Corona Care: ऐसे बचाएं जान जब हो जाए Corona आपको

डॉक्टर का इलाज तो जो चल रहा हो चलने दें, साथ में ये कर लें जो आपकी जान ज़रूर बचा लेगा..

0
199
कोरोना हो जाए तो हैरान मत होना क्योंकि वास्तविकता यही है कि कोरोना ऐसे ही फ़ैल रहा है इस बार. कब किसको हो रहा है ये तो पता चल रहा है लेकिन कैसे हो रहा है ये पता नहीं चल रहा है. कब आकर कौन बाँट गया प्रसाद -समझना मुश्किल है. लेकिन इसके बाद क्या होता है इसको समझना उसके लिए ही मुमकिन है जिसे कभी या तो कोरोना हुआ है या जिसने किसी कोरोना पेशेंट को देखा है या किसी कोरोना पेशेन्ट की अंतिम यात्रा देखी है.

ये पाँच काम कर लीजिये

जैसा हमने इस आलेख की शुरुआत में ही कहा है कि आपकी कोरोना रिपोर्ट पॉज़िटिव आने के बाद जो भी डॉक्टरी उपचार आपका चल रहा हो उसे चलाये रखें लेकिन साथ में ये पाँच काम ज़रूर कर लें. डॉक्टर की दवाई लग जाए तो बहुत अच्छी बात अगर न लगे तो ये चार चीज़ें पक्की तौर पर बचा सकती है आपकी जान.

सुबह की शुरुआत काढ़े से

अमृता अर्थात गिलोय का काढ़ा आपको आधा कप रोज़ सुबह पीना है. ये आपके लिए इंस्टेंट इम्युनिटी बूस्टिंग का काम करेगा. ये काढ़ा आपको खाली पेट ही पीना है. इसके बाद ही आप अपनी सुबह की चाय पियें.

कपाल-भाति, भस्त्रिका और अनुलोम-विलोम

ये तीन नाम आपने अवश्य सुन रखे होंगे. अब समय आ गया है कि इनको दूसरी स्टेज पर ले आएं अर्थात सुनने के बाद अब आचरण में भी उतार लें. बहुत आसान हैं ये प्राणायाम. अनुलोम-विलोम आप खाने के पहले और खाने के बाद भी कर सकते हैं किन्तु भस्त्रिका और कपाल भाति खाली पेट ही करें. दिन भर में आधा आधा घंटा पांच बार कर लें पांच बार न हो पाए तो चार बार तो ज़रूर करें.
आसान बात ये है कि आप बैठ कर लेट कर जैसे चाहें ये प्राणायाम कर सकते हैं. यदि इनको करने में आपको थकान महसूस हो तो आप आराम से लम्बी लम्बी साँसें लेने और छोड़ने का काम करते रहें. ये भी एक तरह का प्राणायाम है जो बहुत आसान है. आप इन प्राणायामों को जितना अधिक करेंगे, उतनी जल्दी आपके स्वस्थ होने की स्थिति बनेगी.

दवाई ये वाली खा लें

कोरोनिल से आप भली-भाँती परिचित होंगे. दो दो गोली कोरोनिल दिन में दो बार खाने के बाद ले लीजिये. साथ में स्वासारी अथवा स्वासारी गोल्ड की गोली भी खा लें दो बार. सुबह उठते ही अणु तेल की दो दो बूँदें दोनों नाकों में डाल लें और सोते समय भी यही प्रक्रिया दुहराएँ. इसके साथ दिन में चार चार बार हल्दी डले हलके गर्म पानी के गरारे भी करें. और हाँ, दो बार आपको भाप भी लेनी है- सुबह और शाम. पाँच से दस मिनट तक भाप लेना एक बार के लिये काफी है.

कमरे में ये वाला दिया जलाएं

दिन भर अपने घर के लिविंग रूम में अर्थात बैठक में एक बड़ा दीपक गाय के घी का दिया जला कर रखें. पतंजलि स्टोर में ही आपको एक और औषधि मिल जायगी जिसका नाम है दिव्य धारा. दिव्य धारा की बोतल ले आइये, इसकी कुछ बूँदें दिन में तीन चार बार घी के दीपक में डालते रहिये. इस दिए को अखंड रूप से जलने दीजिये ताकि ये आज से आगे हमेशा के लिए आपके घर का ऑक्सीजन लेवल बेहतर करने की जिम्मेदारी सम्हाल ले.

शाहरुखासन करना है आपको चार बार

दिन में चार बाद दस दस मिनट शाहरुख़ खान आसन करना है आपको. इस आसन के अनुसार आपको दोनों बाजू फैला कर शाहरुख़ स्टाइल में आई लव यू, संजना! कहना है (मन में). शाहरुख़ टेढ़ा हो कर दोनो हाथ फैलाता है, आपको सीधे खड़े हो कर दोनों पैरों के बीच में गैप बना कर अपने दोनों हाथ आगे से पीछे की तरह हवा में फैला कर बगल में अपने कंधे के समानांतर पहुंचाने हैं. यह आपके सीने के लिए व्यायाम का काम करेगा और अन्दर आपके फेफड़ों को शक्ति प्रदान करेगा सांस लेने में भी और अपने-आपको रिकवर करने में भी.

रात को सोने से पहले ये करें

रात में अपने शयन कक्ष में भी एक छोटा गौ घृत का दीपक जला के रखें. इस दीपक में भी दिव्य धारा कि कुछ बूँदें रात में डाल दें ताकि सुबह तक वह गाय के घी के साथ जल कर आपके शयन कक्ष में प्राणवायु अर्थात ऑक्सीजन का स्तर बेहतर रख सके. सोने से पहले हल्दी वाले दूध में शिलाजीत की कुछ बूँदें डाल कर इसके साथ नियम से एक चम्मच च्यवनप्राश खाना न भूलें. सोते समय पेट के बल सोएं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here