तृष्णा रंग-रंगीली प्रीत …

0
827


जीवन तृष्णा का उपनाम

तृष्णा अमृत रस का पान

अमर है तृष्णा का अभिमान !! …

तृष्णा छलती बन मृगतृष्णा

तृष्णा मृग मरीचिका वितृष्णा

तृष्णा वासंती उन्माद

तृष्णा पतझड़ में भी फाग

तृष्णा जैसे बंधन प्रिय से

तृष्णा जैसे क्रंदन हिय में

तृष्णा जैसे राह चुभन की

तृष्णा जैसे चाह मिलन की

जीवन तृष्णा का उपनाम

तृष्णा अमृत रस का पान

अमर है तृष्णा का अभिमान !! …

तृष्णा एक मकर क्षुद्रा है

तृष्णा एक अभिसार मुद्रा है

तृष्णा जैसे मचले जोबन

तृष्णा जैसे विरही जोगन

तृष्णा ज्यों कल्पना मन की

तृष्णा ज्यों वासना तन की

तृष्णा अंतरतम की प्यास

तृष्णा प्रतीक्षा तृष्णा आस

जीवन तृष्णा का उपनाम

तृष्णा अमृत रस का पान

अमर है तृष्णा का अभिमान !! …

तृष्णा जो ग्रन्थ है तन का

तृष्णा अनंत है मन का

तृष्णा काम का शर संधान

तृष्णा अद्भुत दैहिक गान

तृष्णा नेह तृष्णा मोह

तृष्णा भटकन उहापोह

तृष्णा जनम जनम की मीत

तृष्णा रंग-रंगीली प्रीत

जीवन तृष्णा का उपनाम

तृष्णा अमृत रस का पान

अमर है तृष्णा का अभिमान !! …

(पारिजात त्रिपाठी)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here