याद रखिये – बुढ़ापा पैरों से शुरु होता है !

एक दिन आप सीनियर सिटीजन बनेंगे तब लगेगा कि अरे जीवन में ये गलती कैसे हो गई जिसका भुगतान इस आयु में करना पड़ रहा है..दुहरा नुकसान !..

1
312
मुझे आज उपरोक्त संदर्भ में एक समझने लायक लेख मिला। मैं तो रोज कम से कम 45 मिनट लगातार पैदल चलता हूं जो मेरे ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित रखने में मदद करता है व यही सीनियर सिटीजन्स हेतु सबसे अच्छी एक्सरसाइज है। इस लेख में पैदल चलने के और भी फायदे बताए हैं।
मैं पैरों के नर्व्स और वेंस के लिए स्ट्रेच एक्सरसाइज़ में अलाली कर लेता था, जो अब नही करूँगा। क्योंकि पिंडली को कुछ लोग इसमें नर्व्स और वेंस के कारण इसे छोटा दिल जो कहते हैं। शायद इस लेख में बताई गई बातें आपके जीवन में बहुत उपयोगी सिद्ध सिद्ध हों।
बुढ़ापा पैरों से ऊपर की ओर शुरू होता है ! अपने पैरों को सक्रिय और मजबूत रखें !!
जैसे-जैसे हम साल ढलते जाते हैं और रोजाना बूढ़े होते जाते हैं, हमारे पैर हमेशा सक्रिय और मजबूत बने रहने चाहिए।
जैसा। हम लगातार बूढ़े हो रहे हैं / वृद्ध हो रहे हैं, हमें बालों के भूरे (या) त्वचा के झड़ने (या) झुर्रियों से डरना नहीं चाहिए।
दीर्घायु के संकेतों में, जैसा कि अमेरिकी पत्रिका “रोकथाम” द्वारा सारांशित किया गया है, मजबूत पैर की मांसपेशियों को शीर्ष पर सूचीबद्ध किया गया है, क्योंकि यह सबसे महत्वपूर्ण और आवश्यक है।
यदि आप दो सप्ताह तक अपने पैर नहीं हिलाते हैं, तो आपके पैरों की ताकत 10 साल कम हो जाएगी।
डेनमार्क में कोपेनहेगन विश्वविद्यालय के एक अध्ययन में पाया गया कि वृद्ध और युवा दोनों, निष्क्रियता के दो हफ्तों के दौरान, पैरों की मांसपेशियों की ताकत एक तिहाई * कमजोर हो सकती है जो *20 से 30 साल की उम्र के बराबर है।
जैसे-जैसे हमारे पैर की मांसपेशियां कमजोर होती हैं, ठीक होने में लंबा समय लगेगा, भले ही हम बाद में पुनर्वास और व्यायाम करें।
इसलिए, चलना जैसे नियमित व्यायाम बहुत जरूरी है।
पूरे शरीर का भार/ भार पैरों पर रहता है और आराम करता है। पैर एक प्रकार के स्तंभ हैं, जो मानव शरीर के पूरे भार को वहन करते हैं।
दिलचस्प बात यह है कि किसी व्यक्ति की 50% हड्डियाँ और 50% मांसपेशियाँ दोनों पैरों में होती हैं। मानव शरीर के सबसे बड़े और मजबूत जोड़ और हड्डियां भी पैरों में होती हैं।
▪️मजबूत हड्डियां, मजबूत मांसपेशियां और लचीले जोड़ “आयरन ट्राएंगल” का निर्माण करते हैं जो सबसे महत्वपूर्ण भार यानी मानव शरीर को वहन करता है।  70०% मानव गतिविधि और किसी के जीवन में ऊर्जा का जलना दो पैरों से होता है।
क्या आप यह जानते हैं? जब इंसान जवान होता है तो उसकी जांघों में इतनी ताकत होती है कि वह 800 किलो की छोटी कार को उठा सके।
️ पैर शरीर की गतिविधियों का केंद्र है।
दोनों पैरों में मिलकर मानव शरीर की ५०% नसें, ५०% रक्त वाहिकाएं और ५०% रक्त उनमें से बहता है।
▪️ यह सबसे बड़ा संचार नेटवर्क है जो शरीर को जोड़ता है।
केवल जब पैर स्वस्थ होते हैं तब रक्त की कन्वेंशन धारा सुचारू रूप से प्रवाहित होती है, इसलिए जिन लोगों के पैर की मांसपेशियां मजबूत होती हैं, उनका हृदय निश्चित रूप से मजबूत होता है।
बुढ़ापा पैरों से ऊपर की ओर शुरू होता है।
जैसे-जैसे व्यक्ति बड़ा होता है, मस्तिष्क और पैरों के बीच निर्देशों के संचरण की सटीकता और गति कम हो जाती है, इसके विपरीत जब कोई व्यक्ति युवा होता है।
️इसके अलावा, तथाकथित अस्थि उर्वरक कैल्शियम जल्दी या बाद में समय बीतने के साथ खो जाएगा, जिससे बुजुर्गों को हड्डियों के फ्रैक्चर का खतरा अधिक हो जाएगा।
बुजुर्गों में अस्थि भंग आसानी से जटिलताओं की एक श्रृंखला को ट्रिगर कर सकता है, विशेष रूप से घातक रोग जैसे मस्तिष्क घनास्त्रता।
क्या आप जानते हैं कि आम तौर पर 15 प्रतिशत वृद्ध रोगियों की जांघ की हड्डी में फ्रैक्चर के एक साल के भीतर मौत हो जाती है। ?
️* पैरों की एक्सरसाइज करने में कभी देर नहीं लगती, 60 साल की उम्र के बाद भी।
️हालांकि समय के साथ हमारे पैर/पैर धीरे-धीरे बूढ़े हो जाएंगे, लेकिन हमारे पैरों/पैरों का व्यायाम करना जीवन भर का काम है।
केवल पैरों को मजबूत करके ही आगे बढ़ती उम्र को रोका जा सकता है या कम किया जा सकता है।
▪️कृपया रोजाना कम से कम 30-40 मिनट टहलें ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि आपके पैरों को पर्याप्त व्यायाम मिले और यह सुनिश्चित हो सके कि आपके पैर की मांसपेशियां स्वस्थ रहें।
यदि आप सहमत हैं तो आपको इस महत्वपूर्ण जानकारी को अपने सभी दोस्तों और परिवार के सदस्यों के साथ साझा करना चाहिए, क्योंकि हर कोई दैनिक आधार पर बूढ़ा हो रहा है।
(मनोहर गजपल्ला)

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here