानी कितना पिते है, पानी का नियम है जितना यूरिन हो रहा है उससे ५०० एमएल ज्यदा पानी पीना है जैसे एक लीटर यूरिन हो रहा है तो डेढ़ लीटर पानी पानी और डेढ़ लीटर यूरिन हो रहा है तो मतलब यूरिन की कोई समस्या नहीं है पानी कम से कम ३ से ५ लीटर पियें, ५ लीटर से ज्यादा पानी कोई भी न पिए चाहे वो किडनी का रोगी हो या न हो, और यूरिन नहीं हो रहा है तो कितने कम से कम पानी में काम चल जाये उसी में गुजरा करे I
    १३. तेल शुद्ध सरसों का या नारियल का या तिल का या जगनी का या अलसी का ही यूज करे रिफाइंड, सुपर रिफाइंड और सफोला आदि से कोसो दूर रहे I जय श्री राम! जय गौ माता!

(ओमप्रकाश सिंह)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here