Life is lovely : ”अब बांझ नहीं कहलायेंगे हम!”

सोशल मीडिया की ये पोस्ट एक खूबसूरत सच की झलक है उस ज़िन्दगी की जो हमारे आसपास ही कहीं मुस्कुरा रही है ये कहते हुए कि इतनी भी बुरी नहीं मैं!..

0
112
आधी रात का समय था रोज की तरह एक बुजुर्ग शराब के नशे में अपने घर की  तरफ जाने वाली गली से झूमता हुआ जा रहा था, रास्ते में एक खंभे की लाइट जल  रही थी, उस खंभे के ठीक नीचे एक 15 से 16 साल की लड़की पुराने फटे कपड़े  में डरी सहमी सी अपने आँसू पोछते हुए खड़ी थी.
जैसे ही उस बुजुर्ग की नजर उस  लड़की पर पड़ी वह रूक सा गया, वो लड़की शायद उजाले की चाह में लाइट के खंभे  से लगभग चिपकी हुई सी थी.
वह बुजुर्ग उसके करीब गया और उससे लड़खड़ाती जुबान से पूछा – तेरा नाम क्या है, तू कौन है और इतनी रात को यहाँ क्या कर रही  है?
लड़की चुपचाप डरी सहमी नजरों से दूर किसी को देखे जा रही थी.  उस बुजुर्ग ने जब उस तरफ देखा जहाँ लड़की देख रही थी तो वहाँ चार लड़के उस  लड़की को घूर रहे थे. उनमें से एक को वो बुजुर्ग जानता था, वो लड़का उस  बुजुर्ग को देखकर झेंप गया और अपने साथियों के साथ वहाँ से चला गया.
लड़की उस  शराब के नशे में धुत बुजुर्ग से भी सशंकित थी फिर भी उसने हिम्मत करके बताया – ”मेरा नाम रूपा है मैं अनाथाश्रम से भाग आई हूँ, वो लोग मुझे आज रात के लिए  कहीं भेजने वाले थे” दबी जुबान से बड़ी मुश्किल से वो कह पाई!
बुजुर्ग:-  क्या बात करती है..तू अब कहाँ जाएगी!
 लड़की:-  नहीं मालूम!
 बुजुर्ग:-  मेरे घर चलेगी?
 लड़की मन ही मन सोच रही थी कि ये शराब के नशे में है और आधी रात का समय है  ऊपर से ये शरीफ भी नहीं लगता है, और भी कई सवाल उसके मन में धमाचौकड़ी  मचाए हुए थे!
 बुजुर्ग:- अब आखिरी बार पूछता हूँ मेरे घर चलोगी हमेशा के लिए…?
बदनसीबी को अपना मुकद्दर मान बैठी गहरे घुप्प अँधेरे से घबराई हुई सबकुछ  भगवान के भरोसे छोड़कर लड़की ने दबी कुचली जुबान से कहा जी हाँ
उस  बुजुर्ग ने झट से लड़की का हाथ कसकर पकड़ा और तेज कदमों से लगभग उसे घसीटते  हुए अपने घर की तरफ बढ़ चला वो नशे में इतना धुत था कि अच्छे से चल भी  नहीं पा रहा था किसी तरह लड़खड़ाता हुआ अपने मिट्टी से बने कच्चे घर तक  पहुँचा और कुंडी खटखटाई थोड़ी ही देर में उसकी पत्नी ने दरवाजा खोला.
इससे पहले कि उसकी पत्नी कुछ बोल पाती कि उससे पहले ही उस बुजुर्ग ने कहा- लो, ये लो सम्भालो इसको..बेटी लेकर आया हूँ हमारे लिये.. अब हम बाँझ नहीं कहलाएंगे आज से हम भी औलाद  वाले हो गए!
पत्नी की आँखों से खुशी के आँसू बहने लगे और उसने उस लड़की को  अपने सीने से लगा लिया।

 

बूंद जो बन गई मोती (कहानी/भाग-1)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here